Breaking Tube
Lifestyle

अगर आप भी हैं रोज-रोज के बदन दर्द और कमजोरी के शिकार, तो करें ये काम, जल्द मिलेगा आराम

लाइफस्टाइल: कभी-कभी हमारा शरीर उम्र के ऐसे पड़ाव पर आता है की अपने आप ही हमारा वजन तेजी से बढ़ने लगता है. हमारे शरीर का वजन बढ़ने के साथ-साथ हमारे मसल्स और ज्वाइंट में दर्द होने लगता है. वजन बढ़ने से बेवजह की सुस्ती और कमजोरी का एहसास भी होने लगता है. लेकिन ज्यादातर लोग इस परेशानी को थकावट नींद में कमी और सुस्ती का वजह बताने लगते हैं जबकि ऐसा नहीं है. बात दरअसल यह है की इस भाग दौड़ भरी लाइफ में लोगों को कुछ भी करने का समय नहीं मिलता या यूँ कह लीजिये की वो करना नहीं चाहते हैं. क्योंकि कोई भी काम निश्चित नहीं है न ही सोने का न उठने का और न ही खान-पान का तो जाहिर है कि कुछ भी सही कैसे हो सकता है. कभी आप जरूरत से ज्यादा खा लेते हैं और कभी ऐसा भी होता है कि दिन भर भूखे रह जाते हैं, क्योंकि आपके पास खाने का समय नहीं होता है. बदले लाइफस्टाइल के बावजूद अगर आप लगातार थकावट, जोरों में दर्द जैसी परेशानियों से जूझ रहे हैं तो सावधान होने की जरूरत है.


कई बड़े न्यूट्रिनिस्ट के अनुसार, यह समस्या लगभग हर 20 साल से ऊपर की उम्र ले लोगों की है. इस तरह की साधारण समस्याएं शरीर में विटामिन-D की कमी की वजह से होता है. अगर इस तरह का दर्द लगातार हो रहा है तो सबसे पहले ब्लड टेस्ट करवाएं और पता करें कि आपके शरीर में विटामिन D-3 का लेवल क्या है. अगर इसकी मात्रा शरीर में जरूरत से कम होती है तो इस तरह की समस्याएं होती रहेंगी. कनिका खन्ना का तो यहां तक कहना है कि भारत में करीब 70 फीसदी लोगों में विटामिन-D की कमी होती है. वे इस तरह की समस्याओं से भी जूझते हैं, लेकिन इसे बीमारी नहीं मानते हैं और सबकुछ चलते रहता है.


Image result for body pain weakness man

Image result for body pain weakness man

प्राकृतिक में सूर्य की किरण को विटामिन का सबसे बड़ा स्रोत माना जाता है. इसलिए, शरीर में विटामिन की मात्रा को बनाए रखने के लिए एक सप्ताह में चार से पांच बार सनबाथ लेना जरूरी है. सुबह 8 बजे से पहले और शाम 4 बजे के बाद का वक्त सनबाथ के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है. इस दौरान धूप में बिना चेहरा कवर किए हाथ फैलाकर खड़े हो जाएं. 15-20 मिनट तक सनबाथ लेने से जिंदगी में कभी भी विटामिन-D की कमी नहीं होगी.


Also Read: जानिए कितने प्रतिशत शराब पीना शरीर के लिए नहीं होता नुकसानदायक


इसके अलावा salmon, sardines मछली में, अंडा और मीट में विटामिन-D की भरपूर मात्रा होती है. जो लोग वेजिटेरियन हैं वे अपने खाने में सूरजमुखी के बीज, सोयाबिन के प्रोडक्ट, डेयरी प्रोडक्ट और लो फैट फूड को जरूर शामिल करें. विटामिन-D की दवा, इंजेक्शन या पाउडर का इस्तेमाल कभी भी अपने मन से नहीं करें. जब तक डॉक्टर इसकी सलाह नहीं देते हैं, इसका सेवन बिल्कुल भी न करें.


Also Read: व्यायाम के सही तरीके से कम होगा वजन, जानें वर्कआउट करने का सही समय और फायदे


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

कोरोना वायरस से बचाव, लक्षण के साथ-साथ इन मिथकों को जानना भी है जरूरी

Satya Prakash

जानें किन लोगों को हो सकता है गर्मी में हीट स्ट्रोक का खतरा, ऐसे करें बचाव

Satya Prakash

शिमला मिर्च के सेवन से होते हैं ये चमत्कारी लाभ, खून की कमी को करता है दूर

Satya Prakash