Breaking Tube
International

हांगकांग दमन पर अमेरिका ने चीन को दिया बड़ा झटका, ट्रंप का नए कानून पर साइन, यह होगा असर

अमेरिका (America) ने चीन (China) के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए हांगकांग स्वायत्तता कानून (Hong Kong Autonomy Act) पारित कर दिया है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने मंगलवार को इस पर हस्ताक्षर किये. इस बारे में मीडिया को संबोधित करते हुए ट्रंप कहा कि मैंने कानून और एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. इसके साथ ही अमेरिका द्वारा हांगकांग (Hong Kong) को मिलने वाली तरजीह समाप्त हो गई है.


नए कानून पर हस्ताक्षर करने के बाद ट्रंप ने कहा कि मैंने एक कानून और आदेश पर साइन किया है जो हांगकांग के लोगों के खिलाफ दमन के लिए चीन को जवाबदेह ठहराता है.  ट्रंप ने कहा कि उन्होंने हांगकांग ऑटोनमी एक्ट पर दोपहर में हस्ताक्षर किया, जो चीन को जिम्मेदार ठहराने के लिए शक्ताशाली हथियार होगा. यह कानून ट्रंप प्रशासन को हांगकांग की स्वायत्तता को खत्म कर रहे विदेशी लोगों और बैंकों पर प्रतिबंध का अधिकार देगा. चीन द्वारा हांगकांग सुरक्षा कानून लागू किए जाने के दो सप्ताह बाद ट्रंप ने यह आदेश जारी किया है.


अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह कानून मेरे प्रशासन को नए शक्तिशाली टूल्स देगा जिससे हांगकांग की स्वतंत्रता को खत्म कर रहे लोगों और संस्थाओं को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. हम सबने देखा है कि क्या हुआ है, यह अच्छी स्थिति नहीं है. उनकी स्वतंत्रता और अधिकार ले लिए गए है. ट्रंप ने कहा कि हांगकांग के साथ मेनलैंड चाइना वाला बर्ताव नहीं किया जा सकता है. कोई स्पेशल प्रिवलेज नहीं, कोई स्पेशल आर्थिक व्यवहार नहीं और किसी संवेदनशील टेक्नॉलजी का निर्यात नहीं. अमेरिकी कांग्रेस ने इस महीने हांगकांग ऑटोनोमी एक्ट को सर्वसम्मित से पास कर दिया था.


वहीं, डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से कोरोना वायरस (Corona Virus) के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन और चीन को दोषी ठहराया. साथ ही उन्होंने साफ किया कि चीन से बातचीत का उनका कोई इरादा नहीं है. ट्रंप ने कहा, ‘WHO चीन की कठपुतली बनकर रह गया है. कोरोना पर उसने चीन का साथ दिया, जिसकी वजह से अमेरिका इससे अलग हो गया है. हम वायरस को छिपाने और उसे दुनिया में फैलाने के लिए पूरी तरह से चीन को जिम्मेदार ठहराते हैं. चीन कोरोना वायरस को फैलने से रोक सकता था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया. लिहाजा, अब चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से बातचीत का कोई मतलब नहीं है’.


Also Read: अयोध्या पर विवादित बयान देकर अपने ही घर में घिरे ओली, थापा बोले- भारत-नेपाल संबंधों को करना चाहते हैं खराब


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

IMF ने मोदी सरकार के आर्थिक सुधारों को सराहा, बोली- मोदी राज में ‘बेहद ठोस’ रहा भारत का विकास

BT Bureau

Rafale Deal: फ्रांस सरकार ने किया खंडन, हमें नहीं मिले सस्ते विमान

BT Bureau

पत्नी रेहम खान ने इमरान खान पर लगाया समलैंगिक होने का आरोप, बोली – कई पार्टी नेताओं से संबंध

admin