Breaking Tube
Corona International

बाइडेन बोले- जैसे भारत ने हमारी की थी मदद, आज जब भारत को जरूरत है तो हम उसके साथ, पीएम मोदी से की फोन पर बात

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Corona Virus Infection in India) से मची तबाही के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (US President Joe Biden) से फोन पर बातचीत हुई हैं. मीडिया सूत्रों के मुताबिक दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने कोरोना महामारी से निपटने के तौर तरीकों को लेकर बातचीत हुई.


बाइडन ने भारत को समर्थन देने का लिया संकल्प

बातचीत के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई में भारत की गति से मदद करने का संकल्प लिया. व्हाइट हाउस ने बताया कि बाइडन ने मोदी से कहा कि अमेरिका और भारत कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में निकटता से मिलकर काम करेंगे.


व्हाइट हाउस ने फोन पर हुई बातचीत की जानकारी मुहैया कराते हुए कहा, ‘राष्ट्रपति ने कोविड-19 मामलों में हालिया बढ़ोतरी से प्रभावित भारत के लोगों को अमेरिका की ओर से लगातार समर्थन दिए जाने का संकल्प लिया.’


आपको बता दें कि अभी एक दिन पहले ही अमेरिका ने कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए भारत को रॉ मैटेरियल देने की बात का ऐलान किया था और कहा था कि महामारी के इस मुश्किल वक्त में वो भारत के साथ खड़ा है. इसके पहले अमेरिका ने कोविशील्ड वैक्सीन बनाने के लिए भारत को रॉ मैटेरियल देने की बात पर अपनी सहमति जताई थी.


संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत ने सोमवार को कहा कि वाशिंगटन कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में ‘भयावह’ बढ़ोत्तरी का सामना कर रहे भारत की मदद के लिए 24 घंटे लगातार काम करने की तैयारी के साथ तैयार है. उन्होंने आगे कहा कि भारत में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए बनाने वाली वैक्सीन के लिए कच्चा माल , ऑक्सीजन, वेंटीलेटर ऑक्सीजन उत्पादन और भारत में कोराना वैक्सीनेशन के विस्तार के लिए वित्तीय सहायता सहित हर मदद उपलब्ध कराने पर काम कर रहा है.


अमेरिका की राजदूत लिंडा थॉमस ग्रीनफील्ड ने मीडिया से बातचीत में बताया कि ‘मैं भारत में भयावह स्थिति के बारे में बताने के लिए एक मिनट लेना चाहती हूं. वहां कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में हाल में हुई बढ़ोत्तरी बहुत ही भयावाह है. इस संकट की घड़ी में अमेरिका भारत के लोगों के साथ खड़ा है.’ अमेरिकी राजदूत ने आगे कहा कि भारत को कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए कच्चा माल, त्वरित जांच किट, पीपीई किट, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन और ऑक्सीजन उत्पादन आपूर्ति सहित हर मदद उपलब्ध कराने के लिए कहा उन्होंने आगे कहा कि अमेरिका भारत की मदद के लिए वो सब कुछ काम कर रहा है जो कि भारत ने पिछले साल अमेरिका की मदद के लिए किया था. जितना अमेरिका से हो सकेगा वो भारत की उतनी अधिक से अधिक मदद के लिए तैयार खड़ा है.


बता दें कि भारत में बिगड़ते हालात पर अमेरिका की चुप्पी पर सवाल उठ रहे थे. इसके बाद अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) जेक सुलिवन ने रविवार को भारत के NSA अजीत डोवाल से फोन पर बात की. उन्होंने भारत में बढ़ते कोरोना केस पर चिंता जाहिर की. सुलिवन ने कहा कि भारत में बन रही कोवीशील्ड वैक्सीन के लिए जिस कच्चे माल की जरूरत होगी, अमेरिका उसे तुरंत मुहैया कराएगा. इसके अलावा अमेरिका की तरफ से भारत को रेपिड टेस्ट किट, वेंटिलेटर्स और PPE किट भी उपलब्ध कराई जाएगी.


एक्सपर्ट की टीम भारत आएगी

अमेरिका भारत को तुरंत ऑक्सीजन और उससे जुड़ी सप्लाई देने का विकल्प भी ढूंढ रहा है. उन्होंने कहा कि अमेरिका कुछ एक्सपर्ट की टीम भेजेगा, जो सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (CDC), यूएस एड, अमेरिकी दूतावास और भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर काम करेगी. अमेरिका का डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन (DFC) बॉयोलॉजिकल ई कंपनी को बढ़ाने के लिए फंडिग देगा, ताकि कंपनी 2022 के अंत तक भारत में कोविड-19 की 10 करोड़ वैक्सीन बना सके.


Also Read: कोरोना से लड़ाई के लिए ऑस्ट्रेलियाई पेसर पीएम केयर्स फंड में 37 लाख रुपये दान दिए, लोग बोले- भारतीय क्रिकेटरों को लेनी चाहिए प्रेरणा


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

कोरोना से बच्चों को बचाने के लिए योगी सरकार की पहल को बॉम्बे HC ने सराहा, WHO और नीति आयोग भी कर चुका है ‘यूपी मॉडल’ की तारीफ

BT Bureau

UP: लॉकडाउन में छूट देने के मूड में नहीं दिख योगी सरकार

BT Bureau

UP: सीएम के फैसले पर पत्रकार संगठनों ने जताया आभार, कहा- मृतक पत्रकारों के परिजनों को 10 लाख की मदद के लिए धन्यवाद योगी जी

Jitendra Nishad