Breaking Tube
Police & Forces

सीतापुर: गोला-बारूद भंडार गृह में सिपाही ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, मुलायम सिंह यादव की आवाज में फोन कर अफसरों को देता था धमकी

जहाँ एक तरफ पुलिसकर्मी पुलिस की छवि को सुधारने की कोशिश में लगे रहते हैं, वहीं दूसरी तरफ चंद पुलिसकर्मियों की वजह से उनकी मेहनत पानी में मिल जाती है. ताजा मामला सीतापुर (Sitapur) का है, जहां ड्यूटी के दौरान नशे की हालत में अपनी सरकारी राइफल से करीब 20 राउंड फायरिंग की. फायरिंग से केंद्रीय आयुध भंडार में तैनात सिपाहियों सहित पीएसी के अधिकारियों में हड़कंप मच गया. हालाँकि गोली किसी को लगी नहीं लेकिन काफी मशक्कत के बाद सिपाही को काबू में किया गया.


अन्य सिपाहियों की सूझ-बूझ से टला हादसा

जानकारी के मुताबिक, सीतापुर (Sitapur) में केंद्रीय आयुध भंडारण की सुरक्षा को लेकर एटा पीएसी की एक कंपनी तैनात है. इसी कम्पनी में सिपाही सुरेन्द्र सिंह भी है. जिसने शराब पीकर अचानक अपनी सरकारी रायफल से फायरिंग शुरू कर दी. गोलियों की आवाज आते ही वहां हड़कम्प मच गया. मौके पर मौजूद सिपाहियों ने काफी मशक्कत के बाद उस पर काबू पाया और सिपाही को पकड़कर उसकी राइफल जमा करा ली.


Also Read : अलीगढ़: हैदराबाद एनकाउंटर के बाद सीओ ने बांटे लड्डू, लगवाए ‘यूपी पुलिस जिंदाबाद’ के नारे


सीतापुर पीएसी उप सेनानायक हरि गोविंद ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि सीतापुर में स्थित केंद्रीय आयुध भंडार में पूरे उत्तर प्रदेश का गोला बारूद रखा हुआ है. जिसकी सुरक्षा में पीएसी को तैनात किया है. इस फायरिंग एक बड़ा हादसा भी हो सकता था लेकिन अन्य सिपाहियों की समझदारी की वजह से इस हादसे को टाल दिया गया. इस पूरे प्रकरण से एटा के कमांडेंट को अवगत करा दिया गया है. सिपाही के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी.


Also Read : यूपी: अब सिपाहियों को मिलेगी एक दिन की छुट्टी, रोस्टर हुआ तैयार, आज से शुरू होगी व्यवस्था


पहले भी जा चुका है जेल

वहीं इस सिपाही के बारे में ये बात भी सामने आ रही है कि पीएसी में तैनाती के दौरान वह समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की आवाज निकाल कर अधिकारियों को फोन करता था इसी मामले को लेकर सिपाही सुरेंद्र जेल भेजा गया था. बावजूद इसके सिपाही की हरकतें नहीं सुधरीं.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

आगरा के बाद अब कासगंज में हुई होमगार्डों की छंटनी, 300 को किया गया ड्यूटी से मुक्त

Shruti Gaur

Special: जब बारात में कार ले जाने के लिए सुलखान सिंह के पास नहीं थे पैसे, पिता से बोले- बैलगाड़ियां हैं न, आपकी बहू इसी से विदा करा लाएंगे

Jitendra Nishad

भारत-पाकिस्तान सीमा पर जासूसी के शक में पकड़ा गया मो. शाहरूख, जांच में जुटा खुफिया विभाग

BT Bureau