Breaking Tube
Police & Forces UP News

वाराणसी: चौकी इंचार्ज के तबादले पर मायूस हुए बच्चे, बोले – अंकल आप मत जाइये, हम कभी शरारत नहीं करेंगे

कई बार देखा गया है कि बच्चों के मन में पुलिस को लेकर काफी गलत छवि बनी हुई थी, लेकिन अब इसमें बदलाव आ गया है. पुलिसकर्मियों के व्यवहार के चलते अब बच्चे पुलिस को अपना दोस्त मानने लगे हैं. यही वजह है कि बच्चे अब पुलिस से नहीं डरते. बच्चों और पुलिस के बीच समन्वय बैठाने के लिए वाराणसी (Varanasi) के एक चौकी इंचार्ज उन्हें पढ़ाने के लिए चौकी में ही पाठशाला भी लगाते थे. पर, अब जब एसएसपी ने चौकी इंचार्ज का ट्रांसफर कर दिया तो उनसे पढ़ने वाले बच्चे रो दिए. उनका कहना था कि हम अब पढ़ेंगे लेकिन आप जाइये मत.


एसएसपी ने किया ट्रांसफर

जानकारी के मुताबिक, चौकी इंचार्ज अम्बिया मंडी अनि‍ल कुमार मि‍श्र हर रोज सूरज ढलने के साथ ही सभी काम छोड़कर अपनी चौकी के आस-पास के बच्‍चों के टीचर बन जाते थे. बच्‍चे उनके पास कॉपी-किताब खोलकर बैठते और फिर शुरू होती थी अनिल सर की क्लास, जिसमे शिक्षा के ककहरे के साथ ही साथ आज़ादी के मतवालों और भारत की महान विभूतियों का गुणगान किया जाता था. चौकी इंचार्ज काफी समय से इन बच्चों को पढ़ा रहे हैं.


पर, इसी बीच अब एसएसपी अमित पाठक ने कानून और शान्ति व्यवस्था कायम रखने के लिए कई पुलिसकर्मियों के थानाक्षेत्र में परिवर्तन किया है. इसी क्रम में वाराणसी के कोतवाली थानाक्षेत्र की अम्बिया मंडी चौकी इंचार्ज अनिल कुमार मिश्रा का भी कपसेठी थाने पर तबादला कर दिया गया है. इस तबादले की खबर सुन अम्बिया मंडी चौकी पर व्यापारियों का नहीं बल्कि बच्चों का जमावड़ा लगा था. सभी की आँखों में आंसू थे और सभी बस एक ज़िद कर रहे थे अंकल आप मत जाइये, हम कभी शरारत नहीं करेंगे और अपना होमवर्क भी पूरा करेंगे.


कपसेठी थाने में तबादले की खबर पर इस कक्षा में पढ़ने वाले छात्र यहां उपस्थित हुए और रो पड़े. कक्षा सात के छात्र के पंकज, कक्षा 6 की छात्रा मुस्कान उनसे लिपट गए और न जाने का मनुहार करने लगे. चौकी इंचार्ज ने उनके सर पर प्यार से हाथ फेरा और पढ़ने के लिए हमेशा प्रयासरत रहने का मन्त्र दिया पर बच्चों की आँखों से आंसू नहीं थमे.


हर रोज लगती थी दरोगा जी की क्लास

बता दें कि वाराणसी की अंबियां मंडी पुलिस चौकी के आसपास बड़ी संख्या में गरीब और निम्न मध्यमवर्गीय परिवार के लोग रहते हैं. इनके बच्चे स्कूल से वापस आकर हमेशा इधर उधर घूमते रहते हैं. जिस वजह से ये डर बना रहता है कि बच्चे गलत संगत में ना पड़ जाएं. इसी के चलते चौकी प्रभारी अनिल कुमार मिश्रा ने पाठशाला के जरिए यहां के बच्चों को पढ़ाने और उन्हें आत्मरक्षा में निपुण करने का बीड़ा उठाया था. बच्चे भी उनसे पढ़ने के लिए काफी उत्साहित रहते हैं. दौरान बच्चों को पुलिस अंकल रोजाना शाम के समय अपनी चौकी पर बिस्कुट-टॉफी, मास्क व सैनिटाइजर बांटते नजर आ जाते हैं. बच्चों को भी पुलिस अंकल का बेसब्री से इंतजार रहता है


Also Read: मिर्जापुर: अदलहाट थाने की कथित वसूली लिस्ट वायरल करने वाले शख्स तक पहुंची पुलिस, दावा- अवैध कार्यों के बदले 20 लाख से ज्यादा वसूलती है पुलिस


Also Read: PFI पर शिकंजे के बाद ISO नाम से खड़ा किया गया नया संगठन, हाथरस मामले की जांच कर रहीं एजेंसियों का बड़ा खुलासा


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

यूपी: MBBS और BDS छात्रों को योगी सरकार का तोहफा, हर महीने मिलेंगे 12 हजार रुपये

BT Bureau

बदायूं केस: अन्य महिला से संबंध वारदात की वजह तो नहीं ?, मुख्य आरोपी ने किए चौंकाने वाले खुलासे

BT Bureau

दिलीप घोष ने बांग्लादेशियों पर फोड़ा ज्वालामुखी कहा – भारत में 1 करोड़ बांग्लादेशी किसी को नहीं छोड़ेंगे

Satya Prakash