Breaking Tube
News Police & Forces

प्रतापगढ़: सिपाही का बेटा बना DSP, पीसीएस परीक्षा में 12वीं रैंक लाकर पिता का नाम किया रोशन

प्रतापगढ़ (Pratapgarh) की पुलिस लाइन में तैनात सिपाही के बेटे ने यूपीपीसीएस की परीक्षा 2017 में अपना परचम लहरा दिया है. सिपाही के बेटे अमित सिंह की 12 रैंक आई है, और उनका चयन डीएसपी के पद पर हुआ है. बता दें कि अमित ने यूपीपीसीएस की परीक्षा के लिए अपनी इंजीनियरिंग भी छोड़ दी थी. उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया है.


बलिया में पोस्टेड हैं सिपाही

वैसे तो यूपीपीसीएस की परीक्षा 2017 में कई लोगों के घर खुशियाँ आयीं हैं लेकिन इनमें से एक यूपी पुलिस के सिपाही का बेटा भी है. सिपाही अनिल सिंह प्रतापगढ़ (Pratapgarh) की पुलिस लाइन में मुख्य आरक्षी के पद पर तैनात हैं. वह करीब चार साल से वहीं तैनात हैं.


Also read : हरदोई: अब रात में ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों को चाय पिलायेंगे थानेदार, खिलाएंगे बिस्कुट


प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में पोस्टेड सिपाही अनिल सिंह का बेटा अमित सिंह इंजीनियरिंग करने के बाद दिल्ली में नौकरी कर रहा था. इस दौरान उनके मन में अफसर बनने की ललक उठी तो वह तैयारी के लिए नौकरी छोडक़र चले आए. उन्होंने प्रयागराज में कमरा लेकर तैयारी शुरू की. महज दो साल की तैयारी कर अमित सिंह ने यूपी पीसीएस की परीक्षा में 12वीं रैक अर्जित की और उन्हें डीएसपी का पद प्राप्त हुआ.


Also Read: पुष्पेंद्र यादव केस: ADG ने परिवार के आरोपों को किया खारिज, बोले- एनकाउंटर टीम में शामिल ही नहीं थे आरोपी इंस्पेक्टर, मजिस्ट्रेटी जांच का इंतजार


मां-पापा को दिया सफलता श्रेय

अमित अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता व गुरुजनों को देते हैं. उनका कहना है कि दिनभर पढ़ाई करना व हमेशा परीक्षा को लेकर परेशान रहना ठीक नहीं है. सिपाही के घर में बेटे की सफलता के बाद दिवाली जैसा माहौल हो गया है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

To recognize Know About Mailbox Order Girlfriends or wives

Jitendra Nishad

प्रियंका गांधी ने रातभर दिया धरना, बोलीं- जमानत में एक पैसा नहीं भरुंगी, डाल दीजिये जेल में, पीड़ित परिवारों से बिना मिले यहां से नहीं जाउंगी

BT Bureau

पुलिसकर्मी बने महिला सिपाही के परिजन, धूमधाम से थाने में ही कराई गोद भराई की रस्म

Shruti Gaur