Breaking Tube
Entertainment

Sushant Case Update: क्या थी मौत की असल वजह? आज उठेगा राज से पर्दा

बॉलीवुड: दिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत मामले में अभी तक यह साफ़ नहीं हो पाया है कि उनकी हत्या हुई है या फिर आत्महत्या? यह सच आज यानी ( 20 सितंबर ) को सामने आने वाला है. सुशांत की विसरा रिपोर्ट आज सीबीआई को सौंपेगी एम्स की टीम. मौत की सटीक वजह सामने आ सकती है. जहर वाली अटकलों से भी पर्दा उठ सकता है. वहीं, एम्स की फॉरेंसिक टीम के हेड डॉ. सुधीर गुप्ता ने कहा, ‘सुशांत सिंह राजपूत की मौत की वजह एम्स की उस रिपोर्ट से पता लग जाएगी, जिसे वो आज सीबीआई को सौंपेगी. सुशांत की मौत के मामले में एक मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया है. आज ये बोर्ड सीबीआई को अपनी राय देगा.’


मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सुशांत मामले में ऐसे संकेत मिले हैं कि मुंबई पुलिस या मेडिकल बोर्ड की ओर से लापरवाही बरती गई है. सुशांत का शव परीक्षण और उनकी महत्वपूर्ण विसरा को ठीक से संरक्षित नहीं किए जाने को लेकर भी संकेत मिले हैं. एम्स में उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि एम्स में फॉरेंसिक मेडिसिन एंड टॉक्सिकोलॉजी साइंसेज विभाग द्वारा प्राप्त विसरा रिपोर्ट में बहुत कम जानकारी के साथ ही यह विकृत है.


सुशांत सिंह राजपूत मौत का पता लगाने के लिए विसरा का परीक्षण नई दिल्ली में एम्स के फोरेंसिक विभाग में किया जा रहा था. सूत्रों ने कहा, “विसरा को विकृत कर दिया गया है. यह रासायनिक और विषाक्त (टॉक्सिकोलॉजिकल) विश्लेषण को वास्तव में मुश्किल बनाता है.” कई मीडिया आउटलेट्स ने मुंबई पुलिस के इस रुख पर सवाल उठाया है कि अभिनेता ने आत्महत्या ही की है, इस संदर्भ में अब विसरा विश्लेषण से अभिनेता की मौत के रहस्य से पर्दा उठ सकता है.


आज होगी इस बात की पुष्टि-


सीबीआई द्वारा की जा रही जांच में सुशांत मामले की पुष्टि सही तरीके से हो जाएगी की सुशांत की मौत किसी प्रकार के ड्रग ओवरडोज से हुई है या उन्होंने साधारण तौर पर ही आत्महत्या की है. विसरा विश्लेषण से बॉलीवुड स्टार की मौत का सही तरीके से पता चल सकेगा. 15 जून को शव परीक्षण के बाद मुंबई के कूपर अस्पताल में पांच डॉक्टरों के मेडिकल बोर्ड ने सुशांत की मौत को फांसी का कारण ही बताया था. हालांकि उन्होंने अभी भी आगे की जांच के लिए विसरा को संरक्षित किया है. बोर्ड में कूपर पोस्टमॉर्टम सेंटर के तीन चिकित्सा अधिकारी संदीप इंगले, प्रवीण खंदारे और गणेश पाटिल शामिल थे. इसके साथ ही मुंबई में फोरेंसिक मेडिसिन के दो एसोसिएट प्रोफेसर थे.


सीबीआई ने शुरू की जांच-


विसरा, जिसमें आमतौर पर जिगर, अग्न्याशय और आंत सहित शरीर के आंतरिक हिस्से होते हैं, उन्हें एक बोतल में संरक्षित किया गया और पुलिस को सौंप दिया गया. बाद में विसेरा नमूना को मृत्यु की स्थिति में विषाक्तता या नशा से मुक्त करने के लिए फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशालाओं में परीक्षण के लिए भेजा गया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई है. मुंबई पुलिस ने कई गवाहों से पूछताछ की और फॉरेंसिक जांच की, लेकिन महत्वपूर्ण विसरा के नमूने का परीक्षण नहीं किया. इसके बाद, सीबीआई के अनुरोध पर, एम्स के प्रमुख फोरेंसिक विशेषज्ञों को प्रारंभिक जांच में मुख्य रूप से फोरेंसिक पहलुओं की जांच करने के लिए कहा गया. विशेषज्ञों को विसरा का नमूना भी दिया गया.


Also Read: दिशा पटानी ने फ्लावर प्रिंट फ्रॉक में ढाया कहर, तेजी से वायरल हो रही तस्वीरें


Also Read: रवि किशन के सपोर्ट में उतरीं अक्षरा सिंह, अनुभव सिन्हा से पूछा- अगर भोजपुरी में नंगा नाच तो बॉलीवुड में क्या पूजा होती है ? 


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

कंगना रनौत की इस अदा को देखकर फैंस हुए दीवाने, देखें वायरल पोस्ट

Satya Prakash

एली अवराम की इस हॉट वीडियो ने बढ़ाया सोशल मीडिया का तापमान

Satya Prakash

‘हेलीकॉप्टर ईला’ लाने के पहले ही डेंगू ने धीमी की काजोल की रफ्तार

Satya Prakash