Breaking Tube
Police & Forces Politics

हैदराबाद एनकाउंटर के बाद मायावती के सवाल पर UP Police ने दिया जबाव, कहा- आंकड़े बोलते हैं, जंगल राज अतीत की बात, अब नहीं

हैदराबाद में दरिंदों के एनकाउंटर के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी पुलिस (UP Police) पर सवाल उठाये थे. जिसके बाद अब यूपी पुलिस ने भी ट्वीट करके अपने आंकड़े गिनाये हैं. दरअसल, मायावती के सवालों पर यूपी पुलिस ने अपने ट्वीटर हैंडल पर ये बताया है कि यूपी पुलिस का दावा है कि दो साल में 103 अपराधियों का एनकाउंटर किया गया है. इसी के साथ यूपी पुलिस ने ये भी साफ़ कर दिया कि जंगलराज अतीत की बात है.


मायावती ने उठाये थे सवाल

जानकारी के मुताबिक, बसपा सुप्रीमो मायावाती ने हैदराबाद एनकाउंटर के बाद ये कहा था कि यूपी पुलिस (UP Police) और दिल्ली पुलिस को हैदराबाद पुलिस से सीख लेनी चाहिए. अगर पुलिस अलर्ट रहती तो निर्भया केस कभी नहीं होता. उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं, लेकिन सरकार सो रही है. यूपी में हर रोज इस तरह की घटना हो रही है. महिला अपराध भी हर रोज होते हैं. अपने टाइम पर हमने कई लोगों को जेल भेजा जबकि इस सरकार में अपराधी मेहमान बने हुए हैं. दिल्ली-यूपी पुलिस को भी बदलना चाहिए. यूपी में कानून का राज बिलकुल नहीं है.


Also Read : हैदराबाद एनकाउंटर पर बोलीं मायावती- इनसे सीख ले UP Police, अपराधियों पर ऐसे ही करें कार्रवाई


यूपी पुलिस ने किया ट्वीट

इस नसीहत के बाद यूपी पुलिस ने एनकाउंटर के आंकड़े जारी किए है. यूपी पुलिस का दावा है कि दो साल में 103 अपराधियों का एनकाउंटर किया गया. यूपी पुलिस ने अपने ट्विटर पर लिखा, ‘आंकड़े अपने आप बोलते हैं. जंगल राज अतीत की बात है. अब नहीं है. पिछले 2 सालों में 5178 मुठभेड़ की घटनाएं हुई हैं, जिसमें 103 अपराधी मारे गए और 1859 घायल हुए. 17745 अपराधियों ने आत्मसमर्पण किया या जेल जाने के लिए अपनी खुद की बेल रद्द कर दी.


आज सुबह हुआ एनकाउंटर

बता दें कि हैदराबाद में रेप कांड के चारों आरोपियों का एनकाउंटर कर दिया गया है. इन चारों आरोपियों पर महिला वेटेरनरी डॉक्टर के साथ रेप का आरोप था. पुलिस का दावा है कि ये सभी आरोपी भागने की कोशिश कर रहे थे और इस दौरान पुलिस की ओर से हुई फायरिंग में सभी आरोपी मारे गए हैं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यह एनकाउंटर आज तड़के 3 बजे हुआ है. मिली जानकारी के मुताबिक अदालत में चार्जशीट दाखिल करने के बाद इन चारों आरोपियों को घटनास्थल पर ले गई थी ताकि ‘सीन ऑफ क्राइम’ (रिकंस्ट्रक्शन) की जांचने के लिए ले गई थी.


इसी दौरान उनमें से एक आरोपी ने पुलिसकर्मी का हथियार छीन कर भागने की कोशिश करने लगा. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अगर यह आरोपी भाग जाते तो बड़ा हंगामा खड़ा हो जाता इसलिए पुलिस के पास दूसरा कोई रास्ता नहीं था और जवाबी फायरिंग में चारो आरोपी मारे गए. वहीं इस मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

खुशखबरी: कस लें कमर…5873 पदों पर जल्द भर्ती निकालेगा पुलिस विभाग

BT Bureau

CM योगी के फॉर्मूले ने बचाए 3100 करोड़ रुपए, अखिलेश-मायावती सरकार से सस्ती खरीदी जा रही बिजली

Jitendra Nishad

केजरीवाल पर अल्का लांबा का गंभीर इल्ज़ाम, बदले की भावना से काम करते हैं सीएम, मेरे साथ तो..

BT Bureau