Breaking Tube
Business

RBI ने रेपो रेट 0.75% किया कम, टर्म लोन की EMI चुकाने में 3 महीने की मिलेगी छूट

RBI

कोरोनावायरस के प्रकोप की रोकथाम के लिए छेड़ी गई जंग में आर्थिक मोर्चे पर बड़ा कदम उठाते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को रेपो रेट में 75 आधार अंकों की कटौती की। आरबीआई के गर्वनर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि टर्म लोन की ईएमआई चुकाने में 3 महीने की छूट भी दी जाएगी।


कोरोना वायरस की वजह से बैंकों के कर्ज भुगतान में डिफॉल्ट की आशंका बढ़ गई थी। लेकिन, आरबीआई (RBI) ने साफ कहा है कि तीन महीने किश्त नहीं आने पर डिफॉल्ट नहीं माना जाएगा। कोई रेटिंग एजेंसी बैंकों की रेटिंग नहीं घटाएगी।


आरबीआई गर्वनर के ऐलान के 4 अहम प्वाइंट


1. टर्म लोन से छूट


  • सभी बैंकों के टर्म लोन की किश्त के भुगतान से 3 महीने की छूट मिलेगी।
  • शेयर बाजार की गिरावट से बैंक डिपॉजिट पर असर नहीं होगा, ग्राहकों का पैसा सुरक्षित रहेगा।

Also Read: कोरोना: सरकार की ओर से राहत पैकेज की उम्मीदों से शेयर बाजार में तेजी, 29000 से ऊपर खुला सेंसेक्स


2. रेपो रेट घटी


  • रेपो रेट अब 5.15% से घटकर 4.4% हो गई है। इससे सभी तरह के कर्ज सस्ते होंगे। मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी के 6 में से 4 सदस्यों ने रेट कट के पक्ष में वोट किया था।
  • कोविड-19 की वजह से दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई हैं। कोविड-19 का असर कितना होगा, यह अभी नहीं कहा जा सकता। हालांकि, क्रूड की कीमतें घटने से कुछ राहत मिलेगी।

3. सीआरआर भी कम हुई, बैंकों में नकदी बढ़ेगी


  • कैश रिजर्व रेश्यो (सीआरआर) 1% घटाकर 3% किया गया। सीआरआर घटने से बैंकों के पास ज्यादा नकदी रहेगी।
  • आरबीआई ने जो कदम उठाए हैं, उनसे सिस्टम में 3.74 लाख करोड़ रुपए की नकदी बढ़ेगी।
  • सभी बैंकों के टर्म लोन की किश्त के भुगतान से 3 महीने की छूट मिलेगी।

4. सरकार ने कई कदम उठाए


  • सभी नियमों और सरकार की सलाह का पालन करें तो कोविड-19 से मुकाबला कर पाएंगे।
  • देश की अर्थव्यवस्था को कोविड-19 के असर से बचाने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए।
  • आरबीआई की कोशिश रहेगी कि सिस्टम में नकदी की कमी नहीं हो। बैंक और वित्तीय संस्थानों को जरूरतमंदों को नकदी मुहैया करवाने पर पूरा ध्यान देना चाहिए।
  • कोविड-19 के चलते जीडीपी और मंहगाई दर के आउटलुक को लेकर फिलहाल अनिश्चितता है।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

चीनी हुई कड़वी

BT Bureau

Facebook और Twitter को टक्कर देने के लिए विकीपीडिया ने शुरू की नई सोशल साइट

Satya Prakash

RBI से उलझी मोदी सरकार को IMF की सलाह, केन्द्रीय बैंक की स्वतंत्रता में न दें दखल

BT Bureau