Breaking Tube
International News

मसूद अजहर के भाई मुफ्ती असगर के इशारे पर तबाही की तैयारी में थे नगरोटा में मारे गए 4 आतंकी, घुसपैठ में पाकिस्तानी सेना ने दिया साथ

Nagrota masood azhar Mufti Asghar

बीते गुरुवार की सुबह जम्मू और कश्मीर (Jammur kashmir) के जम्मू जिले के नगरोटा (Nagrota) के पास बान टोल प्लाजा पर आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई, जिसमें 4 आतंकवादी मारे गए। लेकिन सुरक्षा विशेषज्ञ इसे सिर्फ एक मुठभेड़ के तौर पर नहीं देख रहे। सुरक्षाबलों के मुताबिक, इन आतंकवादियों का उद्देश्य बड़ा हमला करना हो सकता था, जिसकी प्लानिंग सीमा पार से बनाई गई। मारे गए आतंकियों के पास से मिले जीपीएस डिवाइस और मोबाइल फोन के आधार पर की गई शुरुआती जांच में पता चला है कि वे पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ऑपरेशनल कमांडरों मुफ्ती रऊफ असगर और कारी ज़ार के संपर्क में थे। इनका उद्देश्य घाटी को दहलाना था। बता दें कि मुफ्ती असगर (Mufti Asghar) जैश-ए-मोहम्मद चीफ और संयुक्त राष्ट्र नामित वैश्विक आतंकवादी मसूद अजहर (Masood Azhar) का छोटा भाई है।


पाकिस्तानी सेना ने की आतंकियों की मदद


नगरोटा मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों का पाकिस्तानी सेना से सीधा कनेक्शन सामने आया है। पाकिस्तानी सेना ने ही इन आतंकियों की भारतीय सीमा में घुसपैठ कराई थी। आतंकियों ने पाकिस्तान के शकरगढ़ से जम्मू में घुसपैठ किया था, शकरगढ़ वही इलाका है, जहां पाकिस्तानी रेंजर्स का मुख्यालय है। बताया जा रहा है कि सेना का मुख्यालय जिस इलाके में होता है, वहां कड़ी निगरानी होती है। ऐसे में ये बात पुक्ता है कि चारों आतंकियों की घुसपैठ का सुरक्षित रास्ता पाकिस्तानी रेंजर्स ने ही चुना था, तभी ये आतंकी भारतीय सेना की नजरों से बच निकले।


Also Read: भारत को इस्लामिक मुल्क बनाने के लिए आंतकी बने थे मुस्लिम युवक, देबवंद में थी ट्रेनिंग लेने की तैयारी, मदरसा आईकार्ड बरामद


वहीं, आतंकियों और पाकिस्तानी सेना की मिलीभगत की पोल खोलता है बरामद हुआ हथियारों का जखीरा। आतंकियों को भारी मात्रा में हथियार सेना ही मुहैया करा सकती है। इन आतंकियों के पास से 6 एके-56, 5 एके-47, एक अंडर-बैरल ग्रेनेड लॉन्चर, 3 पिस्टल, 30 चायनीज बम जैसे खतरनाक हथियार बरामद हुए हैं। ऐसे हथियार सेना के जरिए ही इस्तेमाल किये जाते हैं। यही नहीं, इनके पास से कुछ दवाएं भी बरामद हुई हैं, जिन पर उर्दू नाम लिखा है, जिससे ये साफ होता है कि ये पाकिस्तान से ही आए थे।


26/11 की बरसी पर बड़ा हमला करने की थी तैयारी


नगरोटा में आतंकवादियों के मारे जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने शुक्रवार को एक अहम बैठक की। इस बैठक में पीएम मोदी के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल के अलावा कई अधिकारी भी मौजूद थे। सूत्रों की मानें तो चारों आतंकी मुंबई हमले की बरसी पर बड़ा हमला करने की प्लानिंग कर रहे थे। समीक्षा बैठक में नगरोटा एनकाउंटर पर विस्तार से चर्चा की गई।


Also Read: मदरसे में पढ़कर युवा बन रहे आतंकी, 13 छात्र आतंकवादी संगठनों में हो चुके हैं शामिल, पुलवामा हमले में सामने आई भूमिका


इस बैठक के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट किया था कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े 4 आतंकवादियों को मार गिराया जाना और उनके पास बड़ी मात्रा में हथियारों और विस्फोटकों की मौजूदगी संकेत देती है कि वे तबाही और विनाश को भड़काने वाले थे, लेकिन उनके प्रयासों को एक बार फिर से विफल कर दिया गया।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

Methods to Meet a Filipino

Jitendra Nishad

शामली: सिपाही ने फांसी लगाने से पहले फोन कर कहा था- अब बर्दाश्त नहीं होता, बहुत परेशान हो गया हूं

BT Bureau

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- भूटान और नेपाल भारत का हिस्सा हैं

S N Tiwari