Breaking Tube
Lifestyle Social

Lockdown: लैपटॉप से बिस्तर पर घंटों काम करने से हो सकती हैं दिक्कतें, भूलकर भी न करें ये गलतियां

सोशल: इन दिनों देशभर में चल रहे लॉकडाउन के बीच घर से बेवजह निकलने की अनुमति नहीं है, जिसकी वजह से कई ऑफिस भी बंद चल रहे हैं और सभी कर्मचारियों को घर काम यानी ( वर्क फ्रॉम होम ) करने को बोल दिया गया है. लेकिन घर से काम कर रहे कई कर्मचारियों में कई तरह की समस्याएं देखी जा रही है. उनकी सेहत में काफी दिक्कतें आ रहीं हैं और साथ ही गर्दन और रीढ़ की हड्डियों में भी कई तरह की तकलीफ हो रही है. यह आपके लिए आगे चलकर काफी दिक्कत कर सकता है. लॉकडाउन में अगर आप घर से काम कर रहे हैं तो आपको कई चीजों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है. कुछ लोग घंटों तक अपने लैपटॉप के साथ बिस्तर पर बैठे रहते हैं. इससे उन्हें गर्दन और पीठ दर्द की समस्या होने लगती है. इसे नजरअंदाज करते हुए लोग बिस्तर पर बैठकर ही काम करते रहते हैं.


Woman sitting on bed, using laptop - AZF00093 - Arman Zhenikeyev ...

जितने भी लोग घर में बिस्तर पर बैठे ही काम कर रहे हैं, उनकी हड्डियां सही पोजीशन में नहीं रहती हैं. जिससे लोगों को रीढ़ की हड्डी और गर्दन की हड्डी में दर्द होने लगता है. यह आपके बैठने की मुद्रा को नुकसान पहुंचाती है. लैपटॉप पर काम करते हुए या फिर किताब पढ़ते हुए बिस्तर पर बैठने से पीठ को सही तरह से स्पोर्ट नहीं मिल पाता, जिसकी वजह से शरीर की मांसपेशियों में दर्द होने लगता है.


साथ ही आपको बता दें की लैपटॉप पर काम करते समय आगे की तरफ झुकने से भी रीढ़ की हड्डी में काफी दिक्कतें आती हैं. तो इसलिए आपको अपने काम करने के पोजीशन पर ध्यान देना होगा. तो चलिए आपको बताते हैं ऐसी ही कुछ समस्याएं जो आपको घंटों बिस्तर पर बैठे रहने की वजह से हो सकती है.


आप लोगों को घंटों बिस्तर पर बैठकर काम करने से स्लिप डिस्क की समस्या हो सकती है. यह समस्या उन लोगों को होती है जो गलत तरीके से बैठकर काम करते हैं. जो लोग बिस्तर पर बैठकर घंटों काम करते हैं वो लोग सही से बैठ नहीं पाते और उनकी रीढ़ की हड्डी भी सही तरीके से एलाइन नहीं हो पाती. इस कारण उन्हें स्लिप डिस्क की समस्या हो जाती है. दरअसल डिस्क में मौजूद कुशन जैसा हिस्सा कनेक्टिव टिश्यूज के चारों ओर से बाहर की ओर निकल आता है और आगे बढ़ा हुआ हिस्सा स्पाइनल कोड पर दबाव बनाता है.


इससे रीढ़ की हड्डी में दर्द होने लगता है और चलने फिरने में तकलीफ होने लगती है. इसकी वजह से कई बार पैरों में दर्द भी होता है और वो सुन्न भी हो जाती है. बिस्तर पर घंटों बैठकर काम करने से नींद न आने की समस्या भी नजर आने लगती है. दरअसल दिमाग एक विशेष व्यवहार के साथ किसी स्थान को कैसे जोड़ता है ये दिमाग को ही पता होता है. इसी कारण से बिस्तर पर बैठकर काम करने से नींद प्रभावित होती है. दरअसल इस दौरान मांसपेशियों को बिलकुल आराम नहीं मिलता और वह ठीक से काम नहीं कर पाते. ऐसे में गर्दन और कंधे में अकड़न आने लगती है.


Also Read: Lockdown: घर बैठे ‘वर्क फ्रॉम होम’ कर रहे लोगों में तेजी से फैल रही ये बीमारी, तुरंत हो जाएं सावधान


कुछ एक्सपर्ट के मुताबिक, जब आप लोग बिस्तर पर बैठकर काम करते हैं तो दिमाग के लिए काम और नींद के बीच स्विच कर पाना मुश्किल हो जाता है. दिमाग को पता होता है कि बिस्तर सोने की जगह है. ऐसे में अगर आप वहां बैठकर काम करते हैं तो आपकी नींद पर इसका असर दिखाई पड़ सकता है. बिस्तर पर बैठकर काम करने वालों को अकसर गर्दन और कंधों में दर्द होने लगता है.


Also Read: सुबह उठकर इन कामों को करने से आएगी सुख-समृद्धि, इनसे बनाएं दूरी


Also read:  Lockdown के बीच इन ऑनलाइन डेटिंग ऐप्स का बढ़ा चलन, इस तरह भरें लाइफ में रोमांस


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

Video: दिव्यांग लगा रहा था ‘अखिलेश यादव को देंगे वोट’ के नारे, BJP नेता ने तीन बार मुंह में ठूंसा डंडा

Jitendra Nishad

जानिए क्यों मनाया जाता है जया एकादशी का पर्व, महत्व और पूजा विधि

Satya Prakash

CAA विरोध में पूर्व गवर्नर के भड़काऊ बोल- मुसलमानों कोई सबूत मांगे तो गला पकड़ लेना, गैरत पर कोई हाथ डालेगा तो काटकर फेंक देंगे

BT Bureau