Breaking Tube
Police & Forces

झांसी: पुलिस एनकाउंटर में ढेर हुआ खनन माफिया, इंस्पेक्टर को बुलाकर मारी थी गोली

शनिवार को झांसी (Jhansi) में एसओ को गोली मारने की घटना सामने आई थी. घटना की बाद से पुलिस की टीमें गोली मारने वाले खनन माफिया की तलाश में जुटी हुई थी. इसके बाद पुलिस एनकाउंटर में खनन माफिया पुष्पेन्द्र को ढेर कर दिया. इस दौरान उसके दो साथी मौके से भाग निकले. घटनास्थल से पुलिस को तमंचे, कारतूस और मोबाइल बरामद किये गये हैं.


खनन माफिया ने मारी थी इंस्पेक्टर को गोली

जानकारी के मुताबिक, झांसी (Jhansi) जिले के मोंठ प्रभारी निरीक्षक धर्मेंद्र सिंह चौहान ने दो दिन पहले अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई की थी. उन्होंने एक खनन माफिया का ट्रक सीज कर दिया था. इससे माफिया खुन्नस खाए हुए थे. शनिवार की रात मोंठ इंस्पेक्टर कानपुर से अपनी कार से मोंठ आ रहे थे. माफिया ने रास्ते में उनको फोन कर कहा कि वह मिलना चाहता है. इस पर इंस्पेक्टर ने मोंठ से पहले हाइवे पर मिलने के लिए कहा. जैसे ही वहां कार से इंस्पेक्टर पहुंचे खनन माफिया ने गोली चला दी.


Also Read : हेड कांस्टेबल ने DGP से पूछा सवाल- मेरी पत्नी के साथ कुछ दुर्घटना होती है तो जिम्मेदारी किसकी?


चेकिंग के दौरान हुआ ढेर

एसएसपी डॉ.ओपी सिंह के अनुसार झांसी (Jhansi) के गुरसराय क्षेत्र में रात करीब 2.30 बजे फरीदा गांव के पास सड़क पर कार आती दिखी. पुलिस ने कार को रोकने का प्रयास किया. इस दौरान कार सवारों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी. जवाब में पुलिस ने भी गोली चलाई, जो पुष्पेंद्र के सिर में जा लगी. मौका पाकर दोनों साथी भाग निकले. पुलिस टीम पुष्पेंद्र को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंची, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. पुलिस ने कार से तमंचे, कारतूस व मोबाइल बरामद किए हैं.


Also Read : झांसी: खनन माफियाओं ने इंस्पेक्टर से निकाली अपनी खुन्नस, फोन करके मिलने बुलाया और फिर मार दी गोली…


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

साथी कुख्यात को कस्टडी से छुड़ाने के लिए बदमाशों ने पहले दारोगा की आंखों में झोंकी लाल मिर्च, फिर मार दी गोली

BT Bureau

दिल्ली की मोस्ट वांटेड ‘लेडी डॉन’ को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानिए कितनी की है हत्याएं

BT Bureau

यूपी: लॉकडाउन के बीच रोजाना 15 किसी की दौड़ लगा रहा ये IPS, जानें वजह

Shruti Gaur