Breaking Tube
Police & Forces UP News

कानपुर: विकास दुबे की काली कमाई पर ED ने शुरू की कार्रवाई, जांच की जद में कई पुलिसकर्मी

कानपुर के बिकरू गांव में हुए शूटआउट कांड के बाद भले ही मुख्य आरोपी विकास दुबे एनकाउंटर में मारा जा चुका है, इसके बावजूद भी अब ईडी ने अपनी जांच शुरू कर दी गई। इस जांच की जद में ना सिर्फ विकास दुबे की पत्नी और साथी बल्कि कई पुलिसकर्मी भी आ सकते हैं। दरअसल, विकास दुबे गिरोह के मददगार रहे पुलिसकर्मियों पर भी शिकंजा कस सकता है। विकास दुबे ने कई पुलिसकर्मियों को भूखंड भी दिए थे। अब उन पुलिसकर्मियों की संपित्त की जांच भी शुरू हो सकती है। जल्द ही कई बड़े नामों के खुलासे भी हो सकते हैं।


शुरू हुई जांच

जानकारी के मुताबिक, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कानपुर में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। पुलिस मुठभेड़ में मारे जा चुके कुख्यात विकास दुबे के खजांची जय बाजपेयी समेत अन्य को आरोपित बनाया गया है। इन सभी की संपत्ति की जांच ईडी शुरू करेगी। इसके अलावा इस मामले कई पुलिसकर्मी भी आरोपित बने हैं, जो इस गिरोह का साथ देते थे। ईडी सभी के खिलाफ जांच कर रही है।


also read: इंद्रकांत हत्याकांड: IPS मणिलाल को ढूढ़ रही पुलिस, जांच की जद में कई पुलिस अफसर


अगर पुलिसकर्मियों की बात करें तो ईडी इस बात की तह तक पहुंचेगी कि विकास दुबे के गिरोह का साथ देने वाले पुलिस कर्मियों की नौकरी से पहले और बाद की स्थिति क्या है। नौकरी में आने से पहले उनके पास कितनी सम्पत्ति थी और बाद उसमें कितना इजाफा हुआ। साथ ही वर्तमान का पे स्केल, लोन आदि के बारे में भी जानकारी ली जाएगी। इसके अलावा यह भी पता लगाया जाएगा कि उनके परिवार के लोगों के नाम पर नौकरी में आने से पहले और उसके बाद कितनी सम्पत्ति थी।


बता दें कि शुरुआती जांच में सामने आया था कि विकास दुबे ने अपने करीबी आठ से अधिक पुलिसकर्मियों को प्लाट दिए थे। यह प्लाट सस्ती दरों पर दिए गए थे अथवा अपराध में सहयोगी रहे पुलिसकर्मियों को विकास ने प्लाट मुफ्त में ही आवंटित कर दिए थे। इस दिशा में भी छानबीन के कदम बढ़ेंगे। ईडी खासकर विकास दुबे गिरोह की बेनामी संपित्तयों के बारे में जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है। उसके हाथ कई अहम जानकारियां भी लगी हैं।


आठ पुलिसकर्मियों की हत्या को दिया था अंजाम

गौरतलब है कि कानपुर के बिकरू में तीन जुलाई की रात को शातिर अपराधी विकास दुबे ने गिरोह के साथ मिलकर डिप्टी एसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों को गोलियों से भून डाला था। वारदात में आठ पुलिसकर्मी घायल भी हुए थे। कुछ दिन बाद पुलिस ने दस जुलाई की सुबह विकास दुबे को मुठभेड़ में मार गिराया। वहीं इसके गिरोह के कई साथी मारे जा चुके हैं तो कई जेल में है। जिनके खिलाफ कार्रवाई जारी है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

यूपी: चाय पीने को लेकर हुआ विवाद, दुकानदार ने लोगों के साथ मिलकर सिपाही को थाने में घुसकर पीटा

S N Tiwari

बुलंदशहर: सिपाही से लूटी हुई वर्दी पहनकर अपराधों को देता था अंजाम, एनकाउंटर में गिरफ्तार

BT Bureau

UP Police पर BSNL की कार्रवाई, सारे थानों का काटा इंटरनेट कनेक्शन, एडीजी बोले- करवा देंगे भुगतान!

BT Bureau