Chhath Puja 2021: छठ पूजा को खास बनाती हैं ये 5 ट्रेडिशनल डिश, आप भी करें ट्राई

सभी जगह इस समय छठ पूजा की धूम मची हुई है। कल सुबह सूर्य को अर्घ्य देकर व्रती अपना व्रत खोलेंगी। दरअसल, 3 दिन के इस महापर्व में 36 घंटे निर्जला व्रत रख सूर्य देव और छठी मैया की पूजा और उन्हें अर्घ्य दिया जाता है। व्रत के बाद प्रसाद के रूप में कई तरह की डिशेज भी बनाई जाती हैं, जो सिर्फ छठ पूजा पर ही खाने को मिलती हैं। इनमे पांच डिशेज मूल रूप से शामिल हैं।

ठेकुआ

छठ पूजा में ठेकुआ सबसे जरूरी प्रसाद है। यह गेहूं के आटे, सूखे नारियल, चाशनी और घी से बनाया जाता है। ठेकुआ ज्यादातर छठ पूजा के दूसरे दिन तैयार किया जाता है और फिर इसे सूर्य देव को चढ़ाया जाता है।

विधि – ठेकुआ बनाने के लिए सबसे पहले गुड़ या चीनी को पानी में डालें और लगभग एक घंटे के लिए बर्तन को रख दें लेकिन हम यहां गुड़ का इस्तेमाल करेंगे। अगर गुड़ पूरी तरह से न पिघला हो तो उसे गैस पर तेज आंच में पिघला लें। अब गैस को बंद कर गुड़ के घोल को ठंडा होने दें। इस दौरान एक बर्तन में गेहूं का आटा छान लें। इसके बाद इसमें कद्दूकस किया हुआ नारियल, सौंफ, दो चम्मच घी, सौंफ को डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर दें। इसके बाद आटे को गुड़ के बानी से गूंथ लें। इस दौरान ध्यान रखें कि आटा सख्त गूंथा हों। अब इस आटे को लेकर गोल कर दोनों हथेलियों के बीच दबा दें। इसके बाद कढ़ाही में रिफाइन गर्म करें और उसमें ठेकुए को गोल्डन होने तक फ्राई करें। इस तरह ठेकुआ तैयार हो गया है।

कद्दू भात

कद्दू की सब्जी बिहार में छठ पर सबसे ज्यादा पसंद की जाती है। यह कद्दू को हिमालयन नमक या सेंधा नमक के साथ बनाया जाता है और घी में पकाया जाता है। इस स्वादिष्ट सब्जी को पूरी या चावल के साथ परोसा जाता है, जिससे यह व्रत तोड़ने के लिए एकदम सही डिश है।

हरा चना

हरा चना एक हेल्दी और स्वादिष्ट डिश है जो आपको छठ की विशेष थाली में जरूर मिलेगा। हरे चने को रात भर पानी में भिगोया जाता है और फिर अगले दिन घी में हरी मिर्च और जीरा के साथ तैयार किया जाता है।

रसिया

ये एक प्रकार की चावल की खीर है, जिसे छठ पूजा में विशेष रूप से बनाया जाता है। लेकिन इसमें चीनी की जगह गुड़ डाला जाता है। यह लगभग रेगुलर खीर की तरह चावल, पानी और दूध के साथ तैयार की जाती है। यह मिठाई छठ पूजा के खाने को पूरा करती है। खाने से पहले इसे सूर्य देवता को चढ़ाया जाता है। इसे दाल पुरी/पूड़ी/रोटी के साथ सर्व किया जाता है।

विधि – गुड़ की खीर ‘रसिया’ बनाने के लिए सबसे पहले एक बड़ा बर्तन लें और उसमें दूध डालकर उसे उबाल लें। इस दौरान सूखे मेवों को बारीक टुकड़ों में काटकर अलग रख लें। अब आधा कप चावल लें और उन्हें 2 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दें। इस बीच दूध में उबाल आ जाए तो उसमें चावल को डाल दें। अब दूध को चम्मच की मदद से चलाते रहें जिससे वह जल न जाए। तब तक ऐसा करें जब तक खीर में उबाल न आ जाए। जब उबाल आ जाए तो गैस की फ्लेम को धीमी कर दें। इस हर दो मिनट में चलाते रहें वर्ना खीर के बर्तन के तले पर चिपकने का डर बना रहेगा। अब एक अन्य बर्तन लें और उसमें आधा कप पानी और गुड़ को डालकर गैस पर गर्म करने के लिए रख दें। जब पानी में गुड़ पूरी तरह से घुल जाए तो गैस की फ्लेम को बंद कर दें इस दौरान दूध में डले चावल को चेक करें। जब वह पूरी तरह से मुलायम हो जाए तो उसमें सूखे मेवे काजू, बादाम, किशमिश को डाले दें। इन्हें खीर में अच्छी तरह से मिक्स करें। उसके बाद ऊपर से इलायची पाउडर डाल दें। अब खीर को ठंडा होने दें, उसके बाद गुड़ का घोल पहले छलनी से छान लें और फिर उसे खीर में मिला दें। इस तरह भोग के लिए गुड़-चावल की ‘रसिया’ बनकर तैयार हो गई है।

कसार के लड्डू

ठेकुआ और चावल की खीर के अलावा एक और तरह की मिठाई छठ पूजा में बनाई जाती है, जिसे कसार के लड्डू कहा जाता है। इसे बनाना बहुत ही आसान है और यह कुछ ही मिनटों में बनकर तैयार हो जाता है। कसार के लड्डू छठ पूजा पर बनाया जाने वाला एक ऐसा प्रसाद है जो संध्या अर्घ्य के दिन बनाया जाता है। इसे चावल का आटा, गुड़, घी और सौंफ के साथ बनाते हैं।

विधि – कसार लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले एक गहरे तले वाला बर्तन लें और उसमें दरदरा पीसा हुआ चावल डाल दें। अब इन चावलों में सौंफ और घी को डाल दें। इसके बाद गुड़ लें और उसे अच्छी तरह से कूटकर पीस लें कि वह पाउडर जैसा हो जाए। उसके बाद उसे भी इस मिश्रण में मिला दें। अब इन सभी सामग्रियों को अच्छी तरह से मिक्स कर दें। इसके बाद इन मिश्रण को अपने हाथ में लेकर दबाते हुए छोटे-छोटे गोल बॉल्स तैयार कर लें। इस तरह आपके कसार के लड्डू बनकर तैयार हो चुके हैं।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )