Breaking Tube
Politics

यूपी: अखिलेश यादव का बड़ा फैसला, प्रदेश में SP की सभी इकाइयां भंग

Akhilesh yadav

लोकसभा चुनाव 2019 में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन के बावजूद नुकसान झेलने वाली समाजवादी पार्टी में आने वाले दिनों में बदलाव देखने को मिल सकते हैं. दरअसल सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने तत्काल प्रभाव से पार्टी के समस्त युवा प्रकोष्ठों व अन्य प्रकोष्ठों की राष्ट्रीय कार्यकारिणी उनके राष्ट्रीय अध्यक्षों सहित भंग कर दी है.


akhilesh-1_082319041036.jpg

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि सिर्फ प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ही अपने पद पर बने रहेंगे. माना जा रहा है कि अब नए सिरे से पूरी कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा. समाजवादी पार्टी ने तत्काल प्रभाव से समाजवादी पार्टी के सभी युवा संगठनों,  छात्र सभा, महिला संगठन और सभी प्रकोष्ठों  के राष्ट्रीय अध्यक्षों को भी पद मुक्त कर दिया है. साथ ही पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष सहित राष्ट्रीय, राज्य कार्यकारिणी भी भंग कर दी है.


समाजवादी पार्टी ने अभी प्रदेश स्तर पर यह बदलाव किया है. पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर भी यह फैसला ले सकती है. माना जा रहा है कि समाजवादी पार्टी बड़े संगठनात्मक बदलाव की तैयारी में है. पार्टी में लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम के बाद से ही मंथन जारी है. समाजवादी पार्टी में राष्ट्रीय स्तर बदलाव देखने को मिल सकते हैं.


बता दें अखिलेश यादव इस बार लोकसभा चुनाव में बसपा के साथ मिलकर चुनाव लड़े थे. इसके बावजूद वो महज 5 सीटें ही जीत सके, जबकि बसपा ने 10 सीटें जीत लीं. सपा इस बार अपने गढ़ फिरोजाबाद, कन्नौज और बदांयू में भी चुनाव हार गई. चुनाव परिणाम के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने हार का ठीकरा सपा पर ही फोड़ दिया और आने वाले उपचुनाव में अकेले लड़ने की बात कही.


Also Read: आजम के करीबी पूर्व CO आले हसन समेत सपा के 8 कार्यकर्ताओं के खिलाफ केस दर्ज, छेड़छाड़, मारपीट, लूट और फायरिंग का आरोप


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

भाजपा नेता का पीएम मोदी को पत्र- धर्मांतरण व अंधविश्वास विरोधी कठोर और प्रभावी कानून बनाने की मांग

BT Bureau

तीन तलाक विधेयक को समर्थन देने के बदले कांग्रेस ने मांगा गुजारा भत्‍ता प्रावधान

BT Bureau

अयोध्या राम मंदिर : अपने हिस्से की जमीन देने को तैयार शिया वक्फ बोर्ड

Satya Prakash