मुरादाबाद: देवर नहीं पंसद तो ससुर से करो ‘हलाला’, तभी होगा निकाह

मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से हलाला के भंवर में फंसी एक मुस्लिम महिला का मामला सामने आया है. पीड़ित महिला का आरोप है उसे अपने शौहर से फिर से निकाह के लिए देवर या ससुर के साथ शारीरिक संबंध बनाने की शर्त रखी गयी. जानकारी मिलने पर रविवार को मदद के लिए तीन तलाक पीडि़तों की पैरोकार समीना बेगम ने गांव में पहुंचकर नाजरीन की दास्तां सुनी और उसे न्याय का भरोसा दिलाया.

 

जानें क्या है पूरा मामला?

मैनाठेर स्थित इमरतपुर उधौ की रहने वाली नाजरीन का निकाह सम्भल के नक्सा थाने के हिमामपुर निवासी रियासत से हुआ था. निकाह के बाद से ही देवर सलमान बुरी नजर रखने लगा था. पति से देवर की शिकायत करने पर उसे तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया. डेढ़ साल पहले नाजरीन ने थाने में तहरीर दी तो परिवार के लोग समझौता करने के बाद उसे वापस ले गए.

 

समीना के मुताबिक, मंगलवार को ससुर, पति, देवर, सास और ननद नाजरीन के घर पहुंचे थे और तय किया कि नाजरीन को देवर के साथ हलाला करना होगा, तब दोबारा से रियासत से निकाह करा दिया जाएगा. शर्त यह भी रखी गई कि यदि देवर पसंद न हो तो ससुर से भी हलाला कर सकती है. नाजरीन के इन्कार करने पर ससुराल पक्ष के लोगों ने थप्पड़ जड़ दिया. इसकी शिकायत संबंधित थाने में कर दी गई है. समीना ने बताया कि वह ससुराल पक्ष के लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई कराएंगी.

 

Also Read: हलाला मामले पर तीन तलाक पीड़िता बोली- ‘राहुल गांधी’ के घर जाऊंगी बारात लेकर

 

देवर की शिकायत करने पर दिया था तीन तलाक 

नाजरीन ने बताया कि पांच जून 2011 को उसका निकाह सम्भल के नक्सा थाने के हिमामपुर निवासी रियासत से हुआ था. निकाह के बाद से ही देवर सलमान बुरी नजर रखने लगा था. पति से देवर की शिकायत करने पर उसे तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया. नाजरीन के दो बेटे और एक बेटी है.

 

Also Read: बरेली: ससुर से हलाला के बाद महिला ने दिया बच्चे को जन्म, शौहर औलाद रखने को तैयार नहीं

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )