Breaking Tube
Lifestyle

दिल के साथ याददाश्त को भी नुकसान पहुंचाता है तनाव, बचाव का ये है तरीका

लाइफस्टाइल: मानसिक तनाव होने की कोई एक वजह नहीं होती, यदि आपको ऐसा बार-बार होता है तो यह गंभीर समस्या का रूप ले सकता है. यह प्रक्रिया कभी-कभी होना तो स्वाभाविक है, लेकिन बार-बार छोटी छोटी चीजों की वजह से ऐसा होना काफी दिक्कत कर सकता है. कई बार जिंदगी में तनाव नई चुनौतियों और खतरों की वजह से भी होता है. किसी भी समय जब हम अपने कंफर्ट जोन यानी आराम क्षेत्र से बाहर निकलकर कुछ करने की कोशिश करते हैं, तो थोड़ा तनाव होना तो स्वाभाविक सी बात है. महामारी की वजह से खासकर यह तनाव कई लोगों को हो रहा है. इस तनाव की वजह से लोग डिप्रेशन, ऐंग्जाइटी, पीटीएसडी, जैसी मानसिक समस्याओं से पीड़ित हो रहे हैं.


आज कल हर व्यक्ति में तनाव बहुत सामान्य सी बात होती जा रही है. यही नहीं तनाव कई अलग-अलग कारणों से भी हो सकता है. कारण चाहे जो हो- काम का जबरदस्त बोझ, रिश्तों से जुड़ी समस्याएं, आर्थिक तंगी, भावनात्मक परेशानी, बीमारी का डर आपकी परेशानियां जितने अधिक समय तक रहेंगी, उतना ही अधिक आपके शरीर को स्ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल से निपटना होगा. कुछ मामलों में, स्ट्रेस, क्रॉनिक स्ट्रेस यानी लंबे समय तक जारी रहने वाले तनाव में भी बदल जाता है.


  1. याददाश्त और मूड पर असर: तनाव मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में तीव्र (एक्यूट) और पुराने (क्रॉनिक) परिवर्तन का कारण बन सकता है जिसकी वजह से ब्रेन में दीर्घकालिक नुकसान की आशंका बनी रहती है. तनाव हार्मोन कोर्टिसोल का अधिक स्राव कई बार याददाश्त को भी बाधित करने का काम करता है. साथ ही तनाव अनुभूति, ध्यान और स्मृति (मेमोरी) के साथ भी हस्तक्षेप करने लगता है. जब कोई व्यक्ति तनावग्रस्त होता है तो वह चिंता, भय, क्रोध, उदासी, या हताशा सहित कई अलग-अलग भावनाओं का अनुभव करता और ये सारी चीजें मिलकर उसके मूड को प्रभावित करती हैं.
  2. इम्यून सिस्टम पर असर: जैसे-जैसे तनाव बढ़ने लगता है और दीर्घकालिक हो जाता है, यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया (इम्यून रिस्पॉन्स) को कम कर देता है, जिस कारण व्यक्ति को बीमारियां होने का खतरा काफी बढ़ जाता है. शरीर में लंबे समय तक बने रहने वाला तनाव साइटोटॉक्सिक टी लिम्फोसाइट्स की प्रभावकारिता को भी कम कर देता है, जो शरीर को कैंसर और ट्यूमर से लड़ने में मदद करते हैं.
  3. हृदय संबंधी कार्यों पर असर: जब कोई व्यक्ति किसी तनावपूर्ण स्थिति में होता है तो उसका शरीर एड्रेनलिन रिलीज करता है. यह एक ऐसा हार्मोन है जो अस्थायी रूप से आपकी सांस लेने की दर और हृदय गति को तेज कर देता है और आपका ब्लड प्रेशर भी बढ़ने लगता है. ये सारी प्रतिक्रियाएं आपको एक खास तरह की स्थिति से निपटने के लिए तैयार करती हैं जिसे “फाइट या फ्लाइट” प्रतिक्रिया कहते हैं. लेकिन तनाव के प्रति शरीर के इस रिऐक्शन के कारण शरीर में ऑक्सीजन की मांग बढ़ने लगती है और जब यह मांग पूरी नहीं होती है, तो यह खतरनाक हो सकता है और व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ सकता है.
  4. पाचन तंत्र पर असर: गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (जठरांत्र) या जीआई सिस्टम पर तनाव के प्रभावों को दो पहलुओं में वर्गीकृत किया जा सकता है. पहला- जो लोग तनाव में होते हैं उन्हें अक्सर भूख नहीं लगती और दूसरा- तनाव आपके सामान्य जीआई कामकाज को प्रभावित करता है. यह बदले में इरेटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS) जैसी बीमारियों को जन्म देता है. इतना ही जब आप स्ट्रेस में होते हैं तो लिवर शरीर में ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए अतिरिक्त ब्लड शुगर (ग्लूकोज) का उत्पादन करता है. अगर आप लगातार लंबे समय तक स्ट्रेस में रहें तो आपका शरीर इस अतिरिक्त ग्लूकोज की वृद्धि को संभाल नहीं पाता और इस कारण टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम बढ़ जाता है.
  5. मांसपेशियों पर असर: जब आप तनाव में होते हैं तो आपकी मांसपेशियों में भी खिंचाव उत्पन्न होता है और मांसपेशियों खुद को चोट से बचाने के लिए ऐसा करती हैं. एक बार जब तनाव खत्म हो जाता है और आप रिलैक्स हो जाते हैं तो मांसपेशियां भी आराम की स्थिति में लौट आती हैं, लेकिन अगर आप लगातार तनाव में रहते हैं, तो आपकी मांसपेशियों को आराम करने का मौका नहीं मिल पाता. टाइट और खिंचाव वाली मांसपेशियों के कारण व्यक्ति को सिरदर्द, पीठ में दर्द, कंधे में दर्द और शरीर में दर्द होने लगता है.

इस तरह से करें तनाव को मैनेज-


  • लंबे समय तक रहने वाला तनाव आपके शरीर के लिए कितना खतरनाक हो सकता है, आपने देख लिया इसलिए जहां तक संभव हो अपने रोजाना के तनाव को कम करने की कोशिश करें, और आराम करने के लिए समय निकालें.
  • अगर किसी बात को लेकर आपको तनाव महसूस हो रहा हो तो अपने परिवार के लोगों और दोस्तों से बात करें. कई बार बात करने से आप चीजों को सही परिप्रेक्ष्य में देख पाते हैं. कोई भी समस्या हो तो अपने प्रियजनों की सलाह लें और उनसे मदद मांगें.
  • लंबे समय तक रहने वाले तनाव को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है एक्सरसाइज करना क्योंकि एक्सरसाइज के दौरान फील गुड (हैपी) हार्मोन एंडोर्फिन रिलीज होता है जो आपके मूड को बेहतर बनाता है. वॉकिंग, रनिंग, स्विमिंग जो पसंद हो वो एक्सरसाइज करें. रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्सरसाइज करना शरीर के साथ-साथ मानसिक सेहत के लिए भी फायदेमंद है. लिहाजा फिट रहें और स्वस्थ और संतुलित भोजन का सेवन करें.
  • रोजाना कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद लें. अच्छी नींद किस तरह से आपके हृदय और मस्तिष्क को स्वस्थ रख सकती है इस बारे में भी वैज्ञानिक कई रिसर्च कर चुके हैं. लिहाजा नींद भी तनाव को कम करने में मदद करती है.
  • योग और मेडिटेशन भी तनाव को मैनेज करने में आपकी मदद कर सकते हैं.
  • किसी भी काम को करने से पहले अच्छी तरह से योजना बनाएं. इससे पहले कि आप कुछ भी करें, उस काम के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों पहलुओं का विश्लेषण करें. जितना संभव हो, अनावश्यक रूप से तनावपूर्ण स्थितियों से बचें.

Also Read: लगातार 1 हफ्ते तक काजू खाने से होंगे अचूक लाभ, फायदे सुनकर आज ही शुरू कर देंगे आप 


Also Read: सुबह जल्दी उठने में आता है आलस ?, तो इन तरीकों से बदल जाएगी आपकी जिंदगी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

दालचीनी और शहद के हैं कई बेजोड़ फायदे, जानकर आप भी करने लगेंगे इस्तेमाल

Satya Prakash

इस तेल को कॉफ़ी में मिलकर पीने से कम होती है चर्बी, तेजी से दिखने लगेगा असर

Satya Prakash

Lockdown: इस एक्सरसाइज से चुटकियों में दूर करें अपनी गर्दन और कंधे का दर्द

Satya Prakash