Breaking Tube
Lifestyle

प्रकृति के इन संकेतों से समझें शकुन अपशकुन, ऐसे देती हैं इशारे

हमारे भारत देश में पुरानी मान्यताओं को काफी महत्व दिया जगा है। इसी के चलते हम शगुन अपशकुन में भी काफी भरोसा रखते हैं। पर, क्या आप जानते हैं कि कुछ अशुभ होने से पहले प्रकृति भी एक ना एक बार संकेत जरूर देती है। आइए आपको भी बताते हैं, कि प्रकृति के संदेशों को आप कैसे समझ सकते हैं।


इन बातों का रखें ध्यान

जानकारी के मुताबिक, जिस भवन में बिल्लियां लड़ती रहती हैं वहां जल्द ही मुश्किल आने की संभावना रहती है। साथ ही वहां विवाद बढ़ता है। मतभेद होता है।


जिस भवन के गेट पर आकर गाय जोर-जोर से रंभाए तो जरूर ही उस घर के सुख में वृद्धि होती है।


भवन के सम्मुख कोई कुत्ता भवन की ओर मुख करके रोए तो निश्चय ही घर में कोई विपत्ति आने वाली है अथवा किसी की मृत्यु होने वाली है।


जिस घर में काली चींटियां समूह वृद्ध होकर घूमती हों वहां ऐश्वर्य वृद्धि होती है, किन्तु मतभेद भी होते हैं।


Also read: सोते युवक की पैंट में घुसा कोबरा, डर के मारे बिना हिले 6 घंटे खंभा पकड़े खड़ा रहा शख्स, Video में देखिए कैसे निकला सांप


घर में प्राकृतिक रूप से कबूतरों का वास शुभ होता है।


घर में मकड़ी के जाले नहीं होने चाहिएं, वे शुभ नहीं होते।


घर की सीमा में मयूर का रहना या आना शुभ होता है।


जिस घर में बिच्छू कतार बना कर बाहर जाते हुए दिखाई दें तो समझ लेना चाहिए कि वहां से लक्ष्मी जाने की तैयारी कर रही हैं।


पीला बिच्छू माया का प्रतीक है। पीला बिच्छू घर में निकले तो घर में लक्ष्मी का आगमन होता है।


जिस घर में प्राय: बिल्लियां आकर विष्ठा कर जाती हैं, वहां कुछ शुभत्व के लक्षण प्रकट होते हैं।


घर में चमगादड़ों का वास अशुभ होता है।


जिस भवन में छछूंदरें घूमती हैं वहां लक्ष्मी की वृद्धि होती है।


जिस घर के द्वार पर हाथी अपनी सूंड ऊंची करे वहां उन्नति, वृद्धि तथा मंगल होने की सूचना मिलती है।


जिस घर में काले चूहों की संख्या अधिक हो जाती है वहां किसी बीमारी के अचानक होने का अंदेशा रहता है।


जिस घर की छत या मुंडेर पर कोयल या सोन चिरैय्या चहचहाए, वहां निश्चित ही श्री वृद्धि होती है।


जिस घर के आंगन में कोई पक्षी घायल होकर गिरे वहां दुर्घटना होती है।


जिस भवन की छत पर कौए, टिटहरी अथवा उल्लू घोर शब्द करें तब वहां किसी समस्या का उदय अचानक होता है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

स्वाद ही नहीं सेहत का भी ख़जाना है ऐवकाडो फल, इसके तेल से होती हैं कई बीमारियां दूर

Satya Prakash

ज्यादा पानी पीना हो सकता है घातक, दिमाग हो सकता है हमेशा के लिए डेड

Satya Prakash

सर्दियों में धूप सेंकना है अत्यंत लाभकारी, शरीर और हड्डियां होती हैं मजबूत

Satya Prakash