Breaking Tube
Government Politics UP News

शरीयत को बताया था संविधान से ऊपर, पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अयूब पर योगी सरकार ने लगाया NSA

Doctor Mohamed Ayub

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ. मोहम्मद अयूब (Doctor Mohamed Ayub) के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगा दिया है। अब अयूब को कम से कम 12 महीने तक जमानत नहीं मिलेगी। अयूब पीस पार्टी के संस्थापक हैं और 2012 में विधानसभा के लिए चुने गए थे। वह अब लखनऊ जेल में हैं।


डॉ. अयूब को एक समाचार पत्र में विवादित व अपमानजनक सामग्री वाला विज्ञापन छपवाने के आरोप में 1 अगस्त को गोरखपुर से गिरफ्तार किया गया था। उनके खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की गई थी। इस मामले में एसीपी हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा का कहना है कि विवादित सामग्री प्रकाशित होने से समाज के कई वर्गों में आक्रोश व्याप्त हो गया था। लोग सड़कों पर उतर गए थे जिन्हें शांत कराया गया।


Also Read: उर्दू अखबारों में विज्ञापन निकालकर ‘शरीयत को संविधान से ऊपर’ बताया, पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अयूब गिरफ्तार


दरअसल, डॉ. अयूब ने बकरीद से पहले लखनऊ में उर्दू के पर्चे बंटवाए थे। उन पर्चों पर अंकित शब्दो को धार्मिक भावना भड़काने वाला बताते हुए हजरतगंज पुलिस ने गोरखपुर पुलिस से सम्पर्क किया जिसके बाद डॉ. अयूब की गिरफ्तारी हुई। अयूब ने उर्दू अखबारों में विज्ञापन निकलवाया कि शरीयत संविधान से ऊपर है, जिसे लेकर काफी बवाल हुआ।


डॉ. अयूब पर 153a, 505 और आईटी एक्ट के अंतर्गत FIR दर्ज की गई है। गोरखपुर से गिरफ्तारी होने के बाद लखनऊ पुलिस ने डॉक्टर अयूब राजधानी लखनऊ ले आई। डॉ. अयूब के खिलाफ मुकदमा भी पुलिस ने सोशल मीडिया पर वायरल टिप्पणियों और अखबार में छपे पोस्टर का खुद ही संज्ञान लेने के बाद दर्ज किया था।


Also Read: शरीयत को बताया था संविधान से ऊपर, पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अयूब पर NSA लगाने की तैयारी में लखनऊ पुलिस


इस मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने डॉ. अयूब की टिप्पणी और अखबार में छपे उनके विवादित पोस्टर पर निशाना साधा था। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था कि दलित-मुस्लिम एकता का राग अलापने वाले पीस पार्टी के मुखिया डा. अय्यूब द्वारा उर्दू अख़बार के विज्ञापन में बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के बारे में जो बात कही गई है, वह अति-शर्मनाक, दुर्भाग्यपूर्ण व अति-निन्दनीय, जिसके लिए इनको माफी माँगनी चाहिए।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

जया प्रदा पर विवादित बयान को लेकर आजम खान की सफाई, बोले- दोषी साबित हुआ तो नहीं लड़ूंगा चुनाव

BT Bureau

आज भी CM योगी को मसीहा मानते हैं यहां के मुस्लिम, सपा सरकार में किया कुछ ऐसा कि लगे थे ‘योगी जिंदाबाद’ के नारे

S N Tiwari

वसीम रिजवी ने कहा- दिल्ली हिंसा AIMIM नेता वारिस पठान के बयान का नतीजा

BT Bureau