Breaking Tube
Crime UP News

अजीत हत्याकांड में सुनील राठी गैंग का हाथ!, करीबी शूटर का नाम आया सामने

लखनऊ में हुए अजीत सिंह हत्याकांड में अब नई नयी बातें सामने आने लगीं हैं. दरअसल, जाँच में अब ये बात सामने आ रही है कि अजीत पर गोलियां बरसाने में सुनील राठी के करीबी राजेश तोमर का भी हाथ है. सुनील राठी का नाम मुन्ना बजरंगी की हत्या में भी सामने आया था. अब अजीत सिंह हत्याकांड में इसका नाम सामने आने से मामला और उलझता जा रहा है.


सुनील राठी गैंग का नाम आया सामने

जानकारी के मुताबिक, हाल ही में पकड़ा गया शूटर चंदौली निवासी संदीप सिंह उर्फ बाबा है. उसी ने बताया कि अजीत की गोली से घायल शूटर अलीगढ़ निवासी राजेश तोमर है. पुलिस ने संजय सिंह और देवेंदर सिंह नाम के दो व्यक्तियों को भी पकड़ा है जो अजीत की हत्या में शामिल थे या शूटरों के मददगार थे. ऐसी खबर सामने आ रही है कि संदीप सुनील भाटी गैंग से जुड़ा हुआ है.


Also Read : लखनऊ: मुख्तार अंसारी के करीबी पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गैंगवार में हत्या, दर्ज थे 17 आपराधिक मुकदमें


बता दें कि सुनील राठी वही माफिया है, जिसने बागपत जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या की थी. राजेश तोमर अब भी फरार है. शूटर संदीप सिंह उर्फ बाबा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुख्यात माफिया सरगना सुनील भाटी गिरोह से जुड़ा है. गैंगवार के दौरान घायल शूटर राजेश तोमर भी सुनील भाटी गैंग का सदस्य बताया जा रहा है. हालांकि, पुलिस अधिकारियों ने अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है.


जाँच में जुटीं टीमें

लखनऊ में हुए गैंगवार और अजीत सिंह की हत्या, घायल शूटर का इलाज कराने में पूर्व सांसद धनंजय सिंह के सहायता करने तथा शूटर के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुख्यात गैंगस्टर सुनील भाटी का करीबी होने में पुलिस व अन्य जांच एजेंसियां कई समीकरण तलाश रही हैं. अजीत बाहुबली मुख्तार अंसारी से जुड़ा था, इसलिए उसकी मौत को पूर्व में बागपत जेल में मारे गए मुख्तार के करीबी रहे मुन्ना बजरंगी व पुष्पजीत सिंह और तारिक की हत्या की कड़ी माना जा रहा है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

रामपुर: 6 साल की मासूम के बलात्कारी हत्यारे नाजिल को योगी की पुलिस ने मारी गोली, मुठभेड़ में हुआ गिरफ्तार

S N Tiwari

UPPSC Result: डिप्टी SP बनकर बेटे ने बढ़ाया सिपाही पिता का मान, PAC क्वार्टर में पढ़ाई कर हासिल की 10वीं रैंक

Shruti Gaur

सर्वे: 2020 के सबसे तेज मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ, लोकप्रियता की वजह बने ये फैसले

BT Bureau