IAS Success Story: 3 फुट की होने पर उड़ाते थे सब मजाक, IAS अफसर बन आरती डोगरा ने की बोलती बंद

किसी ने बिल्कुल सही कहा है कि सच्ची लगन और हौंसलों का कोई कद नहीं होता. अगर हौंसले हो तो उसके बूते इंसान ऊंची से ऊंची उड़ान भर सकता है. इसकी जीती-जागती मिसाल हैं आरती डोगरा (IAS Arti Dogra), जिनका खूब मजाक बनाया गया क्योंकि उनकी हाइट कम थी लेकिन उन्होंने IAS अफसर बनकर सबकी बोलती बंद कर दी.

3 फुट 3 इंच कद की आईएएस ऑफिसर आरती डोगरा ने कड़ी मेहनत के दम पर यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में सफलता हासिल की थी. अब उनकी सक्सेस स्टोरी दूसरों के लिए भी काफी इंस्पायरिंग बन गई है. इससे साफ पता चलता है कि अगर इरादे मजबूत हों तो कोई भी राह आसान हो जाती है.

हाइट को लेकर उठे सवाल 

आरती डोगरा (IAS Arti Dogra) महिला आईएएस अधिकारी हैं, जिनका कद तीन फुट तीन इंच है. आरती का जन्म उत्तराखंड के देहरादून जिले में हुआ था. आरती के पिता कर्नल राजेंद्र डोगरा है और मां कुमकुम डोगरा हैं, जो एक प्राइवेट स्कूल में प्रिंसिपल रह चुकी हैं. आरती की शारीरिक बनावट पर कई तरह के सवाल उठे थे लेकिन वे और उनके माता-पिता उनसे बिल्कुल भी डगमगाए नहीं.

पहले ही प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा को किया पास

जब आरती का जन्म हुआ, तो डॉक्टरों ने कहा कि वह एक सामान्य स्कूल में नहीं जा सकेगी, लेकिन सभी बाधाओं को पार करते हुए, डोगरा ने देहरादून के एक प्रतिष्ठित गर्ल्स स्कूल में दाखिला लिया और दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज से अर्थशास्त्र में स्नातक किया. बचपन से ही शारीरिक भेदभाव का सामना करने वाली आरती डोगरा ने अपने हौसले को कभी नहीं छोड़ा और उन्होंने पहले प्रयास में ही सिविल सेवा परीक्षा (Civil Services Exam) को पास कर लिया.

कई कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद महिला आईएएस अधिकारी आरती डोगरा ने भारत की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा यूपीएससी पास की. आरती डोगरा ने 2005 में अपने पहले प्रयास में AIR-56 के साथ सिविल सेवा परीक्षा पास की. वह राजस्थान कैडर 2006 बैच से हैं और यहीं से एक समर्पित लोक सेवक के रूप में उनका सफर शुरू हुआ. वह तब से राजस्थान सरकार में विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं.

पीएमओ से हुई तारीफ
आरती डोगरा ने अपने पहले ही प्रयास में प्रशासनिक सेवा (Civil Services Exam) की परीक्षा पास कर ली थी. वे पहले डिस्कॉम की मैनेजिंग डायरेक्टर रहीं, बाद में अजमेर के जिलाधिकारी के पद पर तैनात हुईं. उनके कार्यों के बारे में बात करें तो आरती डोगरा ने खुले में शौच से मुक्ति के लिए स्वच्छता मॉडल ‘बंको बिकाणो’ (Banko Bikano) शुरू किया था. इसकी तारीफ पीएमओ ने भी की थी.

Also Read: UP के बिजनौर की रहने वाली हैं UPSC 2021 की टॉपर श्रुति शर्मा, जानिए उनका पूरा प्रोफाइल

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )