Breaking Tube
Lifestyle

ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाएं रखें अपना विशेष ध्यान, डाइट में शामिल करें ये फूड्स

लाइफस्टाइल: जब बच्चा जन्म लेता है तो उसके लिए सबसे पौष्टिक और सम्पूर्ण आहार होता है माँ का दूध, जो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए सबसे अच्छा माना जाता है. मां का दूध ही बच्चे के लिए सबसे उत्तम आहार होता है. इसमें वसा, चीनी, पानी और प्रोटीन का बेहतरीन संतुलन होता है. जन्म के 6 महीने तक महिलाओं को बच्चों को स्तनपान यानी ब्रेस्टफीडिंग जरूर करवाना चाहिए. यह तनाव को भी दूर कर सकता है और बच्चे से अधिक जुड़ाव महसूस करने में मदद कर सकता है. इसलिए मां के लिए यह आवश्यक है कि वह ब्रेस्ट मिल्क के उत्पादन में मदद के लिए पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें. इसके अलावा, डिलीवरी के बाद स्वस्थ खानपान से मानसिक और शारीरिक रूप से बेहतर महसूस करने में मदद मिल सकती है. यदि मां का आहार संपूर्ण पोषक तत्व प्रदान नहीं करता है, तो यह स्तन के दूध की गुणवत्ता और मां के स्वास्थ्य दोनों को प्रभावित कर सकता है.


कई हेल्थ एक्सपर्ट्स और डॉक्टर्स का भी कहना है कि, स्तनपान के दौरान ऊर्जा की आवश्यकता करीब 500 कैलोरी बढ़ जाती है. मां को प्रोटीन, विटामिन डी, विटामिन ए, विटामिन ई, विटामिन सी, बी 12, सेलेनियम और जिंक सहित विशिष्ट पोषक तत्वों की जरूरत होती है. यही कारण है कि विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व वाले भोजन मां और बच्चे के लिए महत्वपूर्ण होते हैं. इन पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों का चयन यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है कि मां और बच्चे को सभी मैक्रो और माइक्रोन्यूट्रिएंट्स मिलें.


दलिया
स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध की गुणवत्ता बढ़ाने में दलिया फायदेमंद है. यह आयरन की कमी पूरी करता है, जिससे एनीमिया का जोखिम कम होता है.


अंडा
अंडा संपूर्ण प्रोटीन वाले कुछ खाद्य पदार्थों में से एक है. अंडे में विटामिन ए, विटामिन बी 12, विटामिन डी, विटामिन ई और फोलेट, सेलेनियम, कोलिन और कई अन्य खनिज होते हैं. अंडे की जर्दी विटामिन डी से समृद्ध होती है, जो नवजात शिशुओं के लिए महत्वपूर्ण है.


गाजर
नवजात शिशु के स्वस्थ विकास के लिए विटामिन ए सहायक है. गाजर में अल्फा और बीटा कैरोटीन होते हैं, जो स्तन के उतकों के स्वास्थ्य और स्तनपान को बढ़ावा देने में मदद करते हैं.


पालक
पालक और अन्य पत्तेदार सब्जियां स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए आवश्यक है. इसमें विटामिन ए होता है जो बच्चे के स्वस्थ विकास में सहायक है. साथ ही इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं.


मछली
गर्भवती महिला ही नहीं बल्कि स्तनपान कराने वाली मां के लिए भी मछली फायदेमंद है. साल्मन मछली प्रोटीन और विटामिन डी का अच्छा स्रोत है. इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो नर्वस सिस्टम के विकास के लिए महत्वपूर्ण है.


संतरा
स्तनपान के समय संतरे का रस पीना चाहिए. यह शरीर को हाइड्रेटेड रखने में मदद करता है. इसके अलावा यह विटामिन सी की आपूर्ति भी करता है.


बादाम
बादाम प्रोटीन, विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है. यह मां के स्वास्थ्य और नवजात शिशु के लिए महत्वपूर्ण है. स्तनपान कराने वाली मां के लिए बादाम और काजू जैसे मेवे दूध बढ़ाने में सहायक होते हैं.


Also Read: सर्दियों में गुड़ की चाय पीना है अत्यंत लाभकारी, फायदे जानकर रह जाएंगे दंग


Also Read: ठंड में इम्युनिटी बढ़ाने के साथ शरीर को गर्म रखती है गुड़ की चटनी, जान लें यह रेसिपी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

कच्चा प्याज है सेहत के लिए वरदान, जल्द ही मिलेगी इन बीमारियों से निजात

Satya Prakash

सावधान: हाथ-पैर का बार-बार सुन्न होना हो सकता है घातक, इन बीमारियों के संकेत

Satya Prakash

बेली फैट को करना है कम तो रोजाना सिर्फ 60 सेकेंड तक करें ये काम

Satya Prakash