Breaking Tube
Lifestyle

मेटाबॉलिज्म और इम्युनिटी को दुरुस्त करने के साथ इन रोगों में भी लाभकारी है हरी मिर्च, आज ही करें डाइट में शामिल

लाइफस्टाइल: तीख़ी-तीख़ी हरी मिर्च खाने में तो तीख़ी होती है लेकिन लोग इसे बिना खाए किसी स्वाद का अनुभव नहीं कर पाते, लोगों को तीख़ी हरी मिर्च इसलिए भी पसंद होती है क्योंकि यह स्वाद को अलग ही रूप दे देती है. हरी मिर्च सब्जी और दाल में तड़का लगाने के लिए काम आता है, जो की स्वाद को दोगुना बढ़ा देता है. कई लोग मिर्च को बस एक मामूली सब्जी समझते हैं पर यह बहुत असरदार होती है. खाने को स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ यह सेहत के लिए भी काफी कारगर होती है. हरी मिर्च में विटामिन सी होता है जो शरीर की इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग बनाता है. इसके अलावा यह हार्ट संबीधी रोगों के खतरे को भी कम करता है. आइए आपको बताते हैं हरी मिर्च खाने के फायदें के बारे में.


हरी मिर्च में कैप्सीसिन नामक तत्‍व होता है, जो स्वाद में तो तीखा होता है, मगर दिमाग के एक हिस्से हाइपोथैलेमस पर असर करते ही शरीर के तापमान को कम कर देता है. यही वजह है कि भारत की सबसे गर्म जगहों में भी हरी मिर्च का भरपूर सेवन किया जाता है.


हरी मिर्च में पाया जाने वाला कैप्सीसिन रक्त संचार को संतुलित रखता है, जिसकी वजह से सर्दी-जुकाम और साइनस इन्फेक्शन का खतरा कम रहता है. सर्दी-जुकाम होने पर हरी मिर्च खानी चाहिए. जुकाम से राहत मिलती है.


हरी मिर्च खाने से शरीर में पैदा होने वाली गर्मी दर्द निवारक की तरह काम करती है. हालांकि छालों से परेशान लोगों के लिए तीखा खाना मुश्किल हो सकता है, मगर हरी मिर्च के सेवन से छाले भी जल्दी ठीक होते हैं.


हरी मिर्च न सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाती है, बल्कि ये शरीर को हेल्दी भी रखती है. इसमें जीरो कैलोरी होती है. हरी मिर्च के नियमित सेवन से शरीर का मेटाबॉलिज्म दुरुस्त रहता है.


हरी मिर्च में भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जिनकी वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. हरी मिर्च खाने से प्रोस्टेट संबंधी रोग होने की संभावना भी कम हो जाती है.


हरी मिर्च खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता है और रक्त-संचार सुचारू रूप से होता है. इसकी वजह से खून के थक्के नहीं बनते और हार्ट संबंधी रोगों का खतरा कम हो जाता है.


विटामिन सी और बीटा-कैरोटीन की भरपूर मात्रा होने से हरी मिर्च आंखों और स्किन के लिए बेहद लाभदायक है. हरी मिर्च को ठंडी व अंधेरी जगह में ही रखना चाहिए. हवा और रोशनी के संपर्क में आने से इसका विटामिन खत्‍म हो जाता है.


हरी मिर्च खून में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित रखती है. इसलिए अगर आपको डायबिटीज है तो हरी मिर्च को तुरंत अपने भोजन में शामिल कर लें.


हरी मिर्च में आयरन अधिक मात्रा में पाया जाता है. इसलिए आयरन की पूर्ति के लिए हरी मिर्च का सेवन करना चाहिए.


हरी मिर्च का सेवन ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करता है.


Also Read: पॉजिटिव माइंड के लिए मददगार हैं ये वेजिटेरियन फूड्स, जानिए क्या कहता है आयुर्वेद


Also Read: रखना है हार्ट को हेल्दी तो ब्रेकफास्ट में शामिल करें ये चीजें


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ चेन्नई में पटाखे जलाने पर 700 लोगों पर केस दर्ज

Satya Prakash

20 जुलाई से शुरू होगा, जिओफ़ोन मानसून धमाका ऑफर जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें

Satya Prakash

जानिए कितने प्रतिशत शराब पीना शरीर के लिए नहीं होता नुकसानदायक

Satya Prakash