Breaking Tube
Administration Corona

अयोध्या: बाहर से आए प्रवासी मजदूरों पर नजर रखेंगी ग्राम व मोहल्ला निगरानी समितियां, यह है डीएम की योजना

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) प्रवासी मजदूरों (labourers) को वापस लाने के लिए अभियान चला रही है. रविवार को एक ट्रेन नासिक से आई है, दो और ट्रेन प्रवासी कामगारों श्रमिकों को लेकर गुजरात से आईं हैं. सोमवार भी महाराष्ट्र से तीन ट्रेन पहुंचेगी. इससे पहले भी दिल्ली, एमपी, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा से बड़ी संख्या में प्रवासी कामगार श्रमिक आ चुके हैं. यह मजदूर प्रदेश के कई जिलों के हैं, ऐसे में जिला स्तर पर भी इन्हे लेकर तैयारियां शुरू हो चुकीं हैं. अयोध्या (Ayodhya) जिलाधिकारी अनुज कुमार झा (DM Anuj Kumar Jha) ने ऐसे लोगों पर नजर रखने के लिए ग्राम व मोहल्ला स्तर पर निगरानी समितियों को गठन किया है, जो कि सोमवार से एक्टिव हो जाएंगी.


10 सदस्यीय समितियों का कार्य ग्राम व मोहल्ले में भ्रमण कर बाहर से आए लोगों के बारे में जानकारी करना है. निगरानी समितियों की नजर गांव या मुहल्ले में पैदल या निजी साधन से आए लोगों पर होगी. उनका विवरण एकत्र कर कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मेडिकल टीम से परीक्षण कराएंगी. कोरोना वायरस होने पर निगरानी समिति पर्यवेक्षण टीम को सूचित करेगी. क्वारंटीन के नियमों का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी.


वहीं इस मामले पर जिलाधिकारी अनुज झा ने बताया कि कई राज्यों से लौटे प्रवासी श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिंग के साथ ही एक निर्धारित प्रारूप पर नाम, गांव में आने का दिनांक, आने का साधन, पिता का नाम, उम्र, मोबाइल नंबर, सर्दी, खासी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ में होम क्वारंटीन या आश्रय स्थल मैं भेजने का उल्लेख करना होगा. उन्होने बताया कि थर्मल स्क्रीनिंग में किसी प्रकार के लक्षण मिलने पर सैंपल कोरोना जांच के लिए भेजा जाएगा. जांच रिपोर्ट आने के बाद मेडिकल की दृष्टि से अगला कदम उठाया जाएगा. डीएम ने बताया गांव व मुहल्ला निगरानी समिति के ऊपर गठित पर्यवेक्षण समिति में एडीओ व राजस्व निरीक्षक हैं. इसके गठन की सूचना जिला स्तरीय कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराना है. जिलाधिकारी के अनुसार अब 21 दिन के लिए बाहर से आए श्रमिकों को क्वारंटाइन किया जाएगा.


बता दें कि गुजरात, राजस्थान व प्रदेश के दूसरे जिलों से करीब 200 श्रमिक रविवार को यहां पहुंचे. इन्हें आठ बसों से यहां लाया गया है. सभी की जीआईसी में थर्मल स्क्रीनिंग कराई जा रही है. इनमें से पांच लोगों का नमूना कोरोना की जांच के लिए भेजा जाएगा. सभी को 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में रखा जाएगा. श्रमिकों को पुलिस की निगरानी में बस से उनके घर पहुंचाया जा रहा है, जिनके पास आवास नहीं है, उन्हें तहसीलों में बने आश्रयस्थल में रखा जाएगा.


प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने दिए हैं ये निर्देश

मुख्यमंत्री ने प्रवासी कामगार श्रमिकों के आगमन को देखते हुए निर्देश दिए हैं कि 12 से 15 लाख क्षमता के शेल्टर होम और क्वॉरेंटाइन सेंटर तैयार किए जाएं. सीएम योगी ने निर्देश दिए कि क्वारंटीन सेंटरों पर शुद्ध पेयजल, स्वच्छता, सुरक्षा और शौचालय की व्यवस्था का ध्यान रखा जाए. मुख्यमंत्री ने कम्युनिटी किचन की व्यवस्था को और सुदृढ़ करने के निर्देश दिए, जिससे हर प्रवासी कामगार श्रमिक को शुद्ध और ताजा भोजन उपलब्ध कराया जा सके. उन्होंने कहा क्वारंटीन सेंटर में हेल्थ चेकअप के बाद प्रवासी अगर स्वस्थ हैं तो खाद्य सामग्री और भरण पोषण भत्ता उपलब्ध कराकर घर होम क्वारंटाइन के लिए भेजा जाए. अगर किसी कामगार श्रमिक में अस्वस्थता के लक्षण हों तो क्वारंटाइन सेंटर में ही पूरा चेकअप करा कर अगर पॉजिटिव है तो आइसोलेशन वार्ड में उसकी व्यवस्था कराई जाए.


Also Read: मजदूरों का शोषण रोकने के लिए योगी सरकार तय करेंगी काम काम के घंटे और वेतन, अध्यादेश लाने की तैयारी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

यूपी : कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक कोरोना संक्रमित, पूरे परिवार को किया गया होम क्वारंटाइन

Shruti Gaur

UP: डिप्टी CM दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी को हुआ कोरोना, ट्वीट कर कहा- संपर्क में आए लोग भी करा लें जांच

BT Bureau

IPL की पंजाब किंग्स टीम ने लिया प्रण- राउंड टेबल इंडिया के साथ मिलकर कोरोना पीड़ितों की करेंगे मदद

BT Bureau