Breaking Tube
International

बगदाद में अमेरिकी एयरबेस और दूतावास पर हमला, ट्रंप बोले- हमलावरों को ढूंढ़कर मारा जाएगा

ईरान की कुद्स आर्मी के प्रमुख मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की अमेरिकी हवाई हमले में मौत के एक दिन बाद इराक में अमेरिकी ठिकाने रॉकेट और मोर्टार हमले से थर्रा उठे. इन हमलों के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड (Donald Trump) ट्रंप ने एक बयान में कहा कि हमलावरों को ढूंढ़कर मारा जाएगा. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इराक की राजधानी बगदाद के ग्रीन जोन में कई मोर्टार और रॉकेट्स आकर गिरे. आपको बता दें कि इस उच्च सुरक्षा वाले इलाके में अमेरिकी दूतावास भी स्थित है.


ईराक में अमेरिकी ठिकानों पर हमले के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शनिवार को कहा कि अमेरिका के पास ईरान के 52 ठिकानों का पता है और ये सभी उसके निशाने पर हैं. अमेरिकी राष्ट्रपित ने कहा कि अगर ईरान अपने सैन्य कमांडर जनरल सुलेमानी की मौत के बदला लेने के लिए अमेरिकी या अमेरिकी संपत्तियों पर हमला करेगा तो अमेरिका जवाब देगा. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘मेरे नेतृत्‍व के अंतर्गत आतंकवादियों के प्रति अमेरिका की नीति साफ है जिन्‍होंने किसी अमेरिकी को नुकसान पहुंचाया है या ऐसा करने की साजिश रच रहे हैं, हम उनको ढूंढ़कर खत्म कर देंगे. हम हमेशा अपने राजनयिकों और अपने लोगों की हिफाजत करेंगे.


बता दें, अमेरिकी और ईरान के बीच तनाव लगातार बढ़ता ही जा रही है. शनिवार बगदाद के बेहद सुरक्षित इलाके ग्रीन जोन और अल-बलाद एयरबेस पर रॉकेट-मोर्टार हमले हुए. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हमला किसने किया है. माना जा रहा है कि अमेरिकी ठिकानों पर ये हमला ईरान के टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी की ड्रोन हमले में मौत के बाद ईरान ने पलटवार करते हुए इन हमलों को अंजाम दिया है. हमलों में पांच लोगों के घायल होने की खबर है. सुरक्षा व्यवस्था से जुड़े सूत्रों का कहना है कि ग्रीन जोन में दो मोर्टार और एयरबेस पर दो रॉकेट दागे गए. ग्रीन जोन बगदाद का बेहद सुरक्षित इलाका है, जहां अमेरिकी दूतावास स्थित है.


इराक की सेना के मुताबिक, एक मोर्टार जहां ग्रीन जोन एंक्लव परिसर में फटा तो दूसरा इसके काफी नजदीक में फटा. इराकी सेना के जानकारी दी कि मोर्टार हमले के बाद हमले के बाद बगदाद के उत्तर में स्थित अल-बलाद एयरबेस पर रॉकेट दागे गए. इसी एयरबेस पर अमेरिकी सैनिकों का ठिकाना है।हमले के तुरंत बाद एयरबेस एयरबेस के चारों ओर निगरानी ड्रोन उड़ान भरने लगे थे. इस बीच इरान के लड़कों ने अपने देश के सैनिकों को अमेरिकी सैन्य बेस से दूर रहने को कहा है.


Also Read: पाकिस्तान: पत्थरबाजों की धमकी- एक भी सिख को यहां नहीं रहने देंगे, ननकाना साहिब गुरुद्वारे का नाम बदलकर ‘गुलमन-ए-मुस्तफा’ किया जाएगा


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

डोनाल्ड ट्रंप ने कानून प्रवर्तन एजेंसियों से पूछा- ‘सीमा पर कितने पाकिस्तानी पकड़े गए’

BT Bureau

सीमा के उस पार भी उठी विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने की मांग, तस्वीरें हुई वायरल

S N Tiwari

चीन में मुसलमानों पर जुल्म की इंतेहा, रोजा रखना और नमाज पढ़ना गुनाह, तोड़ी जा रही मस्जिदें

BT Bureau