Breaking Tube
Crime News Police & Forces

STF के सिपाही कादिर का कमाल, मस्जिद में आतंकी जलीस की पहचान पुख्ता करने के लिए साथ पढ़ी थी नमाज

UP STF

देश के अलग-अलग हिस्सों में 50 से ज्यादा बम धमाकों के आरोपी हिज्बुल आतंकी जलीस अंसारी ने पूछताछ में कई अहम खुलासे किये हैं। 2 दिन पहले कानपुर गिरफ्तार किए गए जलीस अंसारी ने बताया कि पेरोल की मियाद के 21 दिनों में उसने बम बनाने की कई और तकनीक सीख ली थी। एसटीएफ (STF) की टीम ने हाल जलीस अंसारी से पूछताछ के बाद उसे महाराष्ट्र एटीएस की टीम को तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड पर सौंप दिया।


आपको बता दें कि इस आतंकी को गिरफ्तार करने में सबसे अहम भूमिका स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के सिपाही कादिर की रही। आतंकी जलीस अंसारी की जानकारी मिलते ही डीएसपी टीबी सिंह, प्रभारी घनश्याम यादव, राजकुमार, मोहर सिंह, रामदयाल पाण्डेय, धर्मपाल और अब्दुल कादिर की टीम ने शहर के हर संभावित इलाके में छानबीन शुरु कर दी थी। मुखबिरों को सक्रिय किया गया, तो जलीस का ऊंची मस्जिद से कनेक्शन और कुछ पुराने परिचितों की जानकारी मिली। सुबह 11 बजे से टीम ने मस्जिद के आसपास निगरानी बढ़ा दी।


Also Read: आतंकी डॉ. जलीस अंसारी का पूछताछ में खुलासा, CAA-NRC को लेकर पूरे देश में विद्रोह की भूमि तैयार, नहीं समझी सरकार तो भुगतना होगा अंजाम


एटीएस मुंबई की ओर से भेजी गई जलीस की फोटो को टीम के हर सदस्य को दिया गया। करीब 12 बजे उसी कद काठी के व्यक्ति को मस्जिद में घुसते देख कांस्टेबल कादिर को उसके पीछे लगाया गया। कादिर ने जलीस केसाथ नमाज पढ़कर उसकी पहचान पुख्ता करने की कोशिश की। नमाज के बाद जलीस हर किसी से ऐसे मिलने लगा कि जैसे पुराना परिचित हो।


इसी बीच एक आदमी ने डॉ. बम से पूछ लिया, आप कहां से आए हैं। यह सुनते ही पक्का हो गया कि यही डॉ. बम है। कादिर व एसटीएफ के अन्य सदस्यों ने आतंकी को दबोच लिया। आतंकी जलीस अंसारी उर्फ डॉ बम का बाबूपुरवा और यतीमखाना में हुई हिंसा से कनेक्शन खंगाला जा रहा है। हिंसा में शामिल उपद्रवी अब एटीएस और एसटीएफ की रडार पर भी आ गए हैं।


Also Read: अलीगढ़: दलित महिला का गैंगरेप कर बनाया अश्लील वीडियो, ब्लैकमेल कर बेटी से संबंध बनाने और धर्मपरिवर्तन का दबाव


डॉ. बम की तैयारी थी कि वह यहां पर मास्टर अब्दुल्ला बनकर फिदायीन दस्ते तैयार करेगा। उसने फिदायीन दस्तों को प्रशिक्षण देने के लिए फेथफुलगंज के एक संस्थान को ठिकाना बनाने के लिए सोच लिया था। रविवार को मुंबई एटीएस उसे अपने साथ ले गई। अंसारी ने मुंबई एटीएस के साथ रवाना होने से पहले पूछताछ में एसटीएफ से कहा है कि हालात खराब हैं, सुधरने तक किसी को गिरफ्तार न करें। यह बात सुनकर एसटीएफ व अन्य सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं।


सूत्रों के अनुसार बाबूपुरवा और यतीमखाना हिंसा में शामिल उपद्रवियों का डॉ. बम से कनेक्शन खंगाला जाने लगा है। एसटीएफ सूत्रों ने बताया है कि डॉ. बम ने कहा है कि जेल के भीतर से भी वह सब कुछ कर सकता है। उसने यह भी कहा है कि वह नेपाल को अपना ठिकाना बनाने वाला था। नाम बदलकर वहां रहता और यहां आतंकी हमले कराता। पकड़े जाने से मंसूबे फिलहाल फेल हो गए हैं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

दिल्ली: 7 साल की बच्ची के साथ दरिंदगी, प्राइवेट पार्ट्स में डाला प्लास्टिक का पाइप

BT Bureau

आतंकियों के समर्थन में उतरे पूर्व जज, आईपीएस, बाटला एनकाउंटर को बताया फ़र्ज़ी

BT Bureau

यूपी: ADG प्रशांत कुमार का अपराध पर शिकंजा, दहशत में आये इनामी शातिर अपराधी, खुद थाने जाकर बोल रहे- ‘मुझे कर लीजिये गिरफ्तार’

BT Bureau