Breaking Tube
International

कबूतरों की ‘बेवफाई’ से भारी नुकसान झेल रहा पाकिस्तान, लोग बोले- उनके भारत जाने से हमारा लाखों का घाटा

Pakistan suffers heavy losses due to infidelity of Pigeon and love of India

कहते हैं कि इंसानों की बनाई सरहदों को परिंदे कहां मानते हैं. ठीक ऐसा ही हो रहा है पाकिस्तान (Pakistan) के पंजाब प्रांत (Punjab Province) में. जहां भारत सीमा (India Border) के पास के कबूतरबाज (Kabootarbaj) अपने कीमती और दुर्लभ प्रजातियों के कबूतरों की ‘बेवफाई’ से काफी परेशान हैं, जिसके चलते उन्हें लाखों का घाटा हो रहा है. दरअसल, पाकिस्तान से इन कबूतरबाजों के कई कबूतर (Pigeon) तेज हवा के साथ उड़ते हुए भारत चले जाते हैं और फिर या तो उन्हें भारत पसंद आ जाता है या फिर वे रास्ता भूल जाते हैं और लौटकर पाकिस्तान नहीं आते. इससे इन पाकिस्तानी कबूतरबाजों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है.


दरअसल, भारतीय सीमा के पास के इलाकों वाघा, भानुचक, नरोड, लवानवाला व कई अन्य जगहों में ऐसे कई लोग हैं, जिन्हें कबूतर पालने का और कबूतरबाजी का शौक है. अपने इस शौक को पूरा करने के लिए यह लोग बहुत कीमती कबूतर भी पालते हैं. इनमें ऐसे कबूतर भी होते हैं जिनकी कीमत एक लाख रुपये या इससे भी अधिक होती है. कई बार ऐसा भी होता है कि यह अपनी छतों से अपने जिन कबूतरों को उड़ाते हैं, वे सरहद पार कर भारत चले जाते हैं. कई तो वापस लौटकर अपनी छत पर आ जाते हैं, लेकिन कई ऐसे भी हैं जो नहीं लौटते. ऐसे ही कुछ मामलों में लाख रुपये तक की कीमत के कबूतर को उसे पालने वाला खो बैठता है.


Image result for pakistan pigeon

Also Read: मूर्ख पाकिस्तानी मंत्री ने कटाई पीएम इमरान खान की नाक, भारत का विरोध करते-करते खोल दी पोल


जानें क्या कहते है पाकिस्तान के कबूतरबाज…

रेहान नाम के कबूतरबाज ने कहा ‘मेरे पास सैकड़ों कबूतर हैं, जिनमें से कई की कीमत एक-एक लाख रुपये तक है. मैं इन्हें अपने बच्चों की तरह पालता हूं. उस वक्त बहुत दुख होता है जब मेरे कबूतर थोड़ी ही दूरी पर मेरे सामने ही सीमा पार कर जाते हैं और फिर नहीं लौटते. कई दफा हवा बहुत तेज होती है जिससे कबूतर भारतीय सीमा में दूर तक चले जाते हैं.


मोहम्मद इरफान ने कहा कि ‘आम कबूतर चला जाए तो दुख नहीं होता लेकिन बहुत महंगे कबूतर जब नहीं लौटते, तब दुख होता है. इन महंगे कबूतरों के परों में मुहर लगाई जाती है, इनके पैरों में खास निशान वाले छल्ले पहनाए जाते हैं ताकि पहचान हो सके. लेकिन, जब यह दूसरे मुल्क चले जाते हैं तो कम ही वापस लौटते हैं’.


Image result for pakistan pigeon

Also Read: Video: सदन की कार्यवाही के बीच वित्त मंत्री ने गर्लफ्रेंड को किया प्रपोज, जवाब मिलने पर तालियों से गूंजा संसद भवन


पाकिस्तानी कबूतरबाजों ने यह भी बताया कि कई बार भारत के कबूतर भी उनकी छतों पर आकर बैठ जाते हैं और फिर यहीं टिक जाते हैं. वे उन्हें वापस भारत भेजने के लिए उड़ाते हैं लेकिन कई फिर लौटकर उनकी छतों पर आकर बैठ जाते हैं. उनका कोई मालिक नहीं होने के कारण वे उन्हें रख लेते हैं.


‘एक्सप्रेस न्यूज’ की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान से जाने वाले इन कबूतरों को कई बार भारत में जासूस समझ लिया जाता है. पाकिस्तानी कबूतरबाज पहचान के लिए अपने कबूतरों के परों में उर्दू में लिखी मुहरें लगाते हैं. इसे ही भारत में कोई खुफिया संदेश समझ लिया जाता है.


Also Read: पिता से मिलवाने लाई बेटी के बॉयफ्रेंड को हो गया गे ‘ससुर’ से प्यार, जल्द ही शादी करेंगे ससुर-दामाद


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

भारतीय मुसलमान होने की मिली सजा, कब्रिस्तान में नहीं दी गई 2 गज जमीन, रेत में दफनाया शव

BT Bureau

अपने मुल्क से झूठ बोलकर प्रधानमंत्री बने इमरान खान! उन्हीं के मंत्री ने खोल दी पोल

S N Tiwari

पाकिस्तान में हर वर्ष हजारों हिंदू लड़कियों का धर्मांतरण कर जबरदस्ती कराई जाती है शादी

S N Tiwari