Breaking Tube
Business

बैकफुट पर WhatsApp, यूजर्स की नाराजगी के बाद रोकी नई Privacy Policy

यदि आप मेसेजिंग ऐप व्हाट्सएप यूज (WhatsApp privacy) करते हैं तो यह खबर आपके लिए खास है. जी हां…आप अगर इस एप की नई प्राइवेट पॉलिसी को लेकर चिंतित थे तो आगे की खबर आपके लिए राहत भरी है. दरअसल फेसबुक के स्वामित्व वाले मेसेजिंग ऐप व्हाट्सएप (WhatsApp updates) ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि वो अपनी प्राइवेसी अपडेट करने का प्लान फिलहाल के लिए स्थगित कर रहा है.


वॉट्सऐप यूजर्स को इसी महीने एक नोटिफिकेशन मिली थी जिसमें कहा गया था कि कंपनी नई प्रिवेसी पॉलिसी और नीतियां तैयार कर रही है. इस पॉलिसी के तहत फेसबकु के मालिकाना हक वाले इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप के यूजर्स का कुछ डेटा फेसबुक के साथ शेयर किया जाना है. इसके बाद दुनियाभर में बवाल छिड़ गया और यूजर्स तेजी से Telegram और Signal जैसे प्राइवेस मेसेजिंग ऐप्स पर स्विच करने लगे.


व्हाट्सएप ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा, ‘हम सुन रहे हैं कि हमारे लेटेस्ट अपडेट को लेकर काफी भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है. यह अपडेट फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की हमारी क्षमता का विस्तार नहीं करता है.’ व्हाट्सएप ने इससे पहले भी सफाई देते हुए कहा था, ‘हम आपके निजी संदेश नहीं देख सकते हैं या आपकी कॉल नहीं सुन सकते हैं और न ही फेसबुक ऐसा कर सकता है.’


व्हाट्सएप की ओर से कहा गया, ‘हम आपके मैसेज या कॉल का विवरण नहीं रखते हैं. हम आपके द्वारा शेयर की कई लोकेशन भी नहीं देख सकते हैं और न ही फेसबुक ऐसा कर सकता है.’ व्हॉट्सएप ने यूजर्स से कहा कि उनके डेटा को फेसबुक के अन्य उत्पादों और सेवाओं से जोड़ा गया है ताकि भविष्य में यूजर्स को बेहतर सेवाएं मिलती रहें. लेटेस्ट अपडेट से आपके दोस्तों या परिवार के साथ किए गए आपके मैसेज की निजता या गोपनीयता पर असर नहीं पड़ेगा. इस विवाद के बाद भारत सरकार भी कंपनी की निजता नीति में बदलाव की समीक्षा कर रही थी.


गौरतलब है कि व्हाट्सएप विवाद के बाद काफी यूजर्स ने ऐप को अपने फोन से हटाना शुरू कर दिया था. इस विवाद का फायदा सोशल मैसेजिंग ऐप टेलीग्राम और सिग्नल को मिला. सिग्नल को एक गैर-लाभकारी संस्था द्वारा चलाया जाता है. इसके को-फाउंडर ब्रायन एक्टन (Brian Acton) हैं, जो व्हाट्सएप के भी फाउंडर रह चुके हैं. एक्टन ने कहा, ‘हम अपने सर्वर को बढ़ा रहे हैं ताकि हमारे यूजर्स के हिसाब से हमारे पास पर्याप्त क्षमता हो. अभी जिस तरह से हमारी ऐप पर लोगों की संख्या बढ़ी है, हमने उसे मैनेज कर लिया है. हम उत्साहित हैं क्योंकि काफी भारतीय लोगों ने पिछले कुछ समय में सिग्नल ऐप को डाउनलोड किया है. हम इंडियन यूजर्स से अपने प्लेटफॉर्म पर फीडबैक को लेकर उत्सुक हैं.’


सिर्फ आम यूजर्स ही नहीं बल्कि कई बड़ी कंपनियों के CEO और Business Tycoons भी इस मैसेजिंग प्लेटफॉर्म (Messaging Platform) को छोड़कर दूसरी ऐप चुनने लगे हैं. प्राप्त जानकारी के मुताबिक पेमेंट गेटवे ऐप PhonePe के सीईओ समेत कंपनी के 1000 से ज्यादा कर्मचारियों ने अपने मोबाइल से WhatsApp हटा दिया है. अब ये कर्मचारी अपने सभी कार्यों के लिए Signal यूज करने लगे हैं. कंपनी के सीईओ समीर निगम (PhonePe CEO Sameer Nigam) ने ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी है.


Also Read: नई पॉलिसी के बाद यूजर्स छोड़ रहे WhatsApp, जानिए Facebook, Telegram और Signal पर आपका डेटा कहां और कितना सेव होता ?


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

वित्त मंत्री अरुण जेटली बोले- देश में होगी GST की एक दर, सरकार कर रही विचार

Jitendra Nishad

Lockdown के बीच व्हाट्सऐप ने यूज़र्स को दी सौगात, इस तरह करें दिल खोलकर बातें

Satya Prakash

नोटबंदी का वित्त मंत्री अरुण जेटली ने किया बचाव, गिनाए ये फायदे

BT Bureau