Breaking Tube
Lifestyle Social

इस तरह करें कोरोना वायरस से अपना और अपने परिवार का बचाव

Corona virus

सोशल: इन दिनों पूरी दुनिया कोरोना वायरस के चलते खौफ में चल रही है. हर कोई अलग-अलग होकर सोशल डिस्टैन्सिंग को फॉलो करते हुए अपना-अपना काम करने में व्यस्त नजर आ रहा है. इससे बचाव का यही एक आसान तरीका भी है की लोगों को एक-दूसरे से अलग ही रहना पड़ेगा, जो की जरूरी भी है. इसका कोई भी ईलाज भी नहीं है जिसकी वजह से ज्यादा दिक्कत हो रही है. दुनियाभर के तमाम वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन और टीका बनाने की तमाम कोशिशें कर रहे हैं, लेकिन पूरी कामयाबी मिलने में अभी करीब एक साल का वक्त लगने की संभावना है ऐसे में रोजाना हो रही सैकड़ों मौतों के चलते ये आंकड़ा तेजी से बढ़ेगा और दुनियाभर में लाखों लोग मारे जा सकते हैं.


कोरोना वायरस से निपटने के लिए इन दिनों अमेरिकी अध्यन से पता चला है कि इन्होंने एक नई थ्योरी दी है. जिसमें इस थ्योरी का नाम दिया गया है, हैमर व डांस थ्योरी यानी हथौड़ा और नृत्य सिद्धांत. इस अध्ययनकर्ता का साफ़ कहना है की जब तक कोरोना वायरस का टीका बनकर तैयार नहीं हो जाता तब तक इन रणनीतियों का इस्तेमाल करके संक्रमण के प्रसार को काफी हद तक रोका जा सकता है. अमेरिका के सिलिकॉन वेली के अध्ययनकर्ता और उद्योगपति थॉमस पीयू का कहना है कि हैमर-डांस रणनीति से ही दक्षिण कोरिया को स्थिति संभालने में सफलता मिली है.


CDC lab for coronavirus test kits may have been contaminated - Axios

इसके अनुसार पहले हैमर का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें कोई भी प्रशासन यह लक्ष्य लेकर काम करता है कि वायरस का नया वाहक बनने की दर को शून्य कर दिया जाए. इसमें सख्ती कदम उठाए जाते हैं. जैसे कि, चीन ने हैमर रणनीति अपनाते हुए वुहान शहर को लॉक डाउन कर दिया. जिससे रीप्रोडक्शन नंबर 3.9 से 0.32 पर पहुंच गया. कोरोना वायरस रीप्रोडक्शन नंबर का मतलब ये होता है कि एक शख्स कितने लोगों को संक्रमित कर सकता है.


बात की जाए इसके डांस की तकनीक की तो वायरस प्रसार के तरीके, लक्षण, परीक्षण जैसी चीजों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है. इन थ्योरी के तहत ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच करके संक्रमित लोगों का पता लगाना व इलाज करना जरूरी होता है. जिसके चलते इस थ्योरी को अब तक कोरोना की जंग में सबसे सफल माना जा रहा है. दक्षिण कोरिया ने इसी पर काम किया, लेकिन इटली ने ये सिद्धांत नहीं अपनाया और इसका नतीजा ये हुआ कि यहां 6,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई.


आखिर क्या है हैमर थ्योरी-


इस थ्योरी में सबसे पहले वायरस वृद्धि दर पर काबू करना होता है. उसके बाद संक्रमण के पुष्ट मामले तेजी से चिन्हित करने होते हैं. इलाज के लिए स्वास्थ्यकर्मियों की तैनाती. साथ ही इलाज की प्रक्रिया को लगातार सुधारना पड़ता है. इससे हेल्थकेयर तंत्र पर अतिरिक्त दबाव कम हो जाता है. इसके साथ ही जब केस ज्यादा आएं को हेल्थकेयर क्षमताओं को बढ़ाना जरूरी होता है.


Also Read: शरीर में 5 दिन के भीतर दिखें ये 3 लक्षण, तो तुरंत करवाएं कोरोना वायरस टेस्ट


कैसे होती है डांस थेरेपी-


डांस थेरेपी के तहत वायरस के प्रसार की दर को एक से नीचे रखना होता है यानी एक शख्स ज्यादा से ज्यादा एक ही शख्स को संक्रमित कर पाए. इसके लिए संदिग्ध मरीजों को क्वारंटाइन व आइसोलेट करने की आवश्यकता होती है. आमजन को स्वच्छता व सामाजिक दूरी बनाए रखनी चाहिए. साथ ही बड़ी संख्या में एकत्र होने पर पाबंदी लगानी चाहिए. इसके लिएआर्थिक भत्ते व अन्य सुविधाएं देकर लोगों में सामाजिक दूरी बनाना जरूरी है. जिससे लोग कामधंधे पर न जाएं और संक्रमण न फैले.


Also Read: कोरोना से डरें नहीं, इम्युनिटी बढ़ाने के लिए डाइट में करें ये शामिल, इनसे बनाए दूरी


Also Read: कोरोना से बचाव के लिए गलती से भी न करें इन चीजों का सेवन, अपनाएं के छोटे-छोटे Tips


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

सीएम योगी ने दी तिरंगे को सलामी, बोले- क्षेत्र, जाति और सम्प्रदाय के नाम पर किसी के साथ भेदभाव न हो

BT Bureau

नंगे पैर चलना है सेहत के लिए वरदान, इन बीमारियों में मिलता है आराम

Satya Prakash

दही खाने के शौकीन हो जाएं सावधान, वरना झेलना पड़ सकता है भारी नुकसान

Satya Prakash