Breaking Tube
Entertainment

Sui Dhaaga Review: सुई भी टूट गयी धागा भी कच्चा निकला मिले बस इतने ही स्टार्स

मौजी हमेशा कहता है ‘सब बढ़िया है’। सच भी है मौजी की दुनिया की दुनिया रचने वाले शरत कटारिया जिन्होंने ‘दम लगा के हईशा’ जैसी खूबसूरत फिल्म बनाई थी उन्हें लगा कि मौजी की दुनिया में सब बढ़िया है। लेकिन, जब इसे उन्होंने बड़े पर्दे पर फिल्माया तो दर्शकों को लगा सब तो बढ़िया नहीं है। यह कहानी है मौजी (वरुण धवन) की, कढ़ाई में माहिर और उसकी पत्नी ममता (अनुष्का शर्मा) की। मौजी जहां काम करता है वहां पर हर रोज उसका मजाक उड़ाया जाता है।

 

Image result for sui dhaaga

 

Also Read: कर्नाटक रक्षणा वेदिके संगठन ने किया सनी लियोनी की तमिल फिल्म वीरामहादेवी का विरोध, जलाये पोस्टर

 

एक दिन जब हद पार हो जाता है तो ममता को गुस्सा आ जाता है और वह मौजी को कहती है कि उसे अपने पांव पर खड़ा होना चाहिए और इसके बाद शुरू होता है उनकी ज़िंदगी में संघर्ष। पूरी फिल्म में मौजी और ममता के साथ खराब ही होता रहता है। कहीं जाकर आखिरी के 15 मिनट में दर्शकों को थोड़ी राहत मिलती है और लगता है कि हमारे हीरो-हीरोइन की ज़िंदगी में कुछ अच्छा हुआ!

 

स्टार कास्ट: वरुण धवन, अनुष्का शर्मा और रघुवीर यादव

निर्देशक: शरत कटारिया

निर्माता: यशराज फिल्म्स

 

अवधि: 2 घंटे 16 मिनट

 

Also Read: Thugs of Hindostan: आखिर क्यों, आमिर खान की फिल्म ठग्स ऑफ हिंदोस्तान पर मुंबई पुलिस ने किया ऐसा ट्वीट

 

कमजोर स्क्रीनप्ले, कहानी का रुक-रुक कर आगे बढ़ना, बत्ती गुल मीटर चालु वाली गलती का दोहराव संवाद में क्षेत्रीय भाषा का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल फिल्म को बोझिल बनाता है! हालांकि फिल्म को रियलिस्टिक बनाने की भरपूर कोशिश की गई है। मगर उसमें सिनेमैटिक लिबर्टी का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल फिल्म के रियलिज्म को समय-समय पर तोड़ता रहता है!

 

Image result for sui dhaaga

 

अभिनय की बात करें तो वरुण धवन ने जी जान लगाकर मौजी को खड़ा तो कर दिया पर दुर्भाग्य से निर्देशक लेखक शरत कटारिया ने मौजी को खड़ा रहने के लिए बहुत ही सीमित जगह बनाई थी! अनुष्का शर्मा के पास करने के लिए तो काफी कुछ था लेकिन, अनुष्का अपने अभिनय का कमाल नहीं दिखा पाई। रघुवीर यादव के हिस्से जितना आया उन्होंने निभाया।

 

फिल्म के गाने भी फिल्म का साथ नहीं दे रहे हैं। अनिल मेहता की सिनेमैटोग्राफी के कारण फिल्म दर्शनीय बन पाई है। चारू श्री रॉय को एडिटिंग पर थोड़ा और काम करना था। कुल मिलाकर ‘सुई धागा’ एक कच्चे धागे से बुनी हुई फिल्म है। इस कहानी को थोड़ा और पकाया होता तो शायद बेहतर फिल्म बन पाती!

 

Also Read: हनी सिंह के गाने ‘उर्वशी’ में शाहिद कपूर ने उड़ाई पूरे शहर की Big Boy Toys कारें

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

शिल्पा शेट्टी संग सोफी चौधरी ने जिम में लगाए ठुमके, B’day पर हुआ वीडियो वायरल

Satya Prakash

जबरदस्त एक्शन के साथ रिलीज़ हुआ प्रभास की फिल्म ‘साहो’ का ट्रेलर, दिखा रोमांस और देशभक्ति का जज्बा

Satya Prakash

दिशा पटानी के जबरदस्त डांस मूव्स देख फैंस के उड़े होश, Video वायरल

Satya Prakash