Breaking Tube
News Police & Forces

यूपी: दिल्ली पुलिस के समर्थन में उतरे पुलिसवालों के परिजन, बोले- घटना से टूटा है पुलिसकर्मियों का मनोबल

दिल्ली में तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच हुई भिड़ंत के बाद यूपी पुलिस ने दिल्ली पुलिस का काफी समर्थन किया है. ताजा मामला गाजियाबाद (Ghaziabad) का है, जहाँ यूपी पुलिस कर्मियों के परिजनों ने बुधवार शाम सड़क पर उतर अपना विरोध जताया. पुलिसकर्मियों के परिजनों ने गाजियाबाद के हापुड़ रोड स्थित आईएमटी कॉलेज से एसएसपी कार्यालय तक कैंडल मार्च किया.


परिजनों ने जताई चिंता

दरअसल, गाजियाबाद (Ghaziabad) जिले में पुलिसकर्मियों और परिजनों ने दिल्ली पुलिस के सपोर्ट में एक कैंडल मार्च निकाला. इस मार्च में पुलिसकर्मी और उनके परिजन भी शामिल थे. सभी अपने-अपने हाथों में कैंडल और तख्तियां लेकर चलते हुए करीब 35 मिनट बाद गाजियाबाद एसएसपी कार्यालय पहुंचे. जहां कुछ देर मौन रखकर लोगों ने तीस हजारी कोर्ट परिसर में हुई घटना पर दुख और चिंता जताई.


Also Read : SC के वकील की मांग, धरना देने वाले पुलिसकर्मियों पर कमिश्नर करें कार्रवाई


हालाँकि अनुशासन की वजह से कोई भी पुलिसकर्मी वर्दी पहन के इस कैंडल मार्च में शामिल नहीं था लेकिन परिजनों के मन में बैठे डर की वजह से उन्होंने इस कैंडल मार्च को निकालने की बात ठानी. परिजनों ने मामले की निष्पक्ष जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा कि पुलिस के साथ हुई इस बर्बरता की वजह से देशभर में पुलिस कर्मियों का मनोबल टूटा है.


चल रहा है विरोध का सिलसिला

गौरतलब है कि 2 नवंबर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट परिसर में दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच झड़प हो गई थी. जिसमें कई पुलिसकर्मी और वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इसके बाद से हर जगह वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच ठनी हुई है. दोनों तरफ से जबर्दस्त विरोध का सिलसिला जारी है.


Also Read : कानपुर: वकीलों ने निहत्थे सिपाही को घेर कर पीटा, बचाने आये दारोगा के साथ भी की बदसलूकी, नोंच लिए बिल्ले


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

What to anticipate From a Mattress Sales rep

Jitendra Nishad

महिला सुरक्षा की दिशा में बड़ा कदम, लखनऊ में जल्द स्थापित होंगे 100 पिंक पुलिस बूथ

Shruti Gaur

मेरठ: चेकिंग के दौरान आईकार्ड दिखाने पर भी पुलिसकर्मियों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, धरने पर बैठे डॉक्टर

Jitendra Nishad