Breaking Tube
International

पाकिस्तान से आए शरणार्थियों की अपील- न करें CAA का विरोध, वहां हमारी बच्चियों का हो रहा जबरन निकाह, अपहरण और रेप

160 hindu refugees

पाकिस्तान से भारत आए 160 हिंदू और सिख (160 hindu refugees) परिवारों ने हिंदुस्तान में शरण के लिए भारत सरकार से गुहार लगाई है। इन परिवारों का कहना है कि पाकिस्तान में उनकी बेटियों का दुष्कर्म हुआ है, संपत्तियां कब्जा की जा रही हैं। इन लोगों ने सीएए का विरोध कर रहे लोगों से भी अपील की है कि उन्हें नागरिकता देने का विरोध न किया जाए।


इन लोगों में से 10 परिवार इसी हफ्ते पाकिस्तान से भारत आए हैं। पाकिस्तान स्थित सिंध हैदराबाद सूबे से भारत आए पंजूराम ने कहा कि पाकिस्तान में निकाह के लिए लड़की की उम्र कम से कम 18 वर्ष तय है, लेकिन हमारी 13-14 साल की बच्चियों का अपहरण किया जा रहा है। अपहरण के बाद 40-50 साल के आदमी से हमारी बच्चियों का जबरन निकाह और इस्लाम कबूल करवाया जा रहा है।


पंजूराम ने कहा कि जब कभी हमने इन वारदातों का विरोध किया तो हमारे खिलाफ जबरदस्त हिंसा की गई। इस दौरान पुलिस और अदालतों ने भी हमारा साथ नहीं दिया। पाकिस्तान से आए पंजूराम जैसे कई हिंदू और सिख शरणार्थियों ने सोमवार को यहां दिल्ली के गुरुद्वारा मजनूं टीला में अपना दर्द बयां किया।


Also Read: एनकाउंटर में नोएडा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, शातिर पशु तस्कर परवेज गिरफ्तार


इस दौरान दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा भी शरणार्थियों के साथ मौजूद रहे। सिरसा ने कहा कि हमने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से इन हिंदू और सिख शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता देने के विषय पर चर्चा की है। इस पूरे मसले पर केंद्रीय गृहमंत्री का रुख काफी सकारात्मक है। उन्होंने हमें जल्द कोई रास्ता निकालने का आश्वासन दिया है।


पाकिस्तान के हैदराबाद प्रांत से दिल्ली पहुंचे भरत ने कहा कि वहां हमें अपने रिश्तेदारों का अंतिम संस्कार करने की भी इजाजत नहीं है। पाकिस्तान में हमारे पड़ोसी ही हमें शवदाह नहीं करने देते। अंतिम संस्कार करने पर पाकिस्तान में हजारों की भीड़ हमारे खिलाफ इकट्ठा हो जाती है। हम से मारपीट और फिर हमारे घर तोड़ दिए जाते हैं। हम पर दबाव बनाया जाता है कि हम अंतिम संस्कार न करके शव को कब्रिस्तान में दफन कर दें।


पाकिस्तान से आई एक सिख बच्ची लाली ने कहा कि हम लोग तीर्थयात्रा के बहाने बड़ी मुश्किल से रात के अंधेरे में ट्रकों पर सवार होकर अपने गांव से निकल सके। गांव वालों को अगर यह पता लग जाए कि किसी हिंदू या सिख को भारतीय वीजा मिल गया है तो वह उस व्यक्ति का पासपोर्ट छीनकर जला देते हैं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

श्रीलंका ने जारी की संदिग्ध हमलावरों की तस्वीर, 3 महिलाएं भी शामिल

BT Bureau

इटली: कोरोना के चलते घरों में कैद लोगों के लिए पॉर्न साइट ने फ्री किए प्रीमियम कंटेंट

BT Bureau

सैकड़ों अमेरिकी कंपनियों की चाहत PM मोदी की फिर बने सरकार, चीन छोड़ भारत में निवेश करने को तैयार

BT Bureau