केरल : सेना ने पुल बनाकर बचाई 100 बाढ़ पीड़ितों की जान

 

केरल के कई क्षेत्रों में बाढ़ का पानी भर जाने से स्थिति और गंभीर हो गयी है. कोच्चि हवाई अड्डे पर शनिवार तक विमानों का परिचालन रोक दिया गया है. इस बीच, बुधवार को राज्य में 27लोगों की मौत होने के साथ बारिश और बाढ़ में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 72पहुंच गयी. अधिकारियों ने बताया कि राज्य के सभी 14 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है.

 

बारिश और बाढ़ का सामना कर रही केरल सरकार ने फैसला किया कि इस साल ओणम उत्सव मनाने के बजाए इस पर खर्च होने वाली राशि का इस्तेमाल राहत कार्यों के लिए किया जाएगा.

 

 

राज्य में उत्तर में कासरगोड से लेकर दक्षिण में तिरूवनंतपुरम तक सभी नदियां उफान पर हैं. मुल्लापेरियार समेत 35 बांधों के फाटक खोल दिये गये हैं. बुधवार को मुख्मयंत्री पिनारयी विजयन ने बताया था कि 25 लोगों की मौत होने के साथ ही राज्य में बारिश के चलते हुई घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 67 हो गयी है. दूसरी ओर कर्नाटक में भी भारी बारिश शुरू हो गई है.

 

तिरप्पली, पोनमुढी और मन्नार समेत कई बड़े पर्यटन केंद्र बंद कर दिये गये हैं जहां ओणम उत्सव के मौके पर बड़ी संख्या में पर्यटकों के पहुंचने की उम्मीद होती है.कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा परिसर में पानी घुस जाने के कारण उसे शनिवार तक बंद करने की घोषणा की गयी है. इंडिगो, एयर इंडिया और स्पाइस जेट ने कोच्चि हवाई अड्डा से अपना परिचालन बंद करने की घोषणा की है.

 

बारिश और बाढ़ का सामना कर रही केरल सरकार ने फैसला किया कि इस साल ओणम उत्सव मनाने के बजाए इस पर खर्च होने वाली राशि का इस्तेमाल राहत कार्यों के लिए किया जाएगा. आठ अगस्त से 20,000 मकानों और 10,000 किलोमीटर सड़क को नुकसान पहुंचा है.

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here