Breaking Tube
Government Politics

यूपी: ब्रजेश पाठक ने कोरोना से लड़ने को दे दी पूरी विधायक निधि, रोजाना 5 हजार लोगों को अपनी जेब से खिला रहे खाना

कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते प्रकोप के चलते 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन लगाना पड़ा. जिसके चलते लोगों को तमाम तरह की दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है. संकट की इस घड़ी में लोगों की सहायता के लिए योगी सरकार में विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक (Brajesh Pathak)  ने एक मिसाल कायम की है. पाठक ने अपनी पूरी विधायक निधि मुख्यमंत्री राहत कोष में दे दी है ताकि कोरोना के खिलाफ जंग में किसी प्रकार की कोई दिक्कत न आए. कानून मंंत्री ने ट्वीट कर खुद इसकी जानकारी दी.


ब्रजेश पाठक ने ट्वीट कर लिखा, “कोरोना महामारी के संकट से देश को निकालने हेतु हमारा परम् कर्तव्य है कि हम सब मिलकर सरकार को हर प्रकार का सहयोग दें, इसी पवित्र उद्देश्य से मैंने इस वित्तीय वर्ष की 3 करोड़ रुपए की संपूर्ण विधायकनिधि को मुख्यमंत्री पीड़ित सहायता कोष में देने का निर्णय लिया है”.



बता दें कि ब्रजेश पाठक लॉकडाउन के पहले दिन से ही गरीबों की मदद के लिए लगे हुए हैं. पाठक हर रोज 5 हजार लोगों को खाना खिला रहे हैं. इसके लिए उन्होने अपने घर को ही कंट्रोल रूम बना रखा है. पाठक ने इसके लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है, जिसपर संपर्क करके लोग सहायता मांग रहे हैं. इतना ही नहीं इस पूरी मुहिम की कमान पाठक ने खुद संभाल रखी है. वे खुद सभी काल्स रिसीव कर रहे हैं और अपनी टीम को आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे हैं. राजभवन कालोनी स्थित आवास पर रोजाना हजारों की संख्या में भोजन पैकैट तैयार किए जा रहे हैं. उनके समर्थकों के साथ पत्नी और परिवार और परिवार के सदस्य भी इस काम में जुटे रहते हैं. पाठक की निगरानी में भोजन पैकेट, आटा, दाल, चावल और मसाले के पैकेट तैयार कर बस्तियों में वितरण के लिए भेजा जाता है.



कोई नहीं सोएगा भूखा

वहीं इस मामले को लेकर ब्रजेश पाठक का कहना है कि वे बीमार, बच्चों, बुजुर्गों की देखभाल करेंगे. यह उनकी प्राथमिकताओं में है. उन्होंने कहा कि सभी रोज कमाने वाले भाई बहन भी भूखे नहीं रहेंगे. उनके लिये राशन, भोजन आदि का इंतजाम करना उनका दायित्व है. पाठक ने कहा कि चूंकि हम सब घर से निकलकर इनकी मदद नहीं कर सकते और आप भी प्रधानमंत्री के निर्देशों का पालन करते हुए अपने घरों में ही रहें.



आपकी वजह से ही हम यहां हैं, नहीं छोड़ सकते अकेला

कानून मंत्री ने कहा कि हमने अपने अपने आवास पर ही एक आपातकालीन कंट्रोल रूम 24 घंटे के लिये खोला है. किसी को भी भोजन आदि नहीं मिल रहा हो, दवा आदि की परेशानी हो, बच्चों को दूध की समस्या हो हमें फोन करें. उन्होंने कहा कि हम खुद व प्रशासन की मदद से आप तक उसे पहुंचाने की कोशिश करेंगे. आपकी वजह से हम यहां हैं मुसीबत की घड़ी में हम आपको अकेले नहीं छोड़ सकते हैं.


Also Read: CM योगी ने UP Covid-19 केयर फंड में डोनेट की 1 महीने की सैलरी और 1 करोड़ रुपए


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

भारत को ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाना चाहते हैं पीएम मोदी: एचडी देवगौड़ा

BT Bureau

यूपी: योगी सरकार का बड़ा फैसला, छुट्टा गोवंश की देखभाल के बदले हर माह मिलेंगे 900 रूपए

BT Bureau

मायावती का नया दांव, गरीब मुसलमानों के लिए मांगा आरक्षण

BT Bureau