Breaking Tube
Crime Police & Forces

बंगाल में छापेमारी करने गए बिहार के इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार की मॉब लिंचिंग, भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला

Kishanganj Inspector Ashwani Kumar

बिहार-बंगाल सीमा पर छापेमारी करने गए एक थानेदार की बेरहमी से हत्या कर दी गई है। घटना उस वक्त की है जब किशनगंज (Kishanganj) नगर थाने के एसएचओ अश्विनी कुमार (Inpsector Ashwini Kumar) अपनी टीम के साथ किशनगंज से सटे बंगाल के बनतापारा में शुक्रवार की देर रात एक लूट केस के मामले में छापेमारी करने गए थे। इस दौरान एसएचओ मॉब लिंचिंग का शिकार हो गए। हिंसक भीड़ ने उन्हें पीट-पीट कर मार डाला।


वहीं, घटना की सूचना पर पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस टीम मौके पर पहुंची। उधर, सूचना पाकर पुलिस अधिकारी पूर्णिया आईजी सुरेश चौधरी और एसपी कुमार आशीष भी पहुंच गए। इसके बाद किशनगंज नगर थाने के एसएचओ का शव पोस्टमार्टम के लिए इस्लामपुर अस्पताल लाया गया, जहां अधिकारियों की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।


Also Read: यूपी: झांसा देकर सिपाही ने किया था दुष्कर्म, IG के पास पहुंची शिकायत अब शादी के लिए हुआ तैयार


इस मामले में डीजीपी एसके सिंघल ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी से बात की है। उन्होंने घटना को दुखद बताते हुए कहा कि शहीद इंस्पेक्टर के परिजनों की मदद की जाएगी। डीजीपी ने बताया कि पुलिस इंस्पेक्टर अश्वनी कुमार लूट कांड के सिलसिले में छापेमारी करने गए थे। अपराधियों का कनेक्‍शन सीमावर्ती पश्चिम बंगाल के क्षेत्र से होने की जानकारी पर उन्होंने पश्चिम बंगाल के उत्‍तरी दिनाजपुर जिले के पांजीपाड़ा थाने को सूचना देने के बाद छापेमारी शुरू की।


इसी दौरान पंजीपाड़ा थाने के पनतापाड़ा गांव में भीड़ ने अपराधियों के बचाव में पुलिस पर हमला कर दिया। आरोप है कि पश्चिम बंगाल की पुलिस ने सूचना के बावजूद बिहार पुलिस की टीम को कोई सहयोग नहीं किया। जानकारी के अनुसार, एसएचओ की हत्या शनिवार की सुबह करीब 4 बजे के आसपास की गई। छापेमारी के दौरान अचानक भीड़ ने हमला बोल दिया। इस दौरान बाकी पुलिसकर्मी किसी तरह बच निकले, लेकिन इंस्पेक्टर अश्विनी अपराधियों के हाथ लग गए।


Also Read: कानपुर में भ्रष्ट पुलिसकर्मियों पर कमिश्नर असीम अरुण का एक्शन, 1 लाख रुपए लेने के आरोप में थाना प्रभारी व सिपाही पर गिरी गाज


अपराधियों ने उन्हें पीट-पीटकर मार डाला। इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार का गला दबाए जाने की बात भी सामने आ रही है। इस सनसनीखेज वारदात को लेकर बिहार पुलिस एसोसिएशन ने कड़ी नाराजगी जाहिर की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार सिंह ने कहा कि बंगाल में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। उन्होंने इंस्पेक्टर की हत्या पर केंद्रीय गृह मंत्रालय से हस्तक्षेप करने और मृतक के परिजनों को बिहार और भारत सरकार से मदद की अपील की है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

पहचान लिजिए, यही है गोमतीनगर विस्तार का दरिंदा मैनुद्दीन अंसारी, जिसने मासूम के साथ लिफ़्ट में की थी दरिंदगी की कोशिश, लोग बोले- जेल नहीं फांसी पर लटकाओ

BT Bureau

Lockdown में लोगों की ऐसे मदद करेगी UP Police, DGP ने दी जानकारी

Satya Prakash

मुजफ्फरनगर: मुठभेड़ में दो शातिर इनामी फैजान और शाहनजर गिरफ्तार, टॉप-10 बदमाशों की लिस्ट में थे शामिल

BT Bureau