Breaking Tube
Police & Forces UP News

ट्रैक्टर परेड: किसानों की हिंसा में 109 पुलिसकर्मी घायल, 45 ट्रामा सेंटर में भर्ती

कल दिल्ली में हुई हिंसा में किसान आंदोलन की आड़ में जमकर प्रदर्शन हुआ। बड़ी बात ये है कि इसी प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मियों पर जानलेवा हमला हुआ। इन हमलों में कुल 109 पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। इनमे से 45 ट्रामा सेंटर में भर्ती हैं जबकि एक की हालत गंभीर है। सभी को इलाज के लिए अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। वहीं देर शाम हालात सामान्य करने के लिए बवाल वाले इलाकों में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है।


इतने पुलिस कर्मी घायल

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में हुई ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा में कुल 109 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। दिल्ली के नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट के करीब 45 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट के घायल पुलिसकर्मियों को उपचार के लिए सिविल लाइन अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया गया है। जबकि, 18 घायल पुलिसकर्मियों को उपचार के लिए लोकनायक जयप्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमे से एक की हालत नाजुक बताई जा रही है।


जानकारी देते हुए दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त प्रवक्ता अनिल मित्तल ने कहा कि झड़पों में कुल 109 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिनमें लाल किला और पूर्वी जिले में हुई घटनाएं भी शामिल हैं। वहीं अतिरिक्त डीसीपी (पूर्वी) मंजीत उस समय बाल-बाल बच गये जब कुछ किसानों ने उन्हें अपने ट्रैक्टर से धक्का मारने की कोशिश की लेकिन उन्हें कोई चोट नहीं आई।


अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कुछ को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई। उनमें से अभी करीब 22 लोग भर्ती हैं जिनमें एक थाना प्रभारी (एसएचओ) और 10 अन्य पुलिसकर्मी शामिल हैं। चोटों के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने बताया कि इन लोगों के पैर और हाथ में फ्रैक्चर हैं तथा कटने के भी जख्म हैं। 


Also Read : ट्रैक्टर मार्च के नाम पर उत्पात, दिल्ली में पत्थरबाजी, सुरक्षाकर्मियों को तलवार लेकर दौड़ाया, सार्वजनिक संपत्ति को पहुंचा रहे नुकसान


जमकर किया पथराव

दिल्ली में हो रहे प्रदर्शन में सैकड़ों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर दौड़ाए और पुलिस पर आक्रामक रुख अख्तियार किया। पुलिस ने भी प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए आंसू गैस के गोले दागे, लाठीचार्ज किया लेकिन जैसे ही पुलिस उन्हें रोकने की कोशिश करती थी, तभी किसानों की ओर से ट्रैक्टर को पुलिस की ओर दौड़ाया जाता। कई बार प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक्टर को पुलिस के वाहनों पर चढ़ाने की कोशिश की। पुलिस से जब स्थिति नहीं संभली तो आईटीओ के पास रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात करना पड़ा।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

‘आत्मनिर्भर भारत’ की तरफ बढ़ते UP के कदम, योगी सरकार औरैया में बनाएगी पहला इंडस्ट्रियल पार्क

Jitendra Nishad

अमेठी: सिपाही पर सेक्स के लिए महिला पर दबाव बनाने का आरोप, इंकार पर फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी

BT Bureau

साहिबजादों के बलिदान को पाठ्यक्रम में शामिल करेगी UP सरकार, CM योगी बोले- सही मायनों में यही है ‘बाल दिवस’

BT Bureau