Breaking Tube
Crime

जेल में ही रहेगा भगवान राम और सीता पर अभद्र टिप्पणी करने वाला मुनव्वर फारुकी, HC बोला- ‘बख्शना नहीं चाहिए ऐसे लोगों को’

भगवान राम और देवी सीता पर अभद्र टिप्पणी करने वाले इंदौर जेल में बंद स्टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी (Comedian Munawar Faruqui) को बड़ा झटका लगा है. सोमवार को जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने बेहद सख्त टिप्पणी की. सुनवाई के दौरान जस्टिस रोहित आर्य ने कहा, “लेकिन आप किसी और की धार्मिक भावनाओं का गलत फायदा क्यों उठाते हैं? आपकी विचारधारा के साथ क्या दिक्कत है? बिजनेस के लिए आप ऐसा कैसे कर सकते हैं?” कोर्ट ने कहा कि ‘ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए.’


इसके बाद जज ने वरिष्ठ वकील विवेक तन्खा से पूछा कि क्या वो एप्लीकेशन वापस लेना चाहते है या नहीं. इस पर तन्खा ने कहा, “उन्होंने इस मामले में कोई गुनाह नहीं किया है लॉर्डशिप. जमानत दी जानी चाहिए.” जज ने जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.


जमानत याचिका का विरोध करने वाले कुछ हस्तक्षेपकर्ताओं ने पीठ को बताया कि कथित कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी ने हिंदू देवताओं और देवताओं के खिलाफ अत्यधिक आपत्तिजनक बयान दिए हैं. एक वकील ने कहा, “आरोपित मुनव्वर फारूकी ने पहले कई ऐसे वीडियो पोस्ट किए हैं, जो 18 महीने पहले सोशल मीडिया पर प्रसारित किए गए थे. उनकी यह टिप्पणी 18 महीने पहले की गई थी. उन्होंने तीन अलग-अलग मौकों पर, यानी कॉमेडी शो में इन बयानों को दोहराया. इसे देखकर अन्य कॉमेडियन भी हिन्दू देवी-देवताओं पर ऐसे चुटकुले बना रहे हैं. 70% कॉमेडियन ऐसा कर रहे हैं.


जब पीठ ने पूछा कि क्या अन्य वकील जमानत याचिका का विरोध कर रहे हैं? तो एक अन्य वकील ने भी आरोप लगाया कि फारूकी ने भगवान राम और सीता के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिए. इसके बाद न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा, “ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए. मैं आदेश सुरक्षित रखता हूँ.” जज ने जमानत अर्जी पर आपत्ति जताने वाले अन्य लोगों से संबंधित दस्तावेज और सबूत दाखिल करने को कहा. अदालत ने फारूकी के सह-कलाकार के रूप में गिरफ्तार सह-आरोपित नलिन यादव की जमानत याचिका पर भी आदेश सुरक्षित रखा है.


बताया जा रहा है कि फारूकी और उसके साथ दूसरे आरोपित को अभी दो और रातें कस्टडी में बितानी पड़ सकती हैं. मामले की अगली सुनवाई आने वाले बुधवार को हो सकती है. बता दें कि मुनव्वर फारूकी की तरफ से दायर हुईं पहली दो जमानत याचिकाएं खारिज हो चुकी हैं. ये तीसरी याचिका है और हाई कोर्ट में पहली. इस याचिका पर 15 जनवरी को सुनवाई होनी थी लेकिन पुलिस ने केस डायरी जमा नहीं की थी, इसलिए मामले को दो हफ्ते बाद के लिए स्थगित कर दिया गया.


बता दें कि उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में भी मुनव्वर फारूकी के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है. यूपी पुलिस मुनव्वर फारूकी को रिमांड पर उत्तर प्रदेश लाने की तैयारी में है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने मध्य प्रदेश में जेल प्रशासन से कहा है कि ‘फारूकी को जमानत मिलने के बाद भी छोड़ा न जाए. यूपी पुलिस का कहना है कि वो मुनव्वर के खिलाफ मई 2020 में कहीं गई अभद्र टिप्पणी मामले में गिरफ्तारी के लिए प्रोडक्शन वारंट ले रहे हैं.


ये है मामला

गौरतलब है कि 2 जनवरी को भाजपा की स्थानीय विधायक (BJP MLA) मालिनी लक्ष्मणसिंह गौड़ के बेटे एकलव्य सिंह गौड़ अपने साथियों के साथ एक कॉमेडी शो (Indore Comedy Show case) में बतौर दर्शक पहुंचे थे. आरोप है कि इस कार्यक्रम में हिंदू देवी-देवताओं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और गोधरा कांड को लेकर अभद्र टिप्पणियां की गई थीं. कॉमेडी शो में की गईं कुछ टिप्पणियों का एकलव्य सिंह गौड़ ने विरोध किया और कार्यक्रम रुकवा दिया. बाद में शो की वीडियो फुटेज के साथ एकलव्य ने तुकोगंज थाने में लिखित शिकायत देकर गुजरात के जूनागढ़ के रहने वाले स्टैंड अप कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी और चार स्थानीय लोगों के खिलाफ शुक्रवार देर रात मामला दर्ज कराया.


Also Read: कानपुर: PFI का समर्थन करने वाले अजमेर शरीफ के खादिम सैयद सरवर चिश्ती के खिलाफ FIR दर्ज


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

प्रयागराज लोटन निषाद मर्डर: योगी के निर्देश पर हत्यारे मो. सोना पर NSA, जमातियों पर टिप्पणी के चलते की थी हत्या

BT Bureau

यूपी : घर में घुसकर सपा नेता को मारी गोली, नौकर ने खोली पत्नी की पोल

BT Bureau

बुलंदशहर में Love Jihad?, BSC की छात्रा का अपहरण, पिता ने अरशद के परिवार पर लगाया आरोप

BT Bureau