जब घायलों की मदद के लिए अपने निजी स्टाफ तक को भेज दिया पीएम मोदी ने

मिदनापुर: पश्चिमी मिदनापुर में पीएम मोदी की सभा के दौरान बड़ा हादसा हो गया. पीएम मोदी की सभा के दौरान पंडाल गिर गया.  पीएम मोदी ने बिना किसी देरी किए रैली में टैंट गिरने से घायल कार्यकर्ताओं की मदद के लिए अपने निजी स्टाफ, डॉक्टर और SPG को लगा दिया. वहीं सभी खत्म होने के तुरंत बाद मोदी खुद अस्पताल पहुँच घायलों से मुलाकात की और हालचाल पूछा और कहा कि हिम्मत है तो जल्द ही ठीक हो जाओगे. पीएम ने घायलों को ढांढस बंधाया.

गौरतलब है कि पीएम मोदी की सभा के दौरान टेंट गिर गया था. इस हादसे में 22 लोग घायल हो गए. हालांकि पीएम मोदी ने हालात को संभालते हुए अपनी सभा को जारी रखा.

 

ममता पर जोरदार हमला

पश्चिमी मिदनापुर किसान रैली में पीएम मोदी ने ममता सरकार पर जोरदार हमला बोला. उन्‍होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में विरोधियों का सफाया करने के लिए सिंडीकेट काम कर रहा है. उन्‍होंने कहा कि यह सिंडिकेट सिर्फ वोटबैंक की खातिर बनाया गया है. यहां पर वोट बैंक का इस्‍तेमाल सत्ता में बने रहने के लिए हो रहा है. बदले की भावना से जारी यह काम प्रदेश को संपूर्ण देश से अलग-थलग कर देता है. उन्‍होंने कहा कि यहां विरोधियों का कत्ल करने वाला सिंडीकेट काम कर रहा है. इस सिंडीकेट की इजाज़त के बिना पश्चिम बंगाल में कुछ भी नहीं हो सकता. यहां तक कि यहां पूजा करना भी मुश्किल हो गया है. स्‍थानीय भाषा में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ‘मां माटी मानुष’ के नारे का असली चेहरा सभी को देखना चाहिए.

 

बदले की भावना से हत्‍या

पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल में कानून व्‍यवस्‍था का मुद्दा उठाते हुए कहा कि यहां कानून का शासन नहीं है. पूरी तरह से अराजकता व्‍याप्‍त है. भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्‍याएं कराई जा रही हैं. राजनीतिक षडयंत्र के तहत ये सब हो रहा है. ताकि पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं को डराकर उन्‍हें घर में कैद करना संभव हो सके. उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में बदले की भावना से हत्‍याओं का दौर जारी है. उन्‍होंने अराजकता और हत्‍याओं से निजात दिलाने के लिए भाजपा ने कानून विरोधी तत्‍वों को चुनौती देने का काम किया है. भाजपा को इस काम में जनता का सहयोग मिलेगा. प्रदेश के लोगों ने भाजपा को खुलकर साथ देना शुरू कर दिया है. भाजपा को जनता का सहयोग मिलना इस बात का संकेत है ममता राज से यहां के लोग परेशान हैं और उन्‍हें सुशासन पर आधारित सरकार चाहिए न कि बदले की भावना से काम करने वाली सरकार.