स्वतंत्रा दिवस पर योगी सरकार लगाएगी 9.16 करोड़ पौधे

 

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदितियनाथ ने 15 अगस्त 2018 को स्वतंत्रा दिवस के दिन 9.16 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य लिया  वृक्षारोपण का यह लक्ष्य वन एवं वन्य जीव विभाग तथा 22 अन्य विभागों के लिए निर्धारित किया गया है। मुख्यमंत्री ने सोमवार को विशेष वृक्षारोपण अभियान ‘वृहद वृक्षारोपण-2018’ की समीक्षा कर रहे थे।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पौधारोपण से ही हम प्रकृति का संरक्षण कर सकते हैं। प्रकृति को संरक्षित करके बेहतर भविष्य की संकल्पना को साकार किया जा सकता है। पौधारोपण के कार्यक्रम को सफल बनाने में जनसहभागिता आवश्यक है। इसके लिए जरूरी है कि लोगों को जागरूक किया जाए, उन्होंने कहा कि ‘एक व्यक्ति-एक वृक्ष’ के संकल्प को लेकर इस लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है।

 

उन्होंने कहा कि हम सब की जिम्मेदारी है कि वनीकरण को आदर्श स्थिति में लाया जाए। सरकार द्वारा इस वर्ष विशेष वृक्षारोपण अभियान के अन्तर्गत प्रदेश में कम से कम 9.16 करोड़ पौध रोपित करने का लक्ष्य रखा गया है। वृक्षारोपण का यह लक्ष्य वन एवं वन्य जीव विभाग तथा 22 अन्य विभागों के लिए निर्धारित किया गया है।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि काम करने की इच्छा शक्ति व सकारात्मक सोच से ही लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि इस वृहद कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आवश्यक है कि वृक्षारोपण कार्यक्रम की ब्राण्डिंग की जाए। लोगों को जागरूक करने के लिए प्रकृति संरक्षण के सम्बन्ध में स्लोगन लगवाए जाएं। वन विभाग एनओसी देते समय सम्बन्धित विभागों से वृक्षारोपण का शपथ पत्र प्राप्त करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में ईको-टूरिज्म की अपार सम्भावनाएं हैं, आवश्यकता है सिर्फ इसको बढ़ावा देने की।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छता हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, स्वच्छता को अपनाकर हम स्वस्थ व समर्थ भारत की संकल्पना को साकार कर सकते हैं। इसके दृष्टिगत सरकार ने विगत 15 जुलाई से 50 माइक्रॉन से कम के कैरी बैग को प्रतिबंधित कर दिया है और आगामी 2 अक्टूबर को पूरे प्रदेश में सभी प्रकार के डिस्पोजल भी प्रतिबंधित कर दिए जाएंगे। इन कार्यो से बेहतर पर्यावरण का निर्माण होगा, जो स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक है।

 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने बेल का एक पेड़ भी रोपित किया।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here