Breaking Tube
Corona News UP News

BHU में बनी ‘चंद्रोदय वटी’ ने किया कमाल, मात्र 3 दिन में Corona से ठीक होने का दावा

कोरोना महामारी के दौरान अगर किसी देश-विदेश में किसी चीज की सबसे अधिक चर्चा है तो वो है वैक्सीन, तमाम कंपनियां और देश दावे अपनी-अपनी वैक्सीन (Corona Vaccine) के कारगर होने के दावे कर रहे हैं. वहीं इसे लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट कहा है कि वैक्सीन कब आएगी इसे हम तय नहीं कर सकते. तनाव के इस माहौल के बीच बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) से राहत भरी खबर आई है. यहां आयुर्वेद संकाय में मल चंद्रोदय वटी (Chandrodaya Vati) के कोरोना मरीजों पर हुए शुरुआती क्लीनिकल ट्रायल के चमत्कारी परिणाम सामने आए हैं. माइल्ड और मॉडरेट श्रेणी के कोरोना रोगी तीन से पांच दिनों में ही निगेटिव आ गए है.


हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक परियोजना प्रभारी प्रो. नम्रता जोशी के नेतृत्व में प्रो. सुशील कुमार दुबे, डा. अभिषेक पांडेय, प्रो. जया चक्रवर्ती, प्रो.वाईबी. त्रिपाठी की टीम मल चंद्रोदय वटी का परीक्षण कर रही है. प्रो. नम्रता जोशी ने बताया कि अब तक माइल्ड व मॉडरेट श्रेणी के 25 रोगियों पर क्लिनिकल ट्रायल हो चुका है. इनमें दो रोगी ट्रायल करने वाली टीम के सदस्य हैं. ट्रायल में 80 फीसदी रोगी तीन से पांच दिन के अंदर निगेटिव हो गए. खास बात यह है कि एक रोगी ने उपचार के दौरान किसी अंग्रेजी दवा का सेवन नहीं किया.


आयुष मंत्रालय से मिली सहायता

इस परियोजना पर कार्य करने के लिए आयुष मंत्रालय ने दस लाख रुपये की धनराशि उपलब्ध कराई गई है. प्रो. नम्रता जोशी ने बताया कि इस परियोजना को मूर्त रूप देने में जिलाधिकारी डा. कौशलराज शर्मा ने विशेष दिलचस्पी दिखाई. उन्होंने जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक और राजकीय आयुर्वेदिक महाविद्यालय की प्राचार्य को परियोजना में पूर्ण सहयोग के लिए प्रेरित किया.


100 रोगियों पर परीक्षण के बाद रिपोर्ट

प्रो. जोशी ने बताया कि मलचंद्रोदय वटी के साथ अष्टादधांग क्वाथ घनवटी और पारिजात कशाय का उपयोग किया जा रहा है. ये पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक औषधियां हैं. उन्होंने बताया कि फाइनल रिपोर्ट कुल 100 रोगियों के तुलनात्मक अध्ययन पर आधारित होगी. उनमें 50 ऐसे रोगी आयुर्वेदिक और 50 एलोपैथिक दवाओं का सेवन कर रहे हैं. पहले चरण में बीएचयू में भर्ती रोगियों पर परीक्षण किया गया. दूसरे चरण में पं. दीनदयाल उपाध्याय जिला अस्पताल में भर्ती रोगियों पर परीक्षण हो रहा है.


गोज्वादि और शिरिषादि क्वाथ का भी सफल परीक्षण

मलचंद्रोदय वटी के क्लिनिकल ट्रायल से पहले आयुर्वेद संकाय के दो प्रोफेसरों की टीम ने गोज्वादि और शिरिषादि क्वाथ पर आधारित दो दवाओं का 140 रोगियों पर क्लिनिकल ट्रायल किया था. आयुर्वेद संकाय में विकृति विज्ञान विभाग के प्रो. पीएस. बैदगी और क्रिया शरीर विभाग के प्रो. सुशील कुमार दुबे की टीम इन दिनों अपने परीक्षण के दूसरे और निर्णायक चरण में कार्य कर रही है. मौजूदा समय में 80 रोगियों पर दवा का परीक्षण चल रहा है. इसका परिणाम आते ही आयुष मंत्रालय को विस्तृत रिपोर्ट भेजी जाएगी.


Also Read: भारत में कब और कितने रुपये में मिलेगी कोराना वैक्सीन, कब तक लग जाएगा सबको टीका, यहां जानें


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

सिर्फ पुलिस ही क्यों, अन्य विभागों के भ्रष्ट कर्मियों की भी सोशल मीडिया पर शेयर की जाएं तस्वीरें, हाईकोर्ट के अधिवक्ता की मांग

Jitendra Nishad

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में CM योगी का योगदान, अपने खाते से दिए 11 लाख रुपए

Jitendra Nishad

लखनऊ: लॉकअप में घुसकर ई-रिक्शा चालक को पूर्व DIG ने पीटा, फिर दबा दिया था गला, गिरफ्तारी की तैयारी में पुलिस

BT Bureau