Breaking Tube
Government

CM योगी ने किया ‘भारतीय भाषा महोत्सव’ का आगाज, कहा- भाषा को बोझ न मान आर्थिक स्वावलंबन बनाएं

Bhartiya Bhasha Mahotsav

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को तीन दिवसीय भारतीय भाषा महोत्सव (Bhartiya Bhasha Mahotsav) का आगाज करते हुए भाषा के महत्व पर प्रकाश डाला। सीएम ने कहा कि शताब्दी वर्ष में भारतीय भाषा महोत्सव एक बड़ा कदम है। भाषाएं बोझ नहीं होती हैं बल्कि ये आर्थिक प्रगति और स्वावलंबन का आधार होती हैं। इससे विकास का मार्ग प्रशस्त होता है। सीएम योगी ने लखनऊ विश्वविद्यालय के मालवीय सभागार में आयोजित भारतीय भाषा महोत्सव कार्यक्रम में संबोधन के दौरान यह बात कही।


इस दौरान उन्होंने कहा कि हम सभी को पता है कि किसी भी मनुष्य की अभिव्यक्ति का आधार उसकी भाषा होती है। हर किसी के संवाद का माध्यम भी भाषा होती है। इसके बगैर अभिव्यक्ति संभव नहीं है। इसके बाद भी हमसे चूक हो जाती है। जिस भाव के साथ हम अपनी भाषा को व्यक्त करते है, वही हमारी ताकत है। भाषा, रोजगार का बहुत बड़ा माध्यम है। संस्कृत को भारत के ऋषि बहुत पहले रोजगार से जोड़ चुके हैं। मेरा मानना है कि संस्कृत पढ़ने वाला व्यक्ति कभी भूख से नहीं मर सकता, बशर्ते वह अपनी बुद्धि का उपयोग सही ढंग से करे। आप एक भाषा सीख लो तो आपका रास्ता आसान हो जाएगा। भाषा में मजबूती वाले यूपी मूल के शिक्षक पूरे देश में हैं।


Also Read: योगी सरकार में UP बना ‘अचीवर स्टेट’, अखिलेश राज में 14वें पायदान पर था अब हासिल किया 12वां स्थान


मुख्यमंत्री ने कहा कि भाषा को बोझ न मान आर्थिक स्वावलंबन बनाएं। प्रदेश सरकार की इंटर्नशिप स्कीम भाषा के साथ भी लागू होगी। यह तो हर जनपद में यूथ हब बनाने की स्कीम है। संस्कृत का व्यक्ति पुरोहित का कार्य करता है तो लोग उसे दक्षिणा भी देते हैं और पैर भी छूते हैं, इससे बड़ा सम्मान नहीं हो सकता। अवधी को भले ही भारतीय संविधान ने मान्यता न दी हो लेकिन भारत का जन-जन प्रतिदिन समर्थन देकर श्रीरामचरितमानस पढ़ता है। यह भारत की वास्तविक ताकत है और हमें इसे पहचानना होगा।


उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि हम आज भी अपने आपको पहचानने में भूल कर रहे हैं। तुलसीदास जी ने अवधी में श्रीरामचरितमानस के माध्यम से बहुत कुछ दिया। भक्ति के माध्यम से देश की स्वाधीनता की शक्ति को जगाने की ऊर्जा श्रीरामचरितमानस ने दी। श्रीरामचरितमानस किसी बंधन में नहीं बंधा है। यह हिंदी, संस्कृत, तेलुगू, मलयालम, कन्नड़ में रचित है। लौकिक संस्कृति का दुनिया में सबसे बड़ा महाकाव्य भारत ने दिया है।


सीएम योगी ने कहा कि ‘महाभारत’ के रूप में एक ऐसा ग्रंथ भारतीय मनीषा ने दिया है जिसमें पूरे दम के साथ यह कहने का साहस है कि धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष यह चार मानवीय पुरुषार्थ हैं। धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष से संबंधित जो कुछ भी है, वह इस ग्रंथ में है, और जो इसमें नहीं है वह अन्यत्र कहीं नहीं है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

राजीव गांधी की तरह PM मोदी की हत्या की साजिश का खुलासा, नक्सलियों की चिट्ठी से खुलासा

admin

अयोध्या राममंदिर विवाद : SC में आज से तीन सदस्‍यीय बेंच करेगी फाइनल सुनवाई

admin

7th Pay Commission: केंद्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, हर साल मिलेगी इतनी छुट्ठियां

BT Bureau