Breaking Tube
Crime

राजस्थान: साधु के बाद अब दलित युवक को जिंदा जलाया गया, डीप फ्रीजर में मिला अधजला शव

Rajasthan Dalit youth burnt alive

एक दर्दनाक घटना में, राजस्थान (Rajasthan) के अलवर जिले में एक शराब ठेकेदार ने सेल्समैन के रूप में काम करने वाले एक दलित युवक (Dalit Youth) को कथित रूप से पांच महीने का अपना बकाया वेतन मांगने पर उसे आगे के हवाले कर दिया। पुलिस ने कहा कि कमल किशोर का अधजला शव बाद में शराब की दुकान में डीप फ्रीजर में मिला।


कमल के भाई रूप सिंह ने खैरथल पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई, जिसमें उसने बताया कि शराब ठेकेदार सुभाष और राकेश यादव से बकाया वेतन मांगने पर कमल किशोर को जिंदा जला दिया गया। इस वारदात को अंजाम देने के बाद से ही दोनों फरार हैं।


Also Read: मेरठ: तमंचे के बल पर महिला से गैंगरेप, मेहताब समेत तीन के खिलाफ केस दर्ज


भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया ने सोमवार को ट्वीट कर लिखा कि ऐसा लगता है कि हम अफ्रीका में सोमालिया में रह रहे हैं, जहां कोई कानून-व्यवस्था नहीं है। क्या सीएम अशोक गहलोत को अपने पद पर रहने का कोई हक है। उन्होंने एक हैशटैग क्राइमकैपिटलराजस्थान भी लगाया।


राजस्थान के एक मंदिर के पुजारी को जमीन के विवाद में जिंदा जलाने के बाद अब जिंदा जलाने की ये दूसरी घटना सामने आई है। पुलिस के अनुसार, अलवर के झड़का गांव के रहने वाले मृतक कमल किशोर (22) की शनिवार की रात कमपुर गांव में जलने से मौत हो गई।


Also Read: बागपत: अगवा लोहा व्यापारी को 7 घंटों के भीतर पुलिस ने किया सकुशल बरामद, बदमाशों ने मांगी थी 1 करोड़ की फिरौती


पुलिस ने कहा कि एक फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल का दौरा किया। पुलिस ने कहा कि मामले में और सबूत मिलने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। वहीं, रूप सिंह ने आरोप लगाया कि कमल किशोर का वेतन पिछले पांच महीनों से बकाया था। वह घर लौट आया, लेकिन शनिवार शाम को, ठेकेदार और उनके साथी उसके घर पहुंचे और कमल किशोर को अपने साथ ले गए।


रूप सिंह के मुताबिक, रात में कमल किशोर के अंदर होने के बावजूद शराब की दुकान में पेट्रोल डालकर आग लगा दी गई। रविवार की सुबह, जब दुकान के शटर को तोड़ा गया तो कमल किशोर फ्रीजर के अंदर मृत पाया गया। पुलिस शव को ऑटोप्सी के लिए खैरथल सैटेलाइट अस्पताल में ले गई। अपराधियों की गिरफ्तारी और न्यायायिक जांच की मांग कर रहे परिजनों ने रविवार शाम तक पोस्टमार्टम नहीं होने दिया था।


दिनभर की मशक्कत, समझाने-बुझाने के बाद आखिरकार पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

बाराबंकी: दारोगा पर लटकी विभागीय कार्रवाई की तलवार, घर में घुसकर मारपीट और तोड़फोड़ करने का आरोप

BT Bureau

‘गोरक्षकों के खिलाफ मुकदमें वापस नहीं लिए तो पूरा अलीगढ़ जलेगा’, पुलिस को मिली धमकी से मचा हड़कंप

BT Bureau

विवेक हत्याकांड: जमानत पर रिहा सिपाही संदीप कुमार को कोर्ट ने माना हत्या का दोषी, 22 मार्च को सरेंडर करने का आदेश जारी

Jitendra Nishad