Breaking Tube
Government

यूपी: लॉकडाउन में योगी सरकार ने दी 11 तरह के उद्योगों को मंजूरी, इन शर्तों का करना होगा पालन

CM Yogi adityanath

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में 3 मई तक लॉक डाउन की घोषणा की गई है वही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहां है कि केंद्र सरकार के दिशा निर्देश यूपी में 20 अप्रैल से सभी शर्तों के साथ जरूरी सेवाएं शुरू कर दी जाएगी इसमें बड़े निर्माण कार्य एक्सप्रेस वे हाईवे के साथ अस्पताल में दूसरी इमरजेंसी सेवाएं सूरी शुरू करने की सूचीबद्ध किया गया है.


शासनादेश में मुख्य सचिव ने कहा है कि उद्योगों को संचालन की छूट को लेकर भ्रम की स्थिति है. अलग-अलग अनुमति मांगी जा रही है, जबकि 20 अप्रैल से यह छूट सिर्फ सतत प्रक्रिया उद्योगों को ही दी जानी है. उन्होंने स्पष्ट किया है कि इस श्रेणी में आने वाले उद्योगों को अलग से किसी भी प्रकार की अनुमति की जरूरत नहीं होगी. इनके उत्पाद के परिवहन और अनुरक्षण की भी छूट रहेगी. यह भी साफ किया है कि यह छूट औद्योगिक इकाइयों को सशर्त चलाने की तो होगी लेकिन, उनके प्रशासनिक और प्रधान कार्यालय बंद रखे जाएंगे.


इन शर्तो का करना होगा पालन

  • प्रथम चरण में न्यूनतम आवश्यक श्रमिकों के साथ संचालन होगा. श्रमिकों की संख्या पचास फीसदी से अधिक न हो.
  • हॉटस्पॉट या सैनिटाइजेशन और स्क्रीनिंग वाले क्षेत्रों में इन इकाइयों के कर्मियों और वाहनों को आने-जाने की अनुमति नहीं होगा.
  • आौद्योगकि परिसर को भी राज्य सरकार की गाइडलाइन के अनुसार सैनिटाइज कराना होगा.
  • कार्यस्थल पर आने वाले सभी श्रमिकों, कार्मिकों की संख्या के अनुसार स्क्रीनिंग के लिए इन्फ्रारेड थर्मोमीटर और थर्मल स्कैनर हो.
  • सभी श्रमिकों के लिए मास्क, सैनिटाइजर, हाथ धोने के लिए साबुन-पानी हो, शारीरिक दूरी का भी पालन करना होगा.
  • किसी भी श्रमिक या कर्मी को कोविड-19 के लक्षण दिखाई देने पर जिला प्रशासन या स्वास्थ्य विभाग को सूचना देनी होगी। ’इकाई शुरू करने से पहले न्यूनतम पांच और अधिकतम दस कर्मचारियों का आरटी-पीसीआर टेस्ट रैंडम आधार पर कराना होगा.
  • आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 के प्राविधानों का पालन करना होगा.
  • यथासंभव श्रमिकों के रहने-खाने आदि की व्यवस्था औद्योगिक परिसर में ही की जाए.
  • जिन व्यक्तियों को कार्यस्थल और घर आना-जाना है, उनके लिए पास प्राप्त करने की पहले की प्रक्रिया ही लागू रहेगी.
  • श्रमिकों को लाना-ले जाना हो तो पूल वाहन की व्यवस्था अपनानी होगी. शारीरिक दूरी बनी रहे, इसलिए एक वाहन में क्षमता से पचास फीसद सवार ही होने चाहिए.
  • उपयोग में लाया जाने वाला हर वाहन भी सैनिटाइज करना होगा.
  • संबंधित जिला प्रशासन और चिकित्सा विभाग राज्य सरकार की गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित कराएंगे.
  • इकाइयां यदि मानक और सावधानी का पालन नहीं करेंगी तो उन्हें बंद करा दिया जाएगा.

इन उद्योगों को अनुमति

स्टील, रिफाइनरी, सीमेंट, रसायन, उर्वरक, वस्त्र (परिधान छोड़कर), फाउंड्री, पेपर, टायर, कॉमन इफ्यूलेंट ट्रीटमेंट प्लांट और चीनी मिलें. 20 अप्रैल से दी जा रही छूट के संबंध में शासन ने जारी किया आदेश सतत प्रक्रिया उद्योग की इकाइयों को अलग अनुमति की जरूरत नहीं.


ऑनलाइन शिक्षा

वहीं छात्र हितों को ध्यान में रखकर सीएम योगी ने ऑनलाइन क्लासों को शुरू करने का निर्देश दिया है. बेसिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा, व्यवसायिक शिक्षा चिकित्सा नर्सिंग, पैरामेडिकल इन सभी शिक्षकों में ऑनलाइन पढ़ाई शुरू कराई जाएगी. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन शिक्षा को व्यापक रूप दिया जाए, जिससे कि छात्रों के शिक्षा पर इसका कोई प्रभाव पड़े.


Also Read: CM योगी की दो टूक- पुलिस, मेडिकल टीम और स्वास्थ्य कर्मियों पर हमला करने वालों पर NSA लगाकर संपत्ति करो जब्त


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए यहां दी जाएगी 5 एकड़ जमीन, योगी कैबिनेट में लगी मुहर

BT Bureau

सीएम योगी का DM-SP को आदेश- पुलवामा शहीदों के घर जाकर अर्पित करें श्रद्धांजलि

Shruti Gaur

Tandav विवाद: सीएम योगी ने कार्रवाई के लिए मुंबई भेजी UP पुलिस, अब माफी मांग रहे अली अब्बास जफर

BT Bureau