Breaking Tube
Politics

उन्नाव कांड को लेकर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, बोले- कानून व्यवस्था ठीक नहीं कर सकते तो इस्तीफ़ा दें सीएम और DGP

Akhilesh Yadav sat on a protest regarding Unnao Gangrape Case said resigns CM Yogi Adityanath and DGP OP Singh

उत्तर प्रदेश के उन्नाव (Unnao) में हुए गैंगरेप (Gangrape) और पीड़िता की मौत के बाद योगी सरकार (Yogi Government) फंसती नजर आ रही है. कई राजनीतिक दलों द्वारा योगी सरकार पर निशाना साधा जा रहा है. वहीं, गैंगरेप पीड़िता की मौत को लेकर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) विधानभवन के सामने धरने पर बैठ गए है. अखिलेश के धरने पर बैठने की सूचना मिलते ही कार्यकर्ताओं का विधानभवन पहुंचना शुरू हो गया. अखिलेश यादव ने पीड़िता की मौत को काला दिन (Black Day) करार दिया और इस घटना को अत्यंत निंदनीय बताया है. उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) पर तंज कसते हुए कहा कि ‘उन्होंने कहा था कि अपराधियों को ठोक दिया जाएगा, लेकिन वे तो एक बेटी की जान तक नहीं बचा सके’.


Also Read: उन्नाव मामले में सियासत तेज, अखिलेश ने विधानसभा के बाहर दिया धरना तो पीड़ित परिवार से मिलीं प्रियंका गांधी


धरने पर बैठे अखिलेश यादव ने प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था, महिलाओं के प्रति अपराधों में वृद्धि पर आक्रोश जताया. उन्होंने दो मिनट का मौन रखकर दुष्कर्म पीड़िता को श्रद्धांजलि दी. अखिलेश ने कहा कि ‘जब तक प्रदेश के सीएम योगी, प्रदेश के गृह सचिव अवनीश कुमार और डीजीपी ओम प्रकाश सिंह इस्तीफा नहीं देंगे, तब तक न्याय नहीं होगा’. उन्होंने बताया कि वह अपनी पार्टी के साथ रविवार को उन्नाव रेप केस को लेकर उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में एक शोक सभा का आयोजन करेंगे.



मीडियाकर्मियों से बातचीत में अखिलेश ने कहा कि ‘उन्नाव की घटना भयानक है. इस सरकार में यह पहली घटना नहीं है. आज हमारे लिए काला दिवस है. डाक्टरों की कोशिश के बाद भी उन्नाव की बेटी की जान नहीं बच सकी. सपा रविवार को सभी जिला मुख्यालयों में शोकसभाएं करके उन्नाव की बेटी को श्रद्धांजलि देंगे. अखिलेश ने कहा कि ‘सरकार पीड़ितों के साथ भेदभाव कर रही है. एक पीड़िता को 10 लाख दिए. प्रतापगढ़ के अनुसूचित जाति के दो लोग की मौत और उन्नाव में जिंदा जला देने के मामले में सरकार ने कोई मदद नहीं की. बीजेपी के जैसे हम गंदी सियासत नहीं करते हैं’.


Also Read: Video: दुष्कर्म की वारदातों पर भड़कीं सपा सांसद जया बच्चन, पत्रकार से कहा- कहीं मैं आपको पकड़ कर मार न दूं


विधानभवन के सामने सांकेतिक धरने के बाद अखिलेश ने कहा कि ‘उन्नाव की घटना बहुत दुखद. इसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है. इस सरकार में ना बेटियां सुरक्षित है ना उनका सम्मान सुरक्षित है. क्या यही बीजेपी का नारा था. साथ ही उन्होंने कहा कि ‘समाजवादी सरकार ने दुनिया की सबसे बेहतरीन महिला हेल्प लाइन 1090 दी. लेकिन, सरकार ने इसे बर्बाद कर दिया. सरकार को सत्ता में बने रहने का अधिकार नहीं है. मुख्यमंत्री, डीजीपी और प्रमुख सचिव के हटे बिना प्रदेश में कानून व्यवस्था स्थापित नहीं हो सकती’.


धरने पर बैठे पूर्व सीएम अखिलेश यादव

आगे उन्होंने कहा कि ‘पूरा देश हैदराबाद की घटना को लेकर गुस्से में था. वैसी ही दुखद व निंदनीय घटना उन्नाव में हो गई. यह बीजेपी सरकार में पहली घटना नहीं है. उन्नाव की बेटी बहादुर थी. उसके आखिरी शब्द थे कि हमें जिंदा रहना है. वह डॉक्टर से यही कह रही थी. मुख्यमंत्री आवास पर पहले भी उन्नाव से लड़की आई, बाराबंकी से लड़की आई थी लेकिन न्याय अभी तक नहीं मिला. लड़की की मौत के लिए सरकार दोषी है. जिन पर रेप व जलाने के आरोप हैं वे बीजेपी से जुड़े लोग हैं. उन्नाव की बेटी हमारे बीच नहीं रही लेकिन लड़ने की प्रेरणा देती रहेगी’.


Also Read: हैदराबाद एनकाउंटर पर बोलीं मायावती- इनसे सीख ले UP Police, अपराधियों पर ऐसे ही करें कार्रवाई


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

जनसरोकारों से जुड़ रही है भाजपा की गांधी संकल्प यात्रा: पंकज सिंह

Praveen Bajpai

आजम के खिलाफ भैंस चोरी के 2 और मुकदमें दर्ज, अब तक 78 केस, सपा नेता पर गिरफ्तारी की लटकी तलवार

BT Bureau

Video: उद्धव ठाकरे के लिए ‘तड़प’ रहीं हैं राखी सावंत, जानें पूरा मामला!

Satya Prakash