Breaking Tube
Crime

यूपी: लॉकडाउन तोड़ने पर 10803 FIR दर्ज, 4.97 करोड़ वसूला गया जुर्माना

भले ही पूरे देश में लॉकडाउन है, Corona के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। बावजूद लोग घरों के बाहर घूमने से बाज नहीं आ रहे हैं। इतना ही नहीं मार्केट बन्द होने के चलते कई जगह कालाबाजारी भी हो रही है। इसी के चलते पुलिस भी ऐसे लोगों पर कार्रवाई कर रही ही। अगर सिर्फ यूपी की बात करें तो उत्तर प्रदेश में हजारों एफआईआर दर्ज की गईं। वहीं लॉकडाउन का फायदा उठाकर जमाखोरी और कालाबाजारी करने के मामलों में भी 230 एफआईआर दर्ज की गई हैं।


ये हैं आंकड़े

अगर लॉकडाउन के 14वें दिन की बात करें तो उत्तर प्रदेश में 10,803 एफआईआर दर्ज की गईं। वहीं लॉकडाउन का फायदा उठाकर जमाखोरी और कालाबाजारी करने के मामलों में भी 230 एफआईआर दर्ज की गई हैं। बेवजह लॉक डाउन तोड़ने वालों से 4.97 करोड़ रुपये बतौर जुर्माना वसूला गया। यूपी के एडीजी एलओ पीवी रामाशास्त्री ने पहले ही ये साफ कहा दिया था कि किसी भी ऐसे व्यक्ति को माफी नहीं मिलेगी जो लॉक डाउन का बेवजह उल्लंघन करेगा।


Also read: लखनऊ: बेसहारा घूम रही 90 वर्षीय बुजुर्ग महिला के लिए मसीहा बनी UP 112, कड़ी मेहनत के बाद रिश्तेदार से मिलाया


बेवजह कानून तोड़ रहे लोग

यूपी में लोग किसी ना किसी बहाने से लॉक डाउन तोड़ रहे हैं। इतना ही नहीं लोग कार या बाइक से बच्चों और फैमिली को लेकर निकलते हैं ताकि पुलिस ज्यादा सख्ती ना कर पाए। ऐसा करके उनके पूरे परिवार की जान खतरे में आ जाती है, ये बात लोग नहीं समझ रहे।


पुलिस का कहना है कि सुबह 12 बजे तक राशन, दूध, और फल-सब्जी की दुकानें खुली रहती हैं। ये समय सबसे मुश्किल होता है। इस समय लोग अपने घरों के पास मौजूद दुकानों से सामान लेने की जगह दूर स्थित दुकानों से सामान लेने निकल पड़ते हैं। 


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

UP ATS की बड़ी कामयाबी, ISI खुफिया एजेंट राशिद अहमद वाराणसी से गिरफ्तार

Shruti Gaur

यूपी: पेशी पर आया कैदी कटघरे से हुआ फरार, देखते रहे पुलिसवाले और जज

Jitendra Nishad

टयूशन पढ़ाने के बहाने 8 साल की बच्ची से किया रेप, आरोपी मौलाना गिरफ्तार

BT Bureau