Breaking Tube
International

पाकिस्तान का अमानवीय चेहरा, कोरोना संकट में हिंदुओं के घरों पर चलवाया बुलडोजर, चिलचिलाती गर्मी में बेघर हुए सैकड़ों लोग

Indian security agencies

कोरोना संकट से इस समय पूरा संसार जूझ रहा है. महामारी के इस काल में सोशल डिस्टेंसिंग ही सबसे कारगर साबित हो रहा है. वहीं पडो़सी मुल्क पाकिस्तान (Pakistan) ऐसे समय में भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. एक बार फिर उसका अल्पसंख्यक विरोधी चेहरा उजागर हुआ है. पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के भवालपुर में प्रचंड गर्मी के बीच अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय की एक बस्ती को जमींदोज कर दिया गया. चौंकाने वाली बात यह है कि इमरान खान (Imran Khan) की कैबिनेट में आवास मंत्री तारिक बशीर चीमा की देखरेख में हिंदू बस्ती को तोड़ा गया है.  देश के प्रधान सूचना अधिकारी शाहरुख खोखर भी इसमें शामिल थे.



इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. चिलचिलाती धूप में अल्‍पसंख्‍यक हिंदुओं के परिवारों के महिला पुरुष, बच्‍चे और बुजुर्ग चिल्लाते हुए और दया की याचना करते क्योंकि रहे लेकिन इन इमरान सरकार के मंत्रियों का उनके प्रति दिल नहीं पसीजा और इन सभी परिवारों के सामने उनका घर चंद मिनटों में गिराकर मलबे में तब्दील कर दिया गया. इन सभी का आशियाना चंद मलबे के नीचे दब गया और ये परिवार आंसू बहाते देखते रह गए. विडंबना यह है कि यह घटना तब सामने आई जब पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग ने अल्पसंख्यक अधिकारों की रक्षा करने में विफल रहने के लिए पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार पर हमला किया.


हाल ही में, इसी तरह की घटना पंजाब प्रांत के खानेवल जिले में हुई, जहां ईसाई समुदाय के घरों और कब्रिस्तान को इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के एक नेता ने बर्बाद कर दिया था. मानवाधिकार उल्लंघन के मामले में पाकिस्तान हमेशा से ही दोषी रहा है. सिंध और पाकिस्तान के अन्य हिस्सों से ऐसी तमाम घटनाएं सामने आई हैं जहां मुसलमानों ने जबरन नाबालिग हिंदू लड़कियों का अपहरण किया और शादी के लिए उनका धर्म परिवर्तन करवाया.


पाकिस्तान की तमाम सरकारों ने कई मौकों पर राष्ट्र में अल्पसंख्यक समुदायों के हितों की रक्षा करने का वादा किया है. लेकिन अल्पसंख्यकों पर बड़े पैमाने पर हमले, अलग कहानी बयां करते हैं. इस्लामाबाद अपने धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव कर रहा है, जो हत्या, सामूहिक हत्या, अपहरण, बलात्कार, इस्लाम में जबरन धर्मांतरण जैसे मामलों के रूप में सामने आता है. इससे पाकिस्तानी हिंदू, ईसाई, सिख, अहमदिया और शिया पाकिस्तान के सबसे अधिक उत्पीड़ित अल्पसंख्यक बन गए हैं.


Also Read: ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ के डर से इमरान खान दूसरे देशों से मांग रहे मदद, कहा- भारत कभी भी कर सकता है हमला


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

पाकिस्तान: मौलाना फजलुर रहमान का ऐलान, कहा- इस्तीफा दें इमरान खान, वरना जंग करके छीन लेंगे कुर्सी

S N Tiwari

POK में एक्शन की तैयारी में भारतीय सेना, अजित डोभाल का यह है प्लान

BT Bureau

कथित अमेरिकी हैकर का दावा- 2014 चुनाव में BJP के लिए की थी हैकिंग, रिलायंस कम्यूनिकेशन हैकिंग में करती है मदद

BT Bureau