19 नवंबर को मनाई जायेगी देव दिवाली, हॉट एयर बलून से निहार सकेंगे दीयों से जगमगाती काशी

हर साल की तरह इस साल भी काशी यानी कि वाराणसी में देव दीपावली बड़ी ही धूमधाम से मनाई जायेगी. ख़बरों की मानें तो इस बार भी देव दीपावली भव्य और दिव्य होने वाली है. 15 लाख से ज्यादा दीपों की रोशनी से 84 घाट जगमग किए जाएंगे. इसके साथ ही दर्शक इस बार हॉट एयर बैलून के अलावा लेजर शो और इलेक्ट्रिक आतिशबाजी का लुफ्त भी उठा सकेंगे. इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर भी तैयारियां अंतिम मुकाम पर है. प्रशासन ने इसके लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम भी कर लिए हैं.

हॉट एयर बैलून की सैर होगी ख़ास

जानकारी के मुताबिक, वाराणसी में विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली काफी भव्य और व्यापक स्तर पर मनाई जाती है. इस दिन दुनिया भर से सैलानियों का जमावड़ा घाटों पर लगता है. नौकाओं पर बैठकर लोग देव दीपावली के नजारे का आनंद लेते हैं. इस देव दीपावली यानि कि 19 नवंबर को 15 लाख दीपों से काशी के 84 घाट जगमग होंगे. इसके लिए पर्यटन विभाग ने तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है. देव दीपावली पर पिछले साल भी काशी के घाटों को 15 लाख दीयों की रोशनी से रोशन किया गया था, जबकि इस बार देव दीपावली को भव्य बनाने के लिए 15 लाख से अधिक दीयों को जलाया जाएगा.

इस साल जो खास होगा, वो है हॉट एयर बैलून की सैर. पर्यटन विभाग की ओर से प्राइवेट कंपनी को इसकी जिम्मेदारी दी गई है. जिसके बाद कंपनी की ओर से पायलट पहुंचे और उन्होंने सफलतापूर्वक इसका ट्रायल भी पूरा किया. ये आयोजन रेती के उस पार होगा, जिसकी जानकारी और टिकट चौकाघाट स्थित सांस्कृतिक संकुल में पर्यटन विभाग से मिलेगी. यानी इस बार देव दीपावली के नयनाभिराम नजारे को आप आसमान से भी निहार सकते हैं. हॉट एयर बैलून से आज यानी 17 नवंबर से शुरू होकर तीन दिन तक 19 नवंबर तक उड़ेंगे. इसके लिए सिगरा स्टेडियम, बीएलडब्लू परिसर, गंगा पार डोमरी और सीएचएस ग्राउंड का चयन किया गया है.

नदी में चलेंगी CNG नाव

बता दें कि इस देव दीपावली लोगों को गंगा का मनोरम दृश्य दिखाने के लिए बड़े पैमाने पर सीएनजी बोट चलेगी. इससे गंगा दुनिया की पहली नदी बन जाएगी जहां इतने बड़े पैमाने पर सीएनजी बोट आधारित होगी. सीएनजी नौकाओं की खासियत यह है कि यह डीजल इंजन के अपेक्षा आधे खर्चे में दोगुनी दूरी तय करेगी.

Also Read: योगी सरकार ने साढ़े 4 सालों में 80 लाख MSME इकाइयों को दिया कर्ज, 1.50 करोड़ से अधिक को मिला रोजगार

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )