Breaking Tube
Corona

अय्याशी का अड्डा बना क्वारंटीन सेंटर, रखनी थी जहां शारीरिक दूरी, वहां खुलकर बनाए शारीरिक संबंध, जानें कैसे गर्भवती हुईं 3 तबलीगी महिलाएं

कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी से जहां देश-दुनिया में खौफ और दहशत का माहौल है, वहीं झारखंड की राजधानी रांची के खेलगांव क्‍वारंटाइन सेंटर में मौज-मस्‍ती और तबलीगी जमात की महिलाओं द्वारा शारीरिक संबंध (Tablighi Jamaat woman got Pregnant in Qurantine centre) बनाने को लेकर झारखंड में बवाल बढ़ गया है. यहां तब्‍लीगी जमात से जुड़ी 3 विदेशी महिलाएं गर्भवती मिलीं, जिसके बाद शासन-प्रशासन में पूरी तरह हड़कंप मच गया. नीचे से ऊपर तक खलबली का आलम यह है कि कोई भी अफसर मुंह खोलने को तैयार नहीं है. पुलिस, प्रशासन, स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और जेल के अधिकारी इस मामले से अपना पल्‍ला झाड़ने में लगे हैं.


बहरहाल, इस सनसनीखेज मामले के खुलने के बाद झारखंड के सियासी और प्रशासनिक महकमे में बवाल मचा है. पुलिस-प्रशासन से जेल तक की कड़ी निगरानी में रहने वाली 3 मुस्लिम महिलाएं गर्भवती मिली हैं. ये सभी तब्‍लीगी जमात से जुड़ी हैं और विदेशी है. उच्‍च न्‍यायालय से जमानत पाने के बाद जेल से बाहर आई इन महिलाओं के साथ जैसे ही उनके गर्भवती होने की सूचना बाहर आई, शासन में नीचे से लेकर ऊपर तक हंगामा बरप गया. कोई इसे क्‍वारंटाइन सेंटर की ऐश-मौज बता रहा, तो काेई इसे एपेडेमिक एक्‍ट की अनदेखी का गंभीर मामला बता रहा है.


महिलाओं के गर्भवती होने को लेकर हर कोई हैरान है. जिसे भी इतनी बड़ी बात की जानकारी हो रही है, वह शासन-प्रशासन की लापरवाही, ढिलाई, नरमी और कोरोना वायरस संक्रमण के फैलाव की इस तरह की अनदेखी को देख-सुनकर चौंक जा रहा है. इस मामले में हर कोई यही जानना चाहता है कि पहले क्‍वारंटाइन सेंटर और फिर बिरसा मुंडा जेल में करीब 4 महीना बिताने वाली तब्‍लीगी जमात से जुड़ीं 3 विदेशी महिलाएं 111 दिनों से पुलिस-प्रशासन की कड़ी निगरानी में रहने के बाद भी आखिर गर्भवती कैसे हुई.


शारीरिक दूरी के बजाय बनाए शारीरिक संबंध

दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक रांची के हिंदपीढ़ी में बड़ी मस्जिद से पकड़े गए तब्‍लीगी जमात के 17 विदेशी मौलवियों में 3 महिलाएं जेल से छूटने के बाद गर्भवती मिली हैं. हालांकि तथ्‍यों से पता चल रहा है कि ये जेल में नहीं राजधानी रांची के खेलगांव क्‍वारंटाइन सेंटर में गर्भवती हुई हैं. जहां शारीरिक दूरी बनाने के कड़े कायदे को दरकिनार कर इन महिलाओं ने खुलकर शारीरिक संबंध बनाए. नतीजतन वे गर्भवती हो गईं.


जानें कैसे हुईं गर्भवती

रांची के खेलगांव क्‍वारंटाइन सेंटर में जिन 3 तब्‍लीगी महिलाओं के गर्भवती होने के मामले ने देश-दुनिया में सुर्खियां बटोरी हैं, उसके पीछे सबसे बड़ी वजह शारीरिक दूरी के अनुपालन के बदले शारीरिक संबंध बनाने को कहा जा रहा है. इन महिलाओं के बीते दिन जेल से छूटने के बाद जो ताजा मेडिकल रिपोर्ट आया है, उसके मुताबिक ये तीनों महिलाएं खेलगांव क्‍वारंटाइन सेंटर में रहते हुए ही गर्भवती हुई हैं.


रांची पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक इन सभी विदेशियों को इस साल 30 मार्च को हिरासत में लिया गया था. इसके बाद सभी को खेलगांव के क्‍वारंटाइन सेंटर में रखा गया. न्‍यायिक प्रक्रिया के तहत इन पर महामारी एक्‍ट में मुकदमा दर्ज होने के बाद अदालत ने 18 अप्रैल को ज्‍यूडिशिय कस्‍टडी में भेज दिया. करीब 50 दिनों के बाद 20 मई को सभी 17 विदेशी मौलवियों को रांची के बिरसा मुंडा जेल भेज दिया गया, जहां 3 महिलाओं में से 2 ने एक माह का गर्भ होने की जानकारी मौखिक तौर पर जेल प्रशासन को दी. इधर 21 जुलाई, मंगलवार को सभी को झारखंड हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेल से रिहा कर दिया गया, इसके बाद क्‍वारंटाइन से जेल तक 3 तबलीगी महिलाओं के गर्भवती मिलने की खबर का खुलासा हुआ.


जांच से पहले एडिशनल कलक्टर का तबादला

राजधानी रांची के खेलगांव स्थित क्वारंटाइन सेंटर में तब्लीगी जमात की तीन महिलाओं के गर्भवती होने के मामले की जांच का जिम्मा रांची के उपायुक्त छवि रंजन ने बुधवार को रांची के एडिशनल कलक्टर (अपर समाहर्ता) को दिया था. जांच शुरू भी नहीं हुई थी कि एडिशनल कलक्टर का तबादला हो गया. और अब जांच कब शुरू होगी अभी यह कहना भी मुश्किल है. बहरहाल रांची से जांच पदाधिकारी, एडिशनल कलेक्टर सतेंद्र कुमार का तबादला तो कर दिया गया, लेकिन किसी को इस पद का प्रभार नहीं दिया गया है. जबकि रांची के उपायुक्त का कहना है कि जैसे ही एडिशनल कलक्टर की नियुक्ति हो जाएगी और वे पदभार ग्रहण कर लेंगे, क्‍वारंटाइन सेंटर में तब्‍लीगी जमात की 3 महिलाओं के गर्भवती होने के मामले की जांच शुरू हो जाएगी.


Also Read: स्टडी में दावा: केवल नाक, मुंह से ही नहीं बल्कि कान से भी घुस सकता है कोरोना वायरस


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

UP में आज 31,700 लोगों को लगेगा कोरोना का टीका, जानें वैक्सीन किसे नहीं है लगवाना? क्या हो सकते हैं साइडइफेक्ट?

BT Bureau

नेपाल में बैठे ‘जालीम मुखिया’ ने भारत में कोरोना फैलाने की रची साजिश, SSB ने किया पर्दाफाश

Jitendra Nishad

कानपुर: LIU इंस्पेक्टर, आरआई और सिपाही कोरोना पॉजिटिव, पुलिस लाइन के 800 पुलिसकर्मियों समेत SSP आवास तक संक्रमण का खतरा

Jitendra Nishad