Breaking Tube
Crime

रणजीत बच्चन हत्याकांड: पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, पकड़ा गया मुंबई में छिपा शूटर

Ranjit bachchan murder

उत्तर प्रदेश पुलिस ने अखिल भारतीय हिंदू महासभा (एबीएचएम) के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की हत्या (Ranjit bachchan murder) के मामले में पुलिस को बड़़ी कामयाबी हासिल हुई है। पुलिस की टीम ने एक शूटर को गिरफ्तार किया है। रणजीत बच्चन की हत्या के बाद ये शूटर ट्रेन से मुंबई से भाग गया था। मुंबई में वह लगातार लोकेशन बदलता रहा लेकिन उसकी तलाश में मुम्बई पहुंची पुलिस ने उसे बुधवार को पकड़ लिया। पुलिस सूत्रों का दावा है कि बुधवार देर रात अथवा गुरुवार सुबह तक उसे लखनऊ लाया जायेगा।


जानकारी के अनुसार, क्राइम ब्रांच ने जब रणजीत की पहली पत्न कालिन्दी व गोरखपुर में कई रिश्तेदारों से पूछताछ की तो एक महिला का नाम सामने आया। इस महिला को लेकर रणजीत का कुछ लोगों से विवाद भी हुआ था। इसके बाद ही पड़ताल आगे बढ़ी तो इस महिला की कॉल डिटेल से कुछ संदिग्ध लोग के नाम सामने आये। फिर गुत्थी सुलझती चली गई। मंगलवार को पता चला कि एक संदिग्ध युवक घटना के दिन लखनऊ में था, फिर हत्या के दूसरे दिन यानी सोमवार को उसकी लोकेशन मुंबई में निकली थी।


Also Read: रणजीत बच्चन हत्याकांड: STF ने गोरखपुर और रायबरेली से 4 लोगों को हिरासत में लिया


बता दें कि विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की रविवार सुबह राजधानी के परिवर्तन चौक स्थित ग्लोब पार्क के पास दो बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या उस वक्त की गई जब रणजीत अपने दोस्त व रिश्तेदार आदित्य श्रीवास्तव के साथ ग्लोब पार्क के मुख्य गेट के सामने मॉर्निंग वॉक कर रहे थे। गोली आदित्य को भी लगी। घटना के बाद बदमाश वहां से पैदल भाग निकले। पुलिस ने बताया था कि रणजीत ओसीआर बिल्डिंग से निकलकर सुबह 6 बजे ग्लोब पार्क के पास पहुंचे थे। तभी पार्क के गेट पर पीछे से शॉल ओढ़े आए युवकों ने उन्हें रुकने को कहा और पिस्तौल निकाल दोनों के मोबाइल छीनने के बाद गोली मार दी।


रणजीत की हत्या में पुलिस ने घायल आदित्य की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी। इस हत्याकांड में लूट, रंजिश, पारिवारिक विवाद, लेनदेन सहित कई बिंदुओं पर पड़ताल कर रही पुलिस ने रविवार शाम तक छह लोगों से पूछताछ की। गोरखपुर से एक संदिग्ध को भी उठाया था। लखनऊ में रणजीत पत्नी कालिंदी के साथ ओसीआर बिल्डिंग के बी ब्लॉक में फ्लैट नंबर 604 में रहते थे। यह आवास 2013 में सपा सरकार ने कालिंदी की संस्था को आवंटित किया था।


Also Read: PM मोदी ने किया राम मंदिर ट्रस्ट का ऐलान, ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ करेगा अयोध्या में मंदिर का निर्माण


पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने ड्यूटी में लापरवाही पर केडी सिंह बाबू स्टेडियम चौकी प्रभारी संदीप तिवारी व परिवर्तन चौक पर लगी पीआरवी के तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर इनके खिलाफ जांच के आदेश दिए थे। हत्यारों की तस्वीर जारी कर 50 हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर दिया। हत्याकांड के खुलासे के लिए एसटीएफ के अलावा पुलिस व क्राइम ब्रांच की आठ टीमें लगाई गई थीं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

एकतरफा प्यार में दलित नाबालिग को घर में घुसकर जिंदा जलाया, गांव में सांप्रदायिक तनाव

BT Bureau

CAA प्रोटेस्ट: महिला का आरोप- प्रदर्शनकारियों को बिरयानी खिलाने के लिए नहीं दिए 2 हजार तो जमकर की पिटाई

BT Bureau

गाजियाबाद: पुलिस की बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ में अवैध हथियार तस्कर घायल, सिपाही को लगी गोली

BT Bureau