Breaking Tube
Police & Forces

यूपी: इस IPS अफसर ने कविता के जरिए बताई खाकी की अहमियत, सोशल मीडिया पर हुई वायरल

Corona virus से इस जंग में हर कोई एक साथ खड़ा है। जंग में सबसे आगे हैं डॉक्टर्स और पुलिस। बावजूद इसके कई जगह पुलिस को तिरस्कार सहना पड़ता है। लोग हमला कर रहे हैं, जबकि पुलिस उनकी सुरक्षा में लगी है। इसी को देखते हुए आज के हालत पर आईपीएस अफसर सुकीर्ति माधव ने एक कविता लिखी है, जिसका नाम है कर्मयोगी। ये कविता पुलिस के उस कर्तव्य को बयां कर रही है जो आज कल पुलिस निभा रही है। आइए आपको भी बताते हैं कि ऐसा इस कविता में है क्या जो ये सोशल मीडिया पर इस क़दर वायरल हो रही है।


क्या है कविता

आईपीएस सुकीर्ति माधव द्वारा लिखी गई इस कविता में पुलिस की जिम्मेदारियों का बखूभी वर्णन किया गया है। आईपीएस ने इसमें लिखा है कि पुलिसकर्मी किस तरह से बारिश धूप और सर्दियों में डटे रहते हैं। इतना ही नहीं सिर्फ एक बार आवाज लगाने पर आपको मदद को पहुंचते हैं। चाहे भूख लगे या प्यास लेकिन उनके लिए ड्यूटी सबसे ऊपर होती है। कई बार तो पुलिसकर्मी अपने मन की व्यथा को कह भी नहीं पाते हैं।


Also read: यूपी: UP 112 पर कॉल करके लोग आटा के साथ मांग रहे डाटा, पुलिसकर्मी परेशान


नासिक के पुलिस कमिश्नर विश्वास नागरे पाटिल ने एक कार्यक्रम में इस कविता को लयबद्ध तरीके से पेश किया। जिसका वीडियो ट्विटर पर सात हजार से ज्यादा लोग देख चुके हैं।


कौन है आईपीएस

मूल रूप से बिहार के रहने वाले सुकीर्ति के पिता अध्यापक के पद से रिटायर हुए और मां गृहिणी हैं। एनआईटी दुर्गापुर से पढ़ाई कर कोल इंडिया में मैनेजर रहते हुए यूपीएससी की परीक्षा पास की और आईपीएस अफसर बने। 2019 के प्रयागराज कुंभ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के बाद लखनऊ के एसपी नॉर्थ रहे और फिलहाल वाराणसी में एसपी सिक्योरिटी के पद पर तैनात हैं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

संभल: फ़िल्मी स्टाइल में मिर्ची पाउडर झोंक फरार हुए थे कैदी, जांच में यह बड़ी चूक आई सामने

BT Bureau

यूपी: इन तीन जिलों में बनेगी पीएसी की महिला बटालियन, 3786 पदों पर होगी भर्ती

BT Bureau

यूपी: अब एएसपी से सिपाहियों तक को हर साल देना होगा सम्पति का ब्यौरा, DGP ने शासन को लिखा पत्र

Shruti Gaur